जिंदगी की आखिरी दहलीज पर हरीश बाबू ने खुद को अकेलेपन व तकलीफ में पाया. सुमंत का प्यारलगाव भी उन के प्रति स्वार्थपरक निकला. लेकिन उन के पास वसीयत के तौर पर आखिरी हथियार तो बचा ही था.
अनलिमिटेड कहानियां आर्टिकल पढ़ने के लिए आज ही सब्सक्राइब करेंSubscribe Now