‘हमारे आइडियाज  और हमारी मेहनत हमें दफ्तर में बॉस का प्रिय ही नहीं बल्कि दफ्तर का बॉस बनाते हैं’ यह कहना है गूगल की पैरेंटल कंपनी अल्फाबेट के मौजूदा सीईओ सुंदर पिचाई का. पिछले दिनों उन्होंने यह टिप्पणी सोशल मीडिया में एक महिला की पोस्ट पर की. इसके बाद से कारपोरेट जगत में बहस चल पड़ी है कि आखिर वह क्या चीज है जो हमें दफ्तर में अपने बॉस का प्रिय और सहयोगियों के बीच लोकप्रिय बनाती है.

भला हममें से कौन ऐसा होगा जो अपने ऑफिस में लोकप्रिय होना नहीं चाहता. लेकिन वाकई यह इतना आसान नहीं है कि बस चाहा और हो लिए. लोकप्रिय बनने के लिए सूझबूझ, समझदारी और कड़ी मेहनत करने की जरूरत होती है.यह समझ लें कि दफ्तर में कोई भी महज बड़ी-बड़ी बातें करके लोकप्रिय नहीं हो सकता,न ही अपने फैशनेबल कपड़ों और हैसियत के चलते लोकप्रियता हासिल करता है.व्यक्तित्व या कहें कद,काठी और आपकी ख़ूबसूरती का भी आपको लोकप्रिय बनाने में बहुत मामूली योगदान ही होता है.

सवाल है फिर हमें दफ्तर में क्या चीज लोकप्रिय बनाती है ?सुंदर पिचाई ने बिलकुल सही कहा है कड़ी मेहनत और फर्टाइल आइडियाज.निश्चित रूप से  किसी व्यक्ति को दफ्तर में यही चीजें लोकप्रिय बनाती हैं.लेकिन ये अंतिम चीजें  छोटी-छोटी बुनियादी बातों से मिलकर बनती हैं. जो अपने आप में तो बहुत खास नहीं होतीं, मगर आप में हों तो वे मिलकर आपको ‘बेहद खास’ बना देती हैं.इसमें सभी तरह की बातें शामिल होती हैं. मगर सबसे महत्वपूर्ण है आपका आत्मविश्वास और पहल करने वाला व्यक्तित्व.

ये भी पढ़ें- जिम्मेदारियों के बीच न भूलें जीवनसाथी को वरना हो सकता है ये अफसोस

आत्मविश्वास से भरा व्यक्तित्व किसी को कहीं भी लोकप्रिय बना देता है. कई लोगों के पास बेहतरीन आइडियाज़ और योजनाएं होती हैं. मेहनती भी होते हैं . लेकिन उनमें आत्मविश्वास की कमी होती है जिसके के चलते बॉस के साथ मीटिंग के दौरान ये लोग अपने विचार या सुझाव रखने का आत्मविश्वास नहीं दिखा पाते. भले ठीक उसी समय उनके दिमाग में नये विचार,नये सुझाव कुलबुली मचा रहे हों. लेकिन आत्मविश्वास की कमी के चलते बॉस के सामने मुखरता से अपनी बात रख पाने में उन्हें हिचकिचाहट होती है. हर समय दिल, दिमाग में यह डर समाया रहता है कि उनके सुझावों, विचारों पर बॉस न जाने कैसी प्रतिक्रिया करें?

वे यह भी सोचते हैं कि उनकी मुखरता के चलते कहीं दूसरे उससे ईर्ष्या न करने लगें. कहीं बॉस को ही न लगने लगे कि वह चमचागीरी कर रहा है. इस तरह की दर्जनों बातें ऐसे लोगों के दिलो-दिमाग को मथती रहती हैं. वजह चाहे जो भी हो,लेकिन एक बात समझ लीजिये कि ऐसी तमाम बातें बिना किसी शक ऑफिस में आपकी लोकप्रियता की बाधक हैं.इस तरह की झिझक आपके लिए ऑफिस में लोकप्रिय बनने का रास्ता बंद करती है.अतः यदि ऑफिस में लोकप्रिय होना चाहते हैं तो अपनी इस स्वभावगत कमी को तुरंत दूर करें नहीं.अगर ऐसा नहीं किया तो तो तमाम प्रतिभा,कौशल और योग्यता होने के बावजूद आप न सिर्फ लोकप्रियता बल्कि प्रमोशन से भी वंचित रह जाएंगे.

ऑफिस में लोकप्रिय होना चाहते हैं, तो बॉस के सामने अपने आइडियाज़ बेधड़क होकर रखें.अगर आपके आइडियाज़ में दम हैं, तो आप बॉस ही नहीं अपने सहकर्मियों के बीच भी प्रिय हो जाएंगे. लेकिन इन बातों का भी ध्यान रखें-

-अपने द्वारा दिये जाने वाले सुझावों पर बार-बार विचार करें. उसके अच्छे-बुरे नतीजों का जायजा लें. पूरे प्लान को दिमाग में अच्छी तरह रेखांकित करें.इसके बाद ही उसे बॉस के सामने रखें.

-अपने सुझावों के विषय में अपने उन सहकर्मियों से बात करें जिन्हें आप इसके योग्य समझते हों.

-अपने आइडियाज के बारे में किसी न्यूट्रल की राज जाने.

-यदि वे आपके विचारों,योजनाओं से सहमत नहीं हैं तो उनकी असहमति की वजह जानने का प्रयास करें.

– उसके सुझावों के बाद अपनी योजनाओं में उन्हें लागू करके उनका मूल्यांकन करने का प्रयास करें.

– नये सुझावों के साथ अपनी योजनाओं का मिलान करके उन्हें रेखांकित करने का प्रयास करें.

ये भी पढ़ें- लड़कों में क्या खोजती हैं लड़कियां

– बॉस के साथ डिस्कशन के दौरान बाकी सहकर्मियों की सकारात्मक या नकारात्मक प्रतिक्रिया के बारे में बात करने में आसानी रहती है.

– यदि आपके सीनियर्स इन योजनाओं, विचारों को अभी बॉस के सामने न रखने की सलाह दें, तो इसे मानते हुए अगली मीटिंग तक के लिए स्थगित करें.

Tags:
COMMENT