बेटा: क्या वक्त रहते समझ पाया सोम

दीप के पैदा होने पर घर में खुशियां छा गई थीं. लेकिन सोम की आंखों पर बेटे के मोह की ऐसी पट्टी बंधी कि हंसताखिलखिलाता घर उदासी और मातम के गहरे दलदल में धंसता चला गया.

गृहशोभा डिजिटल सब्सक्राइब करें
मनोरंजक कहानियों और महिलाओं से जुड़ी हर नई खबर के लिए सब्सक्राइब करिए
अनलिमिटेड कहानियां-आर्टिकल पढ़ने के लिएसब्सक्राइब करें