वह दौर लोग भूले नहीं हैं जब बिहार पढ़ने के लिए जाना जाता था और उसमें भी अव्वल नाम रांची का हुआ करता था जो अब झारखंड की राजधानी है. इस मझोले खूबसूरत शहर में पढ़ने का जज्बा आज भी कितनी शिद्दत से मौजूद है इसकी एक बानगी या मिसाल बीती 15 जनवरी को देखने में आई जब एक सादे से समारोह में रांची की 15 जागरूक और बुद्धिजीवी महिलाओं ने उत्साहपूर्वक अपनी चहेती पत्रिका गृहशोभा के बेनर तले गृहशोभा क्लब का गठन किया.

Digital Plans
Print + Digital Plans

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 2000 से ज्यादा कहानियां
  • ‘कोरोना वायरस’ से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • हेल्थ और लाइफ स्टाइल के 3000 से ज्यादा टिप्स
  • ‘गृहशोभा’ मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • 2000 से ज्यादा ब्यूटी टिप्स
  • 1000 से भी ज्यादा टेस्टी फूड रेसिपी
  • लेटेस्ट फैशन ट्रेंड्स की जानकारी
Tags:
COMMENT