वर्ल्ड हेल्थ आर्गेनाईजेशन के मुताबिक़ भारत की करीब 30% आबादी नियमित रूप स शराब का सेवन करती है. नेशनल क्राइम रिकार्ड्स ब्यूरो के आंकड़ों के मुताबिक भारत में प्रतिदिन करीब 15 लोगो की मौत शराब की लत के कारण होती है.

जिन महिलाओं के पतियों को शराब की लत होती है उन्हें अपने और अपने बच्चों की सुरक्षा और भविष्य को ले कर हमेशा चिंता बनी रहती है. कई बार ऐसी स्थिति आती है कि महिलाएं हिम्मत हार जाती हैं. इस सन्दर्भ में रिलेशनशिप रिफार्मर, मानव आहुजा कहते हैं कि यह सच है, एक शराबी पति के साथ रहना वैवाहिक जीवन की सब से बड़ी चुनौतियों में से एक है. पर धैर्य और तर्कसंगत तरीके से निपटने का प्रयास किया जाए तो इस से निजात पाया जा सकता है. क्योंकि अल्कोहलिज़्म एक बीमारी है जो समय के साथ ठीक हो सकती है.

अपना व्यवहार संयमित रखें

जब आपके पति नशे में हों तो आप चीखेचिल्लाएं नहीं.  इस से स्थितियां और खराब होंगी. अगर आप अपना व्यवहार संयमित रखेंगी तो इस का आपके पति पर अच्छा प्रभाव पड़ेगा. समय के साथ वे अपनी गलती महसूस करेंगे. अगर स्थितियां आप के बर्दाश्त के बाहर हो जाएं तब भी धैर्य और शांति बनाएं रखें, क्यों कि यह  आप के और आपके बच्चों के जीवन के लिए बहुत जरूरी है.

अपने आप पर फोकस करें

अगर आप सारा दिन अपने पति की शराब की लत को लेकर कुढ़ती रहेंगी तो यह आप के जीवन में ग्रहण लगा देगा. हमेशा अपने पति के बारे में न सोचती रहें, अपने और अपने बच्चों के बारे में भी सोचें. अपना ध्यान रखें. अपने लिए समय निकालें. अपने दोस्तों या परिवार के साथ आउटिंग पर जाएं. मूवी देखें. कहीं बाहर खाना खाएं. इस से आप का स्ट्रेस लेवल कम होगा. स्टैमिना बढ़ेगा और आप अपनी परेशानियों को बेहतर तरीके से हल कर पाएंगी.

काउंसलिंग है जरूरी

अपने पति को किसी साइकिएट्रिस्ट या रिलेशनशिप रिफार्मर के पास लेकर जाएं. आप चाहें तो अपने परिवार के किसी ऐसे सदस्य की सहायता भी ले सकती हैं जो इस स्थिति से बाहर आया हो. कई मामलों में काउंसलिंग के बड़े पौजिटिव रिजल्ट आते हैं.

चर्चा करें

जब आपके पति नशे में न हों तब उन से विभिन्न विषयों पर खुलकर चर्चा करें. उन्हें समझाएं कि किस तरह उन की शराब की लत शादी और उन के जीवन को प्रभावित कर रही है. फ्युचर विजुलाइज कराएं कि उन की शराब पीने की लत का बच्चों पर कितना गलत प्रभाव पड़ रहा है. अगर ऐसा ही चलता रहा तो बच्चे
उन का सम्मान करना बंद कर देंगे. अगर उन्होंने अपनी आदतें नहीं सुधारीं तो भविष्य में कईं समस्याएं होने वाली हैं.

सेहत से जुड़ा डर पैदा करें

सेहत  को ले कर अपने पति के मन में थोड़ा भय विकसित करें. उन्हें अपने आसपड़ोस, दोस्तों या रिश्तेदारों में से किसी का उदाहरण देकर बताएं कि किस तरह से शराब की लत ने उनकी सेहत को खराब कर दिया है. अगर आप लगातार उन्हें उन की सेहत को लेकर समझाती रहेंगी तो वह जरूर सोचने पर मजबूर हो जाएंगे कि किस तरह नशा उन की सेहत को नुकसान पहुंचा रहा है.

मोटिवेट करें

उन्हें अपने साथ योगा क्लासेस लें जाएं, इस से विल पावर स्ट्रांग होगी और उन के लिए इस लत से बाहर होना संभव होगा. अगर आप के शहर में कोई मोटिवेशनल सेमिनार हो रहा है तो आप वीकएंड पर अपने पति के साथ वहां जाएं. इस से ज्ञान  भी बढ़ेगा और जिंदगी को देखना का नज़रिया भी बदलेगा. उन्हें इंटरनेट पर भी मोटिवेशनल विडियोज़ देखने के लिए प्रेरित करें.

बुरी संगत से दूर रखें

अपने पति को ऐसे दोस्तों या परिवार के सदस्यों से दूर रखें जो उन्हें शराब पीने को उकसाते हैं. पति को  समझाएं कि ऐसे लोगों का साथ उन के निजी जीवन और परिवार को कितना प्रभावित कर रहा है. अगर फिर भी वह उन से मिलने की जिद करें तो उन्हें महीने में 1 या 2 बार से अधिक न जाने के
लिए मना लें.

कुछ समय के लिए दूरी बढ़ा लें

अपने बच्चों के साथ कुछ दिन के लिए अपने मायके या किसी रिश्तेदार के यहां चली जाएं. अपने पति को अहसास कराएं कि उन की शराब की लत की वजह से उन्हें ये निर्णय लेना पड़ा है. फोन भी न करें, उन्हें आप की जरूरत और अहमियत का अहसास होने दें.

 

COMMENT