भजनकीर्तन और पूजापाठ से दूर रहने वाली बहू नैंसी से न सिर्फ उस की सासूमां, बल्कि कालोनी की महिलाएं भी चिढ़ती थीं. उन्हें लगता था कि धर्मकर्म से दूर रह कर नैंसी अपना संस्कार भूल जाएगी. लेकिन तभी एक दिन एक ऐसी घटना घट गई कि उन की सोच पूरी तरह बदल गई...
अनलिमिटेड कहानियां आर्टिकल पढ़ने के लिए आज ही सब्सक्राइब करेंSubscribe Now