मेरे दादाजी की मृत्यु के कुछ ही समय बाद ही मैंने अपनी दादी को खो दिया. जो मेरे लिए काफी दर्दनाक था. मुझे स्पष्ट रूप से याद है कि वह दादा जी की मृत्यु के बाद अकसर रोते हुए कहती थीं, "मैं जल्द ही तुम्हारे पास आऊंगी." दुखी रहने के कारण उनका धीरे-धीरे स्वास्थ्य गिरने लगा और साल भी नहीं हुआ उससे पहले ही वह चल बसीं.

जीवनसाथी या साथी को खोने का दुख न केवल भावनात्मक और मानसिक स्वास्थ्य बल्कि शारीरिक स्वास्थ्य को भी प्रभावित करता है और इस बात को बहुत से शोधों ने भी साबित किया है.

कहते हैं, जिसे हम सबसे ज्यादा प्यार करते हैं उसे खो देने के ख्याल से भी मन डरने लगता है. लेकिन क्या हो अगर वही साथ बीच में छूट जाए और वो हमेशा के लिए हमें छोड़कर एक ऐसी दुनिया का हिस्सा बन जाएं जहां से वो कभी नहीं लौट सके. प्यार का टूटना और उसका हमेशा के लिए दुनिया से रुखसत हो जाना दोनों ही अलग है. जब आपका प्यार टूटता है तो एक उम्मीद होती है, उसके वापस आने की. लेकिन जब वो दुनिया से ही रुखसत हो जाते हैं, तो सारी उम्मीदों में ‘वो काश’ शब्द जुड़ जाता है.

उदाहरण--

मैं रोज जब काम पर जाता हूं तो ऐसा लगता कि सब कुछ वैसा ही है जैसा हमेशा से था. लेकिन फिर जब मैं घर वापिस आता हूं तब वह खाली घर काटने को दौड़ता है. कोई हैलो कहने या मुझसे पूछने वाला नहीं है कि उस दिन मुझे कैसा लगा. रात के खाने की कोई स्वादिष्ट सुगंध नहीं होती. मुझे अपना खाना खुद बनाना पड़ता है. कभी-कभी तो अपने लिए कुछ बनाने का मन ही नहीं करता. हर टाइम मैं अपनी पत्नी की यादों में खोया रहता हूं. घर का हर कोना मुझे उस की याद दिलाता है.... क्योंकि जिसे खोया है वह न केवल मेरी पत्नी, बल्कि मेरी अच्छी दोस्त थी. समझ नहीं आता मैं उसके बिना अपना जीवन कैसे चलाऊं?"; कहना है मेरे एक मित्र का जिन्होंने अभी हाल ही में कोरोना की वजह से अपनी पत्नी को खोया है.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 2000 से ज्यादा कहानियां
  • ‘कोरोना वायरस’ से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • हेल्थ और लाइफ स्टाइल के 3000 से ज्यादा टिप्स
  • ‘गृहशोभा’ मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • 2000 से ज्यादा ब्यूटी टिप्स
  • 1000 से भी ज्यादा टेस्टी फूड रेसिपी
  • लेटेस्ट फैशन ट्रेंड्स की जानकारी
Tags:
COMMENT