दिल्ली के पश्चिम विहार इलाके में रहने वाले प्रतीक (29) ने जब अपने घर में सिया (25,बदला नाम) के बारे में बताया तो मानो घर में पहाड़ टूट पड़ा हो. सिया के बारे में सुनते ही प्रतीक के घरवाले खुद को दोतरफा चोट खाया हुआ महसूस करने लगे. एक, सिया उन के अपने राज्य उत्तराखंड से नहीं थी, वह यूपी से ताल्लुक रखती थी. दूसरी व बड़ी बात यह कि वह जाति से भी अलग थी. दरअसल प्रतीक और सिया काफी समय से एकदुसरे से प्रेम कर रहे थे. साथ में समय बिताते हुए दोनों के बीच आपसी अंडरस्टेंडिंग काफी अच्छी हो गई थी. दोनों ने शादी करने का फैसला किया. लेकिन उन दोनों के प्रेम सम्बन्ध और शादी के बंधन के बीच उन की जाति आड़े आ रही थी. जहां प्रतीक ऊंची जाति से था वहीँ सिया कथित नीची जाती से थी.

प्रतीक के घर में काफी हंगामा बरपा. शहरी रहनसहन होने के बावजूद जाति की खनक परिवार के कान में शोर मचा रही थी, यह वही खनक थी जिस में खुद की जातीय श्रेष्टता का झूठा गौरव ऊंचनीच के भेदभाव की नीव को सदियों से मजबूत कर रहीहै. प्रतीक के घर में शादी के लिए नानुकुर हुई. ऐसे में सगेसम्बन्धी कहां पीछे रहने वाले थे, उन्हें तो खासकर तुड़का मारना ही था. बात परिवार की इज्जत पर आ गई, ले देकर परिवार की सहमती बनी कि यह शादी हरगिज नहीं होनी चाहिए. कई बार प्रतीक के समझाने के बाद भी घर वाले नहीं मान रहे थे तो अंत में दोनों ने सहमती बनाई और कोर्ट मैरिज कर ली.फिलहाल वे परिवार से अलग अच्छी जिंदगी काट रहे हैं लेकिन उम्मीद इसी बात की करते हैं कि एक दिन प्रतीक के मातापिता सिया को बहु के तौर पर स्वीकार कर लेंगे.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 2000 से ज्यादा कहानियां
  • ‘कोरोना वायरस’ से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • हेल्थ और लाइफ स्टाइल के 3000 से ज्यादा टिप्स
  • ‘गृहशोभा’ मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • 2000 से ज्यादा ब्यूटी टिप्स
  • 1000 से भी ज्यादा टेस्टी फूड रेसिपी
  • लेटेस्ट फैशन ट्रेंड्स की जानकारी
Tags:
COMMENT