फ्लर्टिंग के मामले में अकसर पुरुष बदनाम होते हैं. माना जाता है कि वे लड़कियों को देखते ही उन पर लाइन मारने लगते हैं. उन्हें रिझाने के लिए तरहतरह की हरकतें करते हैं. लेकिन ऐसा नहीं है. पुरुष के मुकाबले महिलाएं 5 तरह के ऐसे सैक्सी बौडी सिगनल्स देती हैं, जिन से पुरुषों को यह इशारा मिल जाए कि वे उन्हें लाइक करती हैं.

शोध में वैज्ञानिकों ने यह बात मानी है कि फ्लर्ट करने में महिलाएं भी पुरुषों के मुकाबले कहीं पीछे नहीं हैं. एक बायोलौजिस्ट ने भी अपनी रिसर्च में यह खुलासा किया है कि महिलाएं पुरुषों से ज्यादा फ्लर्टिंग करती हैं.

हेलन फिशर नाम के इस साइंटिस्ट ने अपनी नई बुक ‘एनाटोमी लव’ में यह खुलासा किया है कि महिलाएं अपने ऐक्स्प्रैशन से ही बता देती हैं कि वे पुरुष में इंट्रैसटेड है या नहीं. यह महिला की स्माइल और आंखों से पता लगाया जा सकता है. इस पूरे रहस्य को जानने के लिए वाशिंगटन के एक एंथ्रोपोलौजिस्ट डैविड गिवन्स और सैक्सोलौजिस्ट टिमोथी पर्पर ने कई ‘बार’ और ‘क्लबों’ में सैकड़ों घंटे बैठ कर कपल्स को उन की पहली मुलाकात में देखा.

इस पूरी रिसर्च में जो रिजल्ट सामने आया वह काफी चौंकाने वाला था, क्योंकि उन में से आधे से ज्यादा केसों में महिलाओं ने ही पहल की थी. हेलन फिशर ने 25 हजार सिंगल लड़केलड़कियों पर 2010 में स्टडी की थी, जिस में पाया कि हर उम्र और रंग की महिलाएं ही ऐसे मामलों में ज्यादा पहल करती हैं.

इस के बाद 2012 में लगभग 50 हजार पुरुषों ने माना था कि उन्हें किसी महिला ने बाहर मिलने जाने का निमंत्रण दिया और इन में 95% पुरुष इस बात से खुश थे. उन्होंने बताया कि महिलाएं और पुरुष दोनों ही इन में एक अहम रोल अदा करते हैं, लेकिन अगर किसी एक ने ‘हिंट’ मिस कर दिया तो पूरा खेल भी खत्म हो सकता है.

फ्लर्टिंग के संकेत

कुछ संकेत, जो महिलाएं फ्लर्ट करने के लिए इस्तेमाल करती हैं ताकि पुरुष भी समझ सकें उन की फ्लर्टिंग लैंगवेज को:

– जब कोई महिला बातचीत के दौरान काफी करीब आने की कोशिश करे, तो इस का मतलब है कि वह उस पुरुष को पसंद करती है.

– वैसे तो महिलाएं पुरुषों से बराबर दूरी बनाए रखती हैं, लेकिन फ्लर्ट के दौरान वे आप से ज्यादा टची होने की कोशिश करेगीं. हालांकि उस बात के लिए वे सौरी बोल देंगी, लेकिन जिस तरह से उन का टच होगा, आप समझ जाएंगे यह फ्लर्ट है.

– जब महिला किसी पुरुष के सामने बारबार अपने बालों को कानों के पीछे ले जाने लगे या फिर उन्हें अपनी उंगलियों से घुमाने लगे, तो बात सीधी है कि वह उस पुरुष की ओर आकर्षित हो रही है.

– पुरुष से बात करते समय जब महिला अपने हाथों को रब करे या अपने शरीर को टच करे जैसे गरदन, बाहों पर हाथ फेरे तो संकेत है कि आप उसे कौफी के लिए इन्वाइट करें, वह मना नहीं करेगी.

– अगर बात करते वक्त महिला देर तक आई कौंटैक्ट रखे या फिर एक खास अंदाज में अपनी नजरें झुका ले, तो समझएि वह आप की ओर आकर्षित हो रही है.

– अपने पुरुष मित्र से मिलने पर उस का मुसकरा कर स्वागत करना, देखते ही अपने कपड़े ठीक करने लगना फ्लर्टिंग के लक्षण हैं.

– फ्लर्टिंग में माहिर महिला यह बात अच्छी तरह जानती है कि पुरुष को किस तरह से अपनी ओर आकर्षित कर के दिल की बात उन तक पहुंचाई जा सकती है.

– अगर वह आप के करीब आने लगे या फिर टच करने की कोशिश करे, तो ये आप के लिए ग्रीन सिगनल है.

– जो महिला फ्लर्टिंग में माहिर होती है, वह बहुत ही स्मार्टली सिर्फ उतनी ही स्किन रिवील करेगी, जिस से पुरुष का ध्यान उस की तरफ आकर्षित हो या उस के बाद उस के ही खयालों में खो जाए.

– फ्लर्टी महिला पुरुष मित्र के पास आ कर बड़े सैक्सी अंदाज में धीरेधीरे कुछ कहेगी ताकि वह यह समझ जाए कि वह उसे अच्छा लग रहा है.

क्या सोचती हैं महिलाएं

– फ्लर्टिंग को ले कर महिलाओं का कुछ और ही सोचना है. उन का कहना है कि फ्लर्टिंग की कला न सिर्फ आप को ऐसे खुशनुमा पलों को जीने का मौका देती है, बल्कि रिफ्रैश भी कर देती है और इस कला में अब वे भी किसी से पीछे नहीं रही हैं, बस उन का तरीका पुरुषों से थोड़ा अलग है.

– महिलाओं का कहना है कि फ्लर्टिंग आप को फ्रैश और रोमांटिक बनाए रखती है. इस से आप को कौंफिडैंस मिलता है. जिंदगी रंगीन लगने लगती है.

– महिलाओं का मानना है कि अगर कोई उन के दिल को भा रहा है, तो उस से फ्लर्ट करने में कोई बुराई नहीं है.

– फ्लर्टिंग में दोनों पक्षों के लिए फील गुड फैक्टर जुड़ा होता है.

– महिलाओं का सोचना है कि क्या पता फ्लर्टिंग से शुरुआत हुई बात रोमांटिक रिश्ते तक पहुंच जाए.

– फ्लर्टिंग को कभीकभार लोग आप के चरित्र से जोड़ कर देखने लगते हैं, ऐसे में फ्लर्टिंग थोड़ी संभल कर करनी चाहिए और उसी के साथ करनी चाहिए जो आप की ही तरह ओपन माइंडेड हो.

– फ्लर्टिंग कभी गलत मकसद से नहीं की जानी चाहिए. फ्लर्टिंग का मकसद यह हो कि आप भी खुश रहें और सामने वाला भी.

– अगर कोई अच्छा लग रहा हो, तो उसे देखना, उसे देख कर मुसकराने और बातें करने में कोई बुराई नहीं है. बशर्तें इरादे नेक हों.

– कोई अच्छा लग रहा हो, तो उसे कौंप्लिमैंट जरूर करना चाहिए.

फ्लर्ट करने के नुकसान

इस बात का ध्यान रहे कि फ्लर्टिंग के आप को नुकसान भी भुगतने पड़ सकते हैं.

– भले ही आप के इरादे नेक हों, पर फ्लर्टिंग करने वाली महिला को समाज में अच्छा नहीं समझा जाता है. कहीं न कहीं इस बात से ले कर उस के चरित्र को आंका जाता है. लोग महिला को ले कर तरहतरह की बातें बनाने लगते हैं. हो सकता है आप का गलत फायदा भी उठाया जाए. हो सकता है फिर कोई आप को गंभीरता से न ले और मजे के लिए आप से बातें करें या दोस्ती रखे.

– फ्लर्टिंग करतेकरते भावनात्मक लगाव होना स्वाभाविक है. ऐसे में फ्लर्टिंग बहुत सोचविचार कर करें वरना रिश्तों में समस्या पैदा हो सकती है.

– महिलाओं के फ्लर्टिंग के अंदाज को कुछ पुरुष गलत समझ बैठते हैं और उन के इशारों को गलत दिशा में ले जाते हैं. ऐसे में फ्लर्टिंग की कला को जाननेसमझने का तरीका सही रहेगा ताकि आगे आप धोखा न खा सकें.

शोधकर्ता का कहना है कि अपनी यौन रुचियों को ले कर महिलाओं के गैरशाब्दिक संकेतों को भी पुरुष नहीं समझ पाते. ऐसे में जरूरी है कि हम महिलाओं के इन इशारों का मतलब समझ सकें.

Tags:
COMMENT