हिसाब किताब: क्यों बदल गई थी भाभी

परिस्थितियां कैसे बदल गईं कि भाभी जो मुझे ठीक से खाना नहीं देती थीं, बिजली के बिल तक का हिसाब लेती थीं, स्वयं उन के लिए जिंदगी का हिसाबकिताब करना जटिल हो गया?

गृहशोभा डिजिटल सब्सक्राइब करें
मनोरंजक कहानियों और महिलाओं से जुड़ी हर नई खबर के लिए सब्सक्राइब करिए
अनलिमिटेड कहानियां-आर्टिकल पढ़ने के लिएसब्सक्राइब करें