कमल नंदी

बिजनैस हैड एग्जीक्यूटिव वाइस प्रैसिडैंट, गोदरेज एप्लायंसिस

इस नए स्तंभ का उद्देश्य यह है कि आप रोजमर्रा इस्तेमाल किए जाने वाले घरेलू उत्पादों के बारे में और करीब से जान सकें. पिछले कई सालों से गोदरेज ऐप्लायंसिस के बिजनैस हैड और वाइस प्रैसिडैंट के पद पर काम करने वाले कमल नंदी ने कंपनी की हर चुनौती को हमेशा खुले दिल से लिया. यही वजह है कि वे आज अपनी टीम के साथ नईनई तकनीक के ऐप्लायंसिस ग्राहकों तक पहुंचाने में कामयाब हो रहे हैं. उन के सारे प्रोडक्ट्स पर्यावरण फ्रैंडली होते हैं, क्योंकि वे सालों तक रिसर्च कर पूरी तरह जांचपरख कर संतुष्ट होने के बाद ही मार्केट में उतारते हैं. उन की यह जर्नी कैसी है, कैसे वे कंपनी को आगे बढ़ा रहे हैं, आइए जानते हैं उन्हीं से:

सवाल- कंपनी का पदभार संभालने के बाद आप ने कंपनी में क्या बदलाव किए और कैसे आगे बढ़ रहे हैं?

इस के लिए गोदरेज ऐप्लायंसिस के बारे में जानना बहुत जरूरी है. हमारे देश में जरमनी, कोरिया और अमेरिका से बहुत अधिक कंपीटिशन रहा है, क्योंकि आजकल बाहर के सारे ब्रैंड भी हमारे यहां मिलते हैं. गोदरेज यहां पर ऐप्लायंसिस के क्षेत्र में 39 ब्रैंड हैंडल कर रहा है. इस में अपने ब्रैंड की कोर वैल्यू को हमेशा पकड़ कर रखने की कोशिश करते हैं. कंपनी ने सालोंसाल उन्नति की है.

इस में कंपनी के 3 स्तंभ हैं, जो ब्रैंड को आगे बढ़ने में सहायता करते हैं. पहला है विश्वास. करीब 120 साल से कंपनी व्यवसाय कर रही है. उस के हिसाब से ग्राहक सब से पहले आता है और ग्राहकों के ट्रस्ट को बनाए रखने में कंपनी कामयाब हुई है. इस के बाद पर्यावरण और समाज का ध्यान रखने के बारे में कंपनी ने सोचा. हम ने ऐप्लायंसिस को 1958 से मुंबई में बनाना शुरू किया था. तब अर्देशिर गोदरेज ने खुद ऐप्लायंसिस बनाने के बारे में सोचा था. पहला उत्पाद रैफ्रिजरेटर ही था. वहीं से काम शुरू हुआ. इस के बाद एसी, वाशिंग मशीन, ओवन आदि उत्पाद धीरेधीरे बाजार में आने लगे.

ये भी पढ़ें- टैलेंट के साथ ग्लैमर का तड़का

2013 में पर्यावरण को क्षति न पहुंचाने वाले रैफ्रिजरेटरों की मांग की गई, जबकि कंपनी 2001 से ही ऐसे रैफ्रिजरेटर बनाने शुरू कर दिए थे. तब ग्राहक इस नई तकनीक के लिए अधिक पैसा देने को तैयार नहीं थे, पर पैसे से अधिक कंपनी ने पर्यावरण पर ध्यान दिया. आज जागरूकता बढ़ी है और ग्राहक पर्यावरण फ्रैंडली सामान खरीदते हैं. ऐसे सभी प्रोडक्ट्स चाहे वे एसी हों या ओवन कंपनी ने पर्यावरण को ध्यान में रख कर बनाए हैं.

आज हमारे एसी और रैफ्रिजरेटर सब से अधिक ऊर्जा को बचाने वाले उत्पाद हैं. कंपनी ग्राहकों को पूरी तरह संतुष्ट करती है. आज यह कंपनी अच्छी सर्विस देने वाली नंबर वन कंपनी बन चुकी है. आज के ग्राहकों की चाहत यह है कि एक बार किसी भी उपकरण को खरीदने के बाद उन्हें किसी चुनौती का सामना न करना पड़े और कंपनी इसे पूरा करती है. बिजनैस हैड बनने के बाद मेरी यह सोच रही है कि मैं इन तीनों स्तंभों को और अधिक मजबूती प्रदान करूं और आगे ले जाऊं.

 सवाल- आप के उपकरण हर घर तक पहुंचें, इस बारे में आप की रणनीति क्या होती है और किसकिस माध्यम का सहारा लेते हैं?

हमारी कोशिश यह रहती है कि डीलर्स और डिस्ट्रीब्यूटर्स अधिक से अधिक छोटेछोटे गांवों और शहरों में पहुंचें. आज 22 हजार आउटलेट्स हैं, जिन के द्वारा पूरे देश में सामान बिकता है और 660 सर्विस सैंटर्स हैं. इस से कंपनी पूरे देश में पहुंचने में समर्थ होती है. इस में चुनौती छोटेछोटे दूरदराज के इलाकों में पहुंचने की होती है. इस के अलावा छोटे शहरों में कंपनी के ऐक्सक्लूसिव आउटलेट्स हैं, जो बड़े शहरों में नहीं हैं, क्योंकि गांवों या छोटे शहरों और कसबों में रहने वाले ग्राहकों की आर्थिक क्षमताएं और नई चीजें खरीदने की इच्छा बढ़ी है. वे नया और आकर्षक सामान खरीदने में दिलचस्पी रखने लगे हैं. वहां उन की पसंद को ध्यान में रख कर ही सामान रखा जाता है. इस तरह कंपनी के प्रीमियर प्रोडक्ट्स की बिक्री बड़े शहरों से कहीं अधिक छोटे शहरों में है. ग्राहकों की पसंद का सारा काम नैटवर्क के जरीए किया जाता है और इस की मौनिटरिंग भी टीम करती है.

 सवाल- चुनौतियों के अलावा इस व्यवसाय में और क्याक्या समस्याएं रहती हैं?

इस में ग्राहकों की पसंद को ध्यान में रखना पड़ता है. मसलन, उत्पाद आधुनिक तकनीक से बना हो, क्वालिटी अच्छी हो, सर्विस सैंटर अच्छा हो, ब्रैंड लौंग टर्म रहने वाला हो, कीमत वाजिब हो आदि सभी चीजों पर कंपनी पूरा ध्यान रख रही है. इस के अलावा अच्छा व्यवसाय करने की होड़ तो लगी ही रहती है.

ये भी पढ़ें- मुमकिन नहीं इन्हें रोक पाना

 सवाल- किसी भी उपकरण को कितने समय तक प्रयोग करना सही रहता है?

किसी भी उत्पाद की लाइफ 10 से 12 साल तक सब से बेहतर रहती है, क्योंकि कंपनियां नएनए उत्पाद को नई तकनीक के साथ लाती हैं, जिस से बिजली की खपत कम होने के अलावा अन्य कई सुविधाएं भी मिलती हैं, जो पुराने उत्पाद के साथ नहीं मिल पातीं.

 सवाल- किसी नए उपकरण को मार्केट में लाने से पहले किस प्रकार के परीक्षण किए जाते हैं और उस में आई किसी भी समस्या का समाधान कैसे करते हैं?

नए उत्पाद के विकास की पद्धति बहुत कठिन है. बहुत लंबी प्लानिंग होती है. करीब अगले 3 सालों तक कौनकौन से प्रोडक्ट्स बाजार में आने वाले हैं, उस की जानकारी अभी से हो जाती है. पूरा चक्र 18 महीनों से ले कर 2 साल तक का होता है. इस का आधार बहुत सारी रिसर्च के द्वारा ग्राहकों की जरूरतों को ध्यान में रखते हुए करते हैं. उत्पाद बनने के बाद उसे कुछ ग्राहकों को प्रयोग करने के लिए दिया जाता है और पता किया जाता है कि ग्राहकों की जरूरतें पूरी हो सकेंगी या नहीं. एक बार सहमत होने के बाद उसे बड़े स्तर पर ग्राहकों को दे कर उन की प्रतिक्रिया जान लेने के बाद ही उसे बड़े पैमाने पर बाजार में उतारा जाता है. इसलिए समस्या बहुत कम आती है, क्योंकि इस में इनवैस्टमैंट बहुत अधिक होती है.

 सवाल- महिला सशक्तीकरण की दिशा में आप की कंपनी क्या काम करती है?

वाशिंग मशीन प्रोडक्शन लाइन में महाराष्ट्र और पंजाब में पूरा काम महिलाएं ही करती हैं और वे अच्छा काम कर रही हैं.

 सवाल- आज की महिलाएं बहुत जागरूक हैं और हर उत्पाद को खरीदते समय औनलाइन सर्च भी करती हैं. ऐसे में आप की कंपनी उन्हें कैसे विश्वास में लेती है?

आज आंकड़ों के हिसाब से 30 से 40% ग्राहक औनलाइन सर्च करते हैं, पर सामान दुकान पर आ कर ही खरीदते हैं. ऐसे में हम डिजिटल मार्केटिंग पर अधिक फोकस करते हैं. सोशल मीडिया पर कंपनी बहुत ऐक्टिव है. यह करीब 54% है. हमारे उत्पाद औनलाइन मिलते हैं. औनलाइन प्लेयर्स के साथ कंपनी काफी ऐक्टिव है. उन की वैबसाइट्स पर भी काफी इनवैस्ट करते हैं.

 सवाल- आप के उत्पाद की यूएसपी क्या है?

अलगअलग पदार्थ की अलगअलग यूएसपी है. एक नया प्रोडक्ट रैफ्रिजरेटर एज डुओ है, जिस में सब्जियों के लिए एक अलग कंपार्टमैंट दिया है, क्योंकि जब भी फ्रिज से सब्जियां निकालते हैं तो बारबार दरवाजा खोलना पड़ता है. इस से कूलिंग लौस होता है. दोबारा उसी तापमान पर पहुंचने के लिए कंप्रैसर को 2 घंटे चलना पड़ता है. हमारे इस रैफ्रिजरेटर में पूरा दरवाजा खोलने की जरूरत नहीं. बाहर से ही आप वैजिटेबल ट्रे को निकाल सकते हैं. इस से 50% कूलिंग लौस घट गया है. ऐसी ही हम ने वाशिंग मशीन और एसी पर भी बहुत रिसर्च की है और ग्राहक संतुष्ट हैं. यहां सारे काम ग्राहकों के लाइफस्टाइल को ध्यान में रख कर किए जाते हैं.

ये भी पढ़ें- सुषमा स्वराज का सियासी सफर: भारत की सबसे कम उम्र की कैबिनेट मंत्री

 सवाल- आगे की क्या योजनाएं हैं?

दीर्घकालिक योजनाओं पर बहुत काम चल रहा है. ग्रीन एक लेबल है जिस पर काम हुआ है, लेकिन इसे पूरी तरह से ग्लोबलवार्मिंग से मुक्त कराने की इच्छा है. कूलिंग सर्विसेज में यह आगे देखने को मिलेगा. मैडिकल रैफ्रिजरेटर पर काफी काम हो रहा है. इस में कंपनी ने एक लाइसैंस यूनाइटेड किंगडम बेस्ड ‘श्योर चिल’ लिया है यह रैफ्रिजरेटर तापमान को 4 से 6 डिग्री तक मैंटेन करता है. 10 दिन तक बिजली न होने पर भी यह तापमान को मैंटेन करेगा. इस से वैक्सीन को काफी समय तक सही तापमान में दूरदराज के क्षेत्रों में जहां बिजली की सुविधा न भी हो वहां ले जाया जा सकता है. अंत में मेरा सभी ग्राहकों से कहना है कि वे समाज और इस धरती की बेहतरी के लिए प्रकृति के नियमों का पालन करें वरना आने वाली पीढि़यों को परेशानी होगी.

Tags:
COMMENT