रिलेशनशिप में पार्टनर्स के बीच झगड़ा होना आम बात है लेकिन झगड़ा होने के बाद आप दोनों का ही मन उदास हो जाता है. साथ ही यह भी जरुरी है कि आप किस तरह से इस झगड़ें को सुलझाते हैं और वापस अपने रिश्ते को खुशमिजाज बनाते हैं. हर रिश्ते में उतार-चढ़ाव तो आते ही रहते हैं. अच्छी और बुरी परिस्थितियों का असर आपके रिश्तों पर भी पड़ता है. लेकिन उस समय गलती चाहें किसी की भी हो झगड़ा खत्म होने के बाद आप और आपके पार्टनर सुलह कर ही लेते हैं और यही रिश्ते को मजबूत बनाता है. हालांकि अगर हम कहें कि पार्टनर से झगड़ा होना अच्छी बात है तो क्या आप मानेंगी? हम जानते हैं कि आपका जवाब ना ही होगा. लेकिन हम बता दें कि ऐसा हम नहीं कह रहे. यह दावा एक रिसर्च ने किया है. आइए जानते हैं क्या है मामला.

हाल ही में आए एक शोध में पता चला है कि किसी रिश्ते में होने पर लोग जब झगड़ा करते हैं तो उन्हें अपने मन की सभी नाराजगी को जाहिर कर देना चाहिए. अगर वो नाराजगी और गुस्से को मन में दबाकर रखते हैं इससे उनका स्वास्थ्य खराब हो सकता है साथ ही वो तनाव में रहते हैं.

शोध में कहा गया है कि जो लोग विवाद के दौरान पार्टनर से अपने गुस्से को बयां कर देते हैं वो लोग कम बीमार होते हैं. हालांकि रिसर्चर का कहना है कि इसके लिए जरुरी है कि आप विवाद से समान रूप से निपटें.

यह रिसर्च एरिजोना यूनिवर्सिटी के मनोविज्ञान विभाग के शोधकर्ताओं ने किया है. शोध में यह भी कहा गया है कि जो लोग पार्टनर से झगड़े के बाद अपने गुस्से को दबा लेते हैं उनमें बीमारियां होने का खतरा अधिक होता है साथ ही इसके जोखिम जानलेवा तक हो सकते हैं.

इस शोध के लिए 192 कपल्स के रिश्तों पर 32 साल से अधिक समय के लिए विश्लेषण किया गया था. विश्लेषण के दौरान शोधकर्ताओं ने इस बात पर ध्यान दिया कि झगड़े के दौरान अपने गुस्से को जाहिर करने या दबाव कर रखने से पार्टनर की जिंदगी पर क्या असर होता है.

शोध के अनुसार, अगर दंपति में से पुरुष अपने गुस्से को जाहिर नहीं करते हैं और महिलाएं अपने गुस्से को जाहिर करती हैं तो पुरुषों में मौत की संभावनाएं 51 प्रतिशत और महिलाओं में मौत की संभावनाएं 36 प्रतिशत बढ़ जाती हैं. इसलिए अगली बार जब आप पार्टनर से झगड़ा करें तो बा करके सुलझाएं नाकि चुप रहें.

Tags:
COMMENT