हाल ही में कोविड—19 महामारी ने दुनिया को अभूतपूर्व रूप से बदल कर रख दिया है. इन बदले हालातों के लिए हमें अपने बच्चों को तैयार करना होगा. यह तभी संभव है जब हम उन्हें जरूरी कौशल सिखाएं ताकि वे सभी हालातों का सामना करने के लिए खुद को मजबूत बना सकें.डॉ. पल्लवी राव चतुर्वेदी के अनुसार किसी भी बच्चे के जीवन के शुरूआती पांच साल बहुत महत्वपूर्ण होते हैं, इन वर्षों में ही उनमें स्वास्थ्य, मानसिक—शारीरिक विकास और प्रसन्नता, भविष्य के लिए आकार लेते हैं. 'जीवन कौशल शिक्षा', विद्यालय में पढ़ाई जाने वाली शिक्षा के अतिरिक्त की शिक्षा है. बच्चों को यह कौशल शिक्षा, प्रशिक्षण और महत्वपूर्ण गतिविधियों के माध्यम से घर पर ही उपलब्ध कराई जा सकती है.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 2000 से ज्यादा कहानियां
  • ‘कोरोना वायरस’ से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • हेल्थ और लाइफ स्टाइल के 3000 से ज्यादा टिप्स
  • ‘गृहशोभा’ मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • 2000 से ज्यादा ब्यूटी टिप्स
  • 1000 से भी ज्यादा टेस्टी फूड रेसिपी
  • लेटेस्ट फैशन ट्रेंड्स की जानकारी
Tags:
COMMENT