मैं 2 बच्चों की मां हूं. मैं अपनी ही कमजोरी के कारण अपराधबोध महसूस करती हूं. कुछ वर्ष पूर्व हमारी आर्थिक स्थिति ठीक नहीं थी. संयुक्त परिवार में रहने के कारण मेरे जेठ ने हमारी काफी मदद की. मैं उन के एहसान तले दब गई थी. एक दिन उन्होंने मुझे अपने इन्हीं एहसानों का वास्ता दे कर संबंध बनाने को कहा तो मैं उन के आगे झुक गई. यह सिलसिला आज तक जारी है. मेरी सास को इस की भनक लग गई है. उन्होंने मुझे समझाया कि यह गलत है. मैं तो समझ गई हूं और यह सब बंद करना चाहती हूं पर जेठ नहीं समझते. वे जान से मार देने की धमकी देते हैं. कहते हैं कि यदि मैं उन की बात नहीं मानूंगी तो वे मुझे सब में बदनाम कर देंगे. कृपया बताएं कि मैं क्या करूं?

आप को उसी समय (जब आप के जेठ ने यह मांग की) जेठ की नाजायज मांग को अस्वीकार कर देना चाहिए था. पर आप ने उन के आगे घुटने टेक दिए, जिस से उन की हिम्मत बढ़ गई और अब वे आप को ब्लैकमेल कर रहे हैं कि वे आप को जान से मार देंगे वगैरहवगैरह. वे ऐसा कुछ नहीं करेंगे. रही आप को बदनाम करने की बात, तो यदि वे अवैध संबंधों की बात सार्वजनिक करेंगे तो उन की और पूरे परिवार की बदनामी होगी इसलिए वे किसी के सामने मुंह नहीं खोलेंगे. आप उन्हें कठोरता से मना कर दें, क्योंकि इस तरह का व्यभिचार गलत है.

मैं एक लड़के से प्यार करती हूं. वह भी मुझे बेहद चाहता है. हम दोनों विवाह करना चाहते हैं पर हमारी जाति भिन्न होने के कारण घर वाले इस रिश्ते के खिलाफ हैं.हम समझ नहीं पा रहे कि हम अपने रिश्ते को आगे बढ़ाएं या नहीं. कृपया कोई सुझाव दें?

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 2000 से ज्यादा कहानियां
  • ‘कोरोना वायरस’ से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • हेल्थ और लाइफ स्टाइल के 3000 से ज्यादा टिप्स
  • ‘गृहशोभा’ मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • 2000 से ज्यादा ब्यूटी टिप्स
  • 1000 से भी ज्यादा टेस्टी फूड रेसिपी
  • लेटेस्ट फैशन ट्रेंड्स की जानकारी
COMMENT