अकेलापन कोई अभिशाप नहीं है. उस के अपने गुण हैं जो एक व्यक्ति को सम्पूर्ण बनाते हैं और बहुत से तनावों से दूर रखते हैं. यदि आप अकेले अपनी मंजिल की डगर पर इस अहसास के साथ चल दें कि जिंदगी के द्वारा दिए गए वक्त में से उन लम्हों की भरमार है जो केवल आप के अपने हैं. इन में किसी की भी दखलंदाजी नहीं होगी. कहां कितनी देर ठहरना है, किस तरह की मस्ती करनी है, क्या खाना है और क्या खरीदना है ये सारे फैसले आप के अपने होंगे तो यकीन मानिये, आप जिस ख़ुशी का अनुभव करेंगे उस की कोई तुलना नहीं हो सकती. एक जूनून और कुछ नया खोजने की चाह आप के जीवन में नया रोमांच भर देगी. एक या दो का साथ सामाजिक सुरक्षा के लिए सही हो सकता है पर जहां उस की जरुरत न हो, यह एक गुण है. अकेले सफर के अपने फायदे हैं.

अकेले घूमने जाएं पर इन बातों का ख़याल जरूर रखें ;

1. सुरक्षा के लिए ट्रैवल इंश्योरेंस जरूर करा लें. ट्रैवल इंश्योरेंस कराने के बहुत सारे फायदे हैं. इस में यात्रा के दौरान आप को होने वाली दिक्कतें भी कवर की जाती हैं. ट्रैवल इंश्योरेंस कवर में एक्सीडेंट, सामान की चोरी, पासपोर्ट की चोरी, फ्लाइट में देरी, टिकट कैंसिलेशन, हाइजैकिंग और बीमारी का खर्च आदि शामिल होता है.

2. सार्वजनिक वाईफाई का प्रयोग करने से पहले आप के पास वीपीएन एप अवश्य होना चाहिए. ध्यान रखें कि जब आप सार्वजनिक वाईफाई का इस्तेमाल करते हैं तो आप का पर्सनल डाटा कोई भी हासिल कर सकता है. इस से बचने के लिए वीपीएन एप का प्रयोग करें. यह आप को ऑनलाइन धोखाधड़ी से बचाता है. इस के जरिये आप किसी भी शहर के वेबसाइट पर अपनी भाषा में कोई भी चीज ढूंढ सकते हैं.

ये भी पढ़ें- मस्ती भरा हो अकेला सफर

3. जब दूसरे शहर में हों तो होटल या हॉस्टल का 2-3 विजिटिंग कार्ड हमेशा अपने साथ रखें. कई बार नाम याद नहीं रह पाते ऐसे में लोकल लोगों से कार्ड दिखा कर रास्ता पूछ सकते हैं. इसी तरह अपनी जेब में अपने घर, मातापिता, दोस्तों, रिश्तेदारों के नाम पते नंबर लिख कर ऐसे रखें कि किसी को भी आसानी से मिल जाएं.

4. नया रास्ता, पता, बस या ट्रेन की जानकारी पुलिसवाले, दुकानदार आदि से पूछें. कम-से-कम 2-3 लोगों से कन्फर्म करें. कितना किराया होगा, इस की भी जानकारी ले लें.

5. अनजान लोगों को यह न बताएं कि आप कहां ठहरे हुए हैं. आप के रहने की जगह सेफ जोन में होनी चाहिए. यही नहीं किसी को यह जानकारी भी न दें कि आप अकेले यात्रा कर रहे हैं. जब भी कोई पूछे कि क्या आप अकेले हैं तो हमेशा ‘न’ में जवाब दें और कहें कि अपने दोस्त या किसी रिश्तेदार के साथ आएं हैं जो पास ही होटल या किसी के घर में रुका हुआ है. इस से गलत व्यक्ति आप को टारगेट करने से रुक जाएगा.

6. अपने पैसे और क्रेडिट कार्ड 2-3 अलगअलग जगहों पर रखें. कैश अधिक मात्रा में रखने के बजाय कार्ड रखना ज्यादा सुरक्षित और फ़ायदेमंद रहता है. कैश के चोरी हो जाने या खो जाने की आशंका रहती है. अपने ज्यादा पैसे जुराबों में या पैंट की चोर पौकेट में रखें.

7. अकेला देख कर संभव है कि कोई आप को गलत तरीके से फंसाने का प्रयास करे. इसलिए अपना दिमाग हमेशा खुला रखें. दूसरों के आगे नम्र रहें मगर जरूरत पड़ने पर आवाज़ उठाने से हिचके नहीं.

8. अकेले घूमें पर तन्हा नहीं. सोलो ट्रैवलिंग यानी अकेले घूमना एक तन्हाई भरा अनुभव नहीं होना चाहिए. ज्यादातर सोलो ट्रैवेलर्स के अनुभव रहे हैं कि वे दूसरों के साथ घूमने के देखे अकेले घूमते वक्त ज्यादा लोगों से मिलते हैं क्यों कि ऐसे में उन का फोकस केवल एक या कुछ व्यक्ति नहीं होते बल्कि कोई भी सहजता से उन के साथ हो सकता है. आप भी अपना दिमाग खुला रखें और सफर को रोचक बनाने के लिए दूसरों को अपने साथ जुड़ने का मौका दें.

हमेशा अपने मोबाइल में 3 नंबर जरूर रखें;

9. आप जिस शहर में घूमने जाएं वहां का इमरजेंसी नंबर आप के पास जरूर होना चाहिए. अगर आप का क्रेडिट कार्ड चोरी हो जाए तो उसे तुरंत ब्लॉक कराने के लिए कस्टमर केयर नंबर अपने पास रखें.

10. अपने किसी सब से करीबी का नंबर हमेशा आप के मोबाइल में सब से ऊपर होना चाहिए. जिस से किसी परेशानी की स्थिति में आप उसे तुरंत संपर्क कर के अपनी सहायता के लिए बुला सकें.

ये भी पढ़ें- फैस्टिवल पर लेटनाइट पार्टी

11. मोबाइल में सेव कुछ नंबर अपनी किसी पॉकेट में लिख कर रखें ताकि मोबाइल खो जाने के बाद तथा किसी हादसे के बाद इन नम्बरों को कोई भी पढ़ सके.

12. जितना हो सके पब्लिक ट्रांसपोर्ट का इस्तेमाल करें. यह आप के लिए सुरक्षित रहेगा, पैसे भी बचेंगे और एक नया अनुभव भी मिलेगा. पब्लिक ट्रांसपोर्ट हर जगह का अलगअलग होता है. सफर करते हुए दिल्ली की मेट्रो का आनंद लें तो हिल स्टेशन के रिक्शे में बैठ कर अलग अनुभव का अहसास करें. इसी तरह मुंबई की लोकल ट्रेन में सफर किये बिना आप असली मुंबई का दर्शन नहीं कर सकते. ये सभी साधन सुरक्षित भी हैं और मजेदार भी. इन की सवारी आप हमेशा याद रखेंगे.

13. जब आप अकेले घूमने जाते हो तो लंबे अकेले रास्तों पर म्यूजिक और किताबें ही साथी होते है. हेडफोन या छोटा ब्लूटूथ स्पीकर अपने साथ रख सकते हैं. कुछ मैगज़ीन और नोवेल्स भी रखें. इस के अलावा एक क्रॉस बैग लें जिस में छोटीमोटी ज़रूरत की चीज़ें हों. क्रॉस बैग को आप आराम से कहीं भी हैंडल कर सकते हैं. सब से ज़रूरी है आप का पर्स जो जितना छोटा हो सके उतना अच्छा होता है. इसे हमेशा अपने साथ रखें.

Tags:
COMMENT