नाराजगी: बहू को स्वीकार क्यों नहीं करना चाहती थी आशा

आशा ने खुद को सम झाते व बेटे की इच्छा का सम्मान करते हुए संध्या को बहू के तौर पर स्वीकार तो कर लिया था लेकिन असमंजस की लकीरें फिर भी आशा को घेर रही थीं. फिर एक दिन अचानक...

गृहशोभा डिजिटल सब्सक्राइब करें
मनोरंजक कहानियों और महिलाओं से जुड़ी हर नई खबर के लिए सब्सक्राइब करिए
अनलिमिटेड कहानियां-आर्टिकल पढ़ने के लिएसब्सक्राइब करें