हम दोनों पतिपत्नी सुबह बच्चों को तैयार कर स्कूल भेजने के बाद सैर करने की नीयत से जैसे ही कोठी के बाहर निकले कि पति की निगाहें गली में खड़ी धोबी की लड़की पर जा कर ठहर गईं. वह लड़की अकसर इस्तरी के लिए आसपास की कोठियों से कपड़े लेने आती थी. उसे देख कर नितिन का अंदाज बड़ा ही रोमांटिक हो आया. वे गाना ‘तुम को देखा तो ये खयाल आया, जिंदगी धूप तुम घना साया…’ गाते हुए उस की बगल से गुजरने लगे तो वह भी अपने एक खास अंदाज में मुसकरा दी. उन दोनों की नजरें मिलीं तो धोबी की लड़की ने धीरे से कहा, ‘‘नमस्ते जी.’’

नितिन की बाछें खिल उठीं. मानो कोई अप्सरा स्वर्ग से उतर कर उस के सामने खड़ी, उस का अभिनंदन कर रही हो. नितिन के कदम कुछ क्षणों के लिए ठहर से गए. बदले में उस ने भी मुसकराहट के साथ उस का अभिवादन स्वीकार करते हुए पूछा, ‘‘कैसी हो?’’

वह शोख अंदाज में फिर मुसकराई और धीरे से बोली, ‘‘ठीक हूं.’’

मुझे यह सब ठीक नहीं लगा तो थोड़ा आगे चलने के बाद मैं ने नितिन को टोक दिया.

‘‘तुम एक फैक्टरी के मालिक और एक हैसियतदार आदमी हो. तुम्हारा बस नमस्ते कहना ही काफी था. मगर गाना गाना, हंसना और ज्यादा मुंह लगाना ठीक नहीं. खासकर इस तरह की लड़कियों को. देखो, धोबी की लड़की है. इस्तरी के लिए घरघर कपड़े मांग रही है और हाथ में 8-10 हजार का मोबाइल लिए है…उसे देख कर कौन कहेगा कि यह धोबी की लड़की है.’’

‘‘तुम तो बस किसी के भी पीछे पड़ जाती हो. अरे, तुम्हारे जैसी किसी ‘मेम’ ने पुराना सूट दे दिया होगा और फिर फैशन करना कौन सी बुरी बात है? यह मोबाइल तो अब  आम हो गया है.’’

नितिन ने उस के पक्ष में यह सब कहा तो मुझे 3-4 दिन पहले का वह वाकया याद हो आया जब नितिन ने मुझे बालकनी में बुला कर कहा था.

‘देख निक्की, इस धोबी की लड़की को. यह जब हंसती है तो इस के दोनों गालों पर पड़ते हुए डिंपल कितने प्यारे लगते हैं? कितनी अच्छी ‘हाइट’ है इस की, उस पर छरहरा बदन कितनी सैक्सी लगती है यह?’ मेरे दिमाग में फिर एक और दास्तान ताजा हो आई थी.

अभी बच्चों की गरमियों की छुट्टियों में  मैं 15-16 दिन गांव में रह कर आई थी. पीछे से नितिन अकेले ही रहे थे. मैं जब गांव से वापस आई तो देखा कि साहब ने ढेर सारे कपड़े इस्तरी करा रखे थे. यहां तक कि जिन कपड़ोें को पहनना छोड़ रखा था, वे भी धुल कर इस्तरी हो चुके थे.

मैं ने चकित भाव से नितिन से पूछा, ‘‘ये इतने कपड़े क्यों इस्तरी करा रखे हैं? इन कपड़ों को दे कर तो मुझे बरतन लेने थे और तुम ने इन को धुलवा कर इस्तरी करवा दिया. और तो और जो पहनने…’’

मेरी बात को बीच में ही काट कर नितिन ने झट से कहा, ‘‘वह सब छोड़ो, एक बात याद रखना कि मेरे कपड़े इस्तरी करने के लिए उस लड़के को मत देना. वह ठीक से इस्तरी नहीं करता. वह जो सांवली लड़की कपड़े लेने के लिए आती है, उसे दिया करो. वह इस्तरी भी बढि़या करती है और समय पर वापस भी दे जाती है.’’

मैं कुछ परेशान सी यह सब अपने मन में याद करती हुई चली जा रही थी कि अचानक मेरी नजर नितिन के चेहरे पर पड़ी तो देखा कि वह मंदमंद मुसकरा रहे हैं. मैं ने टोक दिया, ‘‘क्या बात है, बड़े मुसकरा रहे हो. मेरी बात पर गौर नहीं किया क्या?’’

‘‘कौन सी बात?’’

‘‘यही कि थोड़ा रौब से रहा करो.’’

बात पूरी होने से पहले ही नितिन बोल पड़े, ‘‘निक्की, अगर तुम बुरा न मानो तो एक बात कहूं. तुम थोड़ी मोटी हो गई हो और वह धोबी की लड़की सैक्सी लगती है, शायद इसलिए.’’

यह सुन कर मेरा मूड खराब हो गया. मैं वापस घर चली आई. ऐसे ही दिन गुजर गया, रात हो आई. न मैं ने बात की न ही नितिन ने.

2 दिन बाद शाम को जालंधर से इन की किसी परिचित का फोन आ गया. नितिन व उस के बीच लगभग 6 मिनट फोन पर बातचीत चली थी. बातों को सुन कर पता चला कि किसी की बेटी का पी.जी. के तौर पर गर्ल्स हास्टल में रहने का प्रबंध कराना था. जब मैं ने पूछा कि कौन थी? किसे पी.जी. रखवाने की बात हो रही थी? तो नितिन टाल गए. मैं ने भी बात को अधिक बढ़ाना उचित नहीं समझा और घर के काम में लग गई.

नितिन कभी जूते पालिश नहीं करते. हमेशा मैं ही करती हूं लेकिन अगले दिन सुबह उठ कर खुद उन को जूते चमकाते देखा तो अचरज सा हुआ. मैं ने पूछा, ‘‘आज शूज बड़े चमकाए जा रहे हैं, क्या बात है?’’

‘‘गर्ल्स हास्टल का पता करने कई जगह जाना है.’’

यह सुन कर मैं ने अपनी मंशा जाहिर करते हुए कहा, ‘‘कहो तो मैं भी तुम्हारे साथ चलूं, एक से भले दो.’’

‘‘रहने दो, तुम नाहक ही थक जाओगी, फिर आजकल धूप भी तेज होती है.’’

‘‘हां, भई हां, मेरा तो रंग काला पड़ जाएगा. मैं छुईमुई की तरह हूं जो मुरझा जाऊंगी. साफसाफ यह क्यों नहीं कहते कि मुझे अकेले जाना है. मैं सब जानती हूं लेकिन पिछली बार जब मेरी सहेली ने अपनी बेटी को पी.जी. रखवाने के लिए फोन किया था तो तुम उन्हें ले कर अकेले ही गए थे. अब की बार मैं तुम्हारे साथ चलूंगी. मुझे अच्छा नहीं लगता, तुम्हारा जवान लड़कियों के ‘हास्टल’ में जा कर पूछताछ करना. मैं औरत हूं, मेरा पूछना हमारी सभ्यता के लिहाज से ठीक है.’’

‘‘नहीं…नहीं, मैं अकेला ही पता कर के आऊंगा,’’ यह कह कर नितिन गाना गाने लगे, ‘‘अभी तो मैं जवान हूं…अभी तो मैं…’’

नितिन को चिढ़ाने के अंदाज में मैं ने कहा, ‘‘अगर आज तुम अकेले गए तो मैं भी तुम्हारे पीछेपीछे आऊंगी और तुम यह मत सोचना कि मैं तुम्हें अब गुलछर्रे उड़ाने का मौका आसानी से दे दूंगी.’’

यह सुन कर नितिन एकदम गंभीर हो गए और सख्त लहजे में बोले, ‘‘बस निक्की, अब तुम आगे एक भी शब्द नहीं बोलोगी. अगर कुछ उलटा बोला तो मुझ से बुरा कोई नहीं होगा.’’

‘‘हां…हां, जानती हूं, और तुम कर भी क्या सकते हो, मुझ कमजोर को पीटने के अलावा. मगर आज मैं तुम्हें अकेले पी.जी. के बारे में पता करने नहीं जाने दूंगी, चाहे कुछ भी हो जाए. तुम जरा अकेले जा कर तो देखो?’’

एकदो भद्दी गाली देने के साथ दोचार थप्पड़ मार कर नितिन ने मुझे घसीटते हुए ला कर बिस्तर पर पटक दिया और दरवाजे को जोर से बंद करते हुए घर से बाहर निकल गए.

बौखलाहट में मुझ पर न जाने कहां से पागलपन सा सवार हो गया. मैं ने उठ कर अपनी व नितिन की फ्रेमजडि़त तसवीर ली और फर्श पर दे मारी तथा साथ में रखा हुआ गुलदान दीवार पर और गुस्से में शादी वाली सोने की अंगूठी उतार कर दूर फेंकते हुए बैड पर धड़ाम से गिर पड़ी. फिर न जाने कब मैं अतीत की स्मृतियों के गहरे सागर में डूबती चली गई.

धीरेधीरे मुझे वे दिन याद आने लगे जब मात्र डेढ़ साल के अंतराल में मैं दूसरी बार मां बनी थी और मैं ने फूल सी कोमल नन्ही गुडि़या को जन्म दिया था. मेरी ननद 10 दिन से अधिक नहीं रुक पाई थीं. वैसे भी उन से जच्चा का काम नहीं होता था. अंकुर व अंकिता, दोनों को एकसाथ संभालना मेरे वश से बाहर था.

मैं ने अपने लिए किसी काम वाली को रखने की बात नितिन से कही तो उन्होंने पड़ोसियों के यहां काम करने वाली निर्मला की 12-13 साल की बेटी प्रीति को घर में मेरी मदद करने के लिए रख लिया था. धीरेधीरे बेटी गोद को समझने लगी थी. दिन छिपने के बाद वह तब तक चुप नहीं होती थी जब तक उसे कोई उठा कर छाती से न लगा ले. प्रीति के साथ वह हिलमिल गई थी. उस का स्पर्श पाते ही अंकिता एकदम चुप हो जाती थी जैसे कि उसे उस की मां ही मिल गई हो.

एक दिन दोपहर में लगभग ढाई बजे के आसपास जब मैं अंकिता को दूध पिला रही थी तो प्रीति मेरे पास कमरे में आई. वैसे तो यह समय उस का आराम करने का होता था. उस की सांस कुछ फूली हुई सी थी और उस के सिर के बाल बेतरतीब से फैले हुए थे. मैं ने उस को नीचे से ऊपर तक निहारा तो लगा कि उस के साथ कुछ हुआ है. मैं ने पूछा था, ‘प्रीति, तुम इतनी घबराई हुई सी क्यों लग रही हो? क्या बात है?’

‘मेमसाहिब, आप कोई और काम करने वाली ढूंढ़ लो. मैं अब आप के घर काम नहीं कर सकती.’

‘क्यों प्रीति, ऐसा क्या हुआ जो तुम अचानक इस तरह दोपहर में काम छोड़ कर जा रही हो? तुम्हारे साथ हम सब अच्छे से बरताव करते हैं. तुम्हें यहां किसी तरह की कोई रोकटोक भी नहीं है. अपनी इच्छा से काम करती हो. जब मन में आता है तब घर घूम आती हो. फिर आज अचानक ऐसा क्यों…’

प्रीति तब कुछ नहीं बोल पाई थी. बस, वापस मुड़ कर अपनी चुनरी के एक कोने को मुंह में दबाए भाग ली थी वह. मैं कुछ भी नहीं समझ पाई थी. अंकिता को सोता छोड़ कर मैं दूसरे कमरे में आ गई थी जहां नितिन सोए थे. मैं ने उन्हें जगाया तो आंख भींचते हुए बोले, ‘क्या बात है छुट्टी वाले दिन तो आराम कर लेने दिया करो?’

मैं ने सारा वृतांत उन्हें सुनाते हुए पूछा, ‘तुम्हें कुछ समझ में आ रहा है कि प्रीति ऐसे अचानक क्यों भाग गई?’

‘प्रीति अपने घर चली गई? मैं आराम करने के लिए जब कमरे में आया था तब तो वह बरामदे में लेटी हुई थी. हो सकता है सोते हुए उस ने कोई बुरा स्वप्न देख लिया हो. शायद डर गई हो, बेचारी. कहीं तुम ने या मां ने तो कुछ नहीं कह दिया? काम करते वक्त उसे कुछ कह तो नहीं दिया आज सुबह या कल शाम को?’

‘नहीं तो, इतने दिन हो गए भला आज तक कुछ कहा है, जो आज. हां, हो सकता है सोते हुए उस ने कोई बुरा स्वप्न देखा हो. खैर, चलो छोड़ो, मैं शाम को उस के घर हो आऊंगी.’

यह कह कर मैं अपने कमरे में आ तो गई लेकिन मुझे चैन नहीं पड़ा रहा था. मैं बैड पर लेटेलेटे सोचती रही कि आखिर ऐसा क्या हुआ होगा जो वह भरी दोपहर में घर वापस जाने को मजबूर हो गई? मांजी से पूछा तो उन्होंने कह दिया कि उन की तो आज प्रीति से कोई बात ही नहीं हुई.

मुझे जब असमंजस में और अधिक नहीं रहा गया तो मैं प्रीति के घर पहुंच गई थी. प्रीति एक कोने में अलग सी बैठी थी. मुझे दहलीज पर देख कर भी कुछ नहीं बोली, वैसे ही बैठी रही थी, वरना तो उठ कर मेरा स्वागत करती थी. मैं ने जब काम छोड़ने के बारे में जानना चाहा तो उस की मां ने इतना ही कहा था, ‘मेमसाहिब, अब प्रीति तुम्हारे घर काम नहीं करेगी. अब यह गांव जाएगी इस की वहां शादी तय हो गई है.’

‘ऐसे अचानक, कैसे?’

‘बस, मेमसाहिब, हम गरीब लोगों के साथ कब, कैसे, क्या गुजर जाए, कुछ कहा नहीं जा सकता. आप ठहरे बड़े आदमी, हम छोटे लोग भला क्या कह सकते हैं? बाकी अब प्रीति आप के घर नहीं जाएगी.’

मेरी लाख कोशिशों के बावजूद प्रीति ने काम छोड़ने का कारण नहीं बतलाया और मैं अपना सा मुंह ले कर वापस घर आ गई थी. घर आ कर मैं कुछ देर तक सोचती रही थी.

‘आखिर ऐसा क्या हुआ होगा जो प्रीति यों काम छोड़ कर चली गई और अब उस की शादी करने की बातें हो रही हैं. जिस के लिए उसे गांव भेजा जा रहा है. अभी तो प्रीति की उम्र 13 वर्ष की ही होगी, फिर इतनी जल्दी वह भी एकाएक.’

जब समझ में कुछ नहीं आया तो मैं नितिन के पास आ गई और उन से किसी दूसरी काम वाली लड़की का इंतजाम करने को कहा.

अनमने मन से नितिन ने कहा, ‘हां, देखता हूं. इतनी जल्दी थोड़ी ही काम वाली लड़कियां मिलती हैं, वह भी तुम्हारी पसंद की.’

तब मैं ने कहा था, ‘कोई बात नहीं. कैसी भी ले आओ, चलेगी. बच्चों का ध्यान कैसे रखना है, वह सबकुछ मैं समझा दूंगी.’

अगले ही दिन नितिन ने अपनी जानकारी में कइयों को काम वाली के बारे में कह दिया था. उस के 4-5 दिन के बाद शर्माजी के यहां काम करने वाली बाई ने ‘डोर बेल’ बजाई तो सास ने उस के पास जा कर पूछा था, ‘हां रमा, क्या बात है. कैसे आई हो?’

‘बीबीजी को एक लड़की चाहिए न बच्चों की देखभाल के लिए, सो उसी की खातिर आई थी.’

मैं ने घर के अंदर से ही कह दिया था. ‘हां रमा, चाहिए. लेकिन कौन है?’

‘मेमसाहिब, मेरी बड़ी लड़की 14-15 साल की है मगर…’

‘मगर क्या?’ सास ने पूछा था.

‘जी वह पैर से थोड़ी अपाहिज है. लेकिन घर का सारा काम कर लेती है. मेरी 4 लड़कियां उस से छोटी हैं. वही मेरे पीछे से घर का सारा काम करती है और अपनी छोटी बहनों की देखभाल भी. अब खर्चा बढ़ गया है न. शर्माजी की बीवी ने कहा था कि आप को तो सिर्फ काम वाली 2 घंटे सुबह और 2 घंटे शाम को चाहिए तो वह इतना वक्त निकाल लेगी.’

तब तक मैं भी अपनी सास के पास आ कर खड़ी हो गई थी. मैं ने उस से पूछा था कि महीने के हिसाब से कितने पैसे लोगी? हम उसे दोनों समय खाना तो देंगे ही साथ में कपड़े भी दे देंगे.

उस ने कहा था कि जो मरजी दे देना मांजी. वैसे मैं एक घर में बरतन करने का 300 रुपए लेती हूं.

मैं ने तपाक से कहा था, ‘अच्छा चल, कुल मिला कर महीने के 500 रुपए दे देंगे. अगर ठीक है तो आज शाम से ही भेज दो.’

500 रुपए सुन कर उस ने झट से हां की और हमारा अभिवादन कर के चली गई.

शाम को उस ने अपनी बड़ी लड़की को हमारे यहां काम के लिए भेज दिया था. लड़की का हुलिया दयनीय था. मोटेमोटे काले होंठ, उभरे हुए दांत जिन पर गंदगी साफ देखी जा सकती थी, मैलेकुचैले कपड़े. छाती पर इतना ही उभार था कि बस यह महसूस किया जा सके कि लड़की है. मेरे नाम पूछने पर उस ने अपना नाम आयशा बतलाया था. उसे देख कर मैं मन ही मन सोचने लगी कि ‘यह क्या काम करेगी? पहले तो मुझे ही इस के लिए कुछ करना पड़ेगा.’

मैं ने तब नहाने का साबुन व बदलने के लिए दूसरे कपड़े देते हुए उसे ताकीद की थी कि पहले तुम अच्छे से नहा कर आओ और दांत साफ करना मत भूलना. उस ने मुझ से कपड़े और साबुन लिए और पूछा, ‘आंटीजी, बाथरूम किस तरफ है?’

मैं चौंक गई थी. ‘अरे, तुम अपने घर जा कर नहा कर आओ.’

तब उस ने कहा था कि आंटी, हमारे घर बाथरूम कहां. मैं तो अंधेरा होने पर ही घर के आंगन में नहा लेती हूं या फिर सूरज निकलने से पहले.

मैं सोच में पड़ गई थी कि क्या करूं, क्या न करूं? यह कैसी मुसीबत आ गई. मांजी को पता चल गया तो. खैर, उसे चुपचाप बाथरूम में भेज मैं आंगन में बिछी चारपाई पर अंकिता को ले कर बैठ गई थी. वह थोड़ी ही देर में नहा कर बाहर आ गई थी. मैं ने उसे उस का सारा काम समझाते हुए उस से पहले बाथरूम की जम कर सफाई करवाई थी.

आयशा मेरी सोच से अधिक समझदार निकली. जो भी कहती वह उसे आगे से आगे, बिना ज्यादा बुलवाए, पूरा कर देती थी. जब भी उस को समय मिलता तो वह अंकिता को ले मेरे पास आ बैठती और कहती थी, ‘आंटी आप कितनी सुंदर हैं. आप क्या लगाती हैं अपने मुंह पर? कौन सी क्रीम लगाती हैं? कौन सा तेल इस्तेमाल करती हैं? आप के बालों से बहुत अच्छी महक आती रहती है.’

आयशा मेरी तारीफ करनी शुरू कर देती थी तो रुकती ही नहीं. मैं उसे अब अकसर शैंपू, तेल, साबुन, क्रीम दे दिया करती. उसे नए कपड़े भी सिलवा कर दे दिए थे. मेरे कहने से दांत मंजन करतेकरते न जाने कब आयशा आंख में अंजन भी करने लगी थी.

सुबह के समय नितिन के फैक्टरी जाने से पहले वह आने लगी थी ताकि अंकिता को वह संभाल सके और मैं उन के लिए अच्छे से नाश्ता तैयार कर सकूं. जब कभी नितिन आयशा के सामने आ जाते तो वह हलका सा मुसकराती हुई कहती-‘नमस्ते जी.’

उस का मुसकराने का अंदाज बड़ा ही शर्मीला था. नितिन भी उसी के अंदाज में मुसकराते हुए जवाब देते थे. आयशा जब भी मेरे पास बैठती तो हमारे बारे में ही पूछती. कभी पूछती थी कि आंटीजी आप की ‘लवमैरिज’ है क्या? कभी कहती थी कि आंटीजी, अंकलजी बहुत ‘स्मार्ट’ हैं, आप ने कहां से ढूंढ़ा इन्हें? जाने कब भोलेपन में मैं ने वे सारी बातें नितिन को बता दी थीं. वक्त गुजरता जा रहा था.

एक दिन रविवार की शाम को मैं रसोई में खाना पका रही थी और नितिन पहली मंजिल पर अपने बैडरूम में टेलीविजन देख रहे थे. मांजी रसोई के साथ लगते अपने कमरे में बैठ कर कोई किताब पढ़ रही थीं. अंकिता को भी आयशा के साथ पहली मंजिल पर बच्चों के कमरे में खेलने के लिए छोड़ा हुआ था. मुझे अचानक याद आया कि नितिन रात के खाने में कभीकभार प्याज तो खा ही लेते हैं इसलिए सोचा कि चलो क्यों न काटने से पहले पूछ ही लिया जाए. पहले तो आवाज लगाई थी. नितिन ने टेलीविजन की आवाज इतनी तेज कर रखी थी कि कोई फायदा न जान मैं सीढि़यां चढ़ते हुए अपने बैडरूम की तरफ चल दी थी. मैं ने जैसे ही कमरे में प्रवेश किया तो जो देखा उसे देखने के साथ तो मेरी सांस ऊपर की ऊपर और नीचे की नीचे रह गई थी. मैं कभी स्वप्न में भी नहीं सोच सकती थी, जो मेरे सामने हो रहा था.

आयशा अंकिता को फर्श पर खिलौने के साथ छोड़ कर खुद सोफे पर नितिन के होंठों में होंठ लगाए अनंत आनंद की यात्रा में तल्लीन थी. नितिन ने एक हाथ से आयशा को पूरी तरह से कसकर भींच रखा था तो उन का दूसरा हाथ आयशा के शरीर का मंथन कर रहा था.

अपनी बेटी की देखभाल व रक्षा के लिए रखी गई दूसरे की बेटी के जिस्म का यह कैसा मंथन था? मैं देख कर सन्न रह गई थी. कुछ पलों के बाद जब मुझे वहां अपने खड़े रहने का आभास हुआ तो मैं जोर से चिल्लाई थी, ‘नितिन.’

नितिन की नजर जब मुझ पर पड़ी तो उन का पूरा शरीर कांप उठा था. ठंडे पड़ते बदन में अब इतनी भी हिम्मत नहीं रही थी कि वे आयशा को अपने से अलग कर सके. आयशा ने पलट कर मेरी तरफ देखा तो वह झटके से उठ कर बाथरूम की तरफ भाग गई. और फिर बाथरूम की टोटी से पानी गिरने की आवाजें आने लगी थीं. उस पल पता नहीं मेरे मन में क्या आया, मैं ने अपनी चप्पल पैर से निकाली थी और नितिन के मुंह में ठूंस दी थी. फिर जोर से चिल्लाई थी, ‘गंदगी में ही मुंह मारना है तो लो मैं ही खिला देती हूं तुम्हें.’

तभी नीचे से मांजी की आवाज आई थी, ‘बहू क्या हुआ?’

मांजी की आवाज सुनते ही नितिन मेरे पैरों में पड़ गए थे. वे कुछ ही क्षणों में वह सबकुछ कह गए थे जो एक पत्नी को अपने पति के अहम को तोड़ने के लिए काफी होता है. मांजी जब तक सीढि़यां चढ़ कर हमारे बैडरूम में पहुंचीं तब तक नितिन वापस सोफे पर बैठ चुके थे व मैं ने अंकिता को गोद में उठा लिया था.

‘बहू, क्या हुआ था जो इतनी जोर से चिल्लाई?’

‘कुछ नहीं मांजी, बैडरूम से कुछ गिरने की आवाज आई थी. मैं ने आ कर देखा तो अंकिता बैड से नीचे गिरी हुई थी. उसे देख कर मेरे मुंह से चीख निकल गई.’

‘आयशा कहां है?’ मांजी के पूछने पर मैं ने कह दिया कि वह बाथरूम में है. मेरा जवाब सुन कर मांजी यह कहते हुए वापस अपने कमरे की तरफ चली गई थीं कि पता नहीं आजकल के मांबाप क्या करते रहते हैं? 2 बच्चों की भी ढंग से देखभाल नहीं कर सकते. उस के लिए भी अलग से कामवालियां. अरे, हम ने भी तो बच्चे पाले हैं, एक नहीं…4-4…

मांजी के जाने के बाद मैं ने आयशा को बाथरूम से जल्दी बाहर निकलने को कहा था. वह जब तक बाथरूम से बाहर नहीं आई, मैं अंकिता को गोद में लिए फनफनाती हुई बाथरूम के आगे ही उस की प्रतीक्षा में चक्कर लगाती रही. बाथरूम की कुंडी खुली तो मेरी निगाहें दरवाजे पर जा कर अटक गई थीं. आयशा ने जिन कपड़ों को पहन रखा था वह उन्हीं कपड़ों में नहा कर बाथरूम से बाहर निकल आई थी. उस को देखने से ऐसा आभास हो रहा था कि जैसे उस के तनबदन में अब भी कामाग्नि हिलौरे ले रही थी. आयशा की आंखों में कहीं भी अपराधबोध, आत्मग्लानि व पश्चात्ताप के भाव नजर नहीं आ रहे थे. तब मुझ से रहा नहीं गया. मैं ने उस के गीले गाल पर अपने उलटे हाथ का एक जोरदार थप्पड़ जड़ते हुए कहा था, ‘आयशा, जल्दी से कपड़े बदल कर मेरे कमरे में आओ.’

वह थोड़ी देर के बाद हमारे बैडरूम में हम दोनों के बीच थी, मगर कोई शिकन उस के चेहरे पर नहीं थी. मैं उस के इस रूप को देख कर हैरान व परेशान थी. मैं ने ही मन में सोचा कि इस लड़की को नितिन ने ऐसा कौन सा पाठ पढ़ा दिया है जो यह इतनी बड़ी भूल करने के बाद भी बिलकुल सामान्य हो कर खड़ी है.

मैं ने एकाएक आयशा से पूछा, ‘आयशा, यह सब कब से चल रहा है?’

‘मुझ से क्या पूछती हो आंटी, अंकल से पूछो न.’

उस का यह उत्तर सुन कर मैं ने अपना रुख नितिन की ओर किया तो नितिन ने अपना मुंह नीचे फर्श पर गड़ा दिया. मुझे लगा था कि नितिन का मन पश्चात्ताप के कुएं में डुबकियां मार रहा था.

आयशा का दाहिना हाथ पकड़ कर उसे दूसरे कमरे में ले गई और वहां उसे एक सोने की लौंग व 3-4 पुराने सूट दे कर कहा, ‘अपना सारा सामान अभी समेट लो…और ध्यान से सुन, तू इस बात का किसी से भी जिक्र नहीं करेगी…और हां, अपनी मां को कह देना कि अब हमें तुम्हारी जरूरत नहीं रही.’

आयशा वाली घटना को अभी 7-8 महीने ही हुए होंगे कि नितिन ने रात को देर से आना शुरू कर दिया था. पूछने पर कहा था, ‘आजकल आर्डर अधिक हैं, सो रात वाली शिफ्ट में भी लेबर से काम होता है.’

तब नितिन ने मेरी आंखों पर मेहनत की बातों का ऐसा चश्मा चढ़ाया था कि जब तक मेरी आंखों ने परदे के पीछे की सचाई को देखना शुरू किया तब तक नितिन एक और सांवलीसलोनी के साथ जाने कब ऐसे घुलमिल गए जैसे पानी के साथ चीनी. और उस सावंलीसलोनी औरत के साथ नितिन न जाने अपनी कितनी रातें रंगीन कर चुके थे. बाद में पता लगा था कि उस औरत को उस के पति ने छोड़ रखा था और वह ऐसे ही शिकार की तलाश में रहती थी.

मेरा जब कभी भी फैक्टरी में जाना होता तो वह औरत हलकी सी हंसी होंठों पर ला कर बड़े ही अंदाज से ‘नमस्तेजी’ कहती थी.

मेरी यादों में जीवित होहो कर उन सब की ‘नमस्तेजी’ अब भी व्यंग्य कसती है मुझ पर. मैं आज तक उन हादसों से अपनेआप को नहीं निकाल पाई हूं. पति पर शक करना अपनी गृहस्थी में कांटे बोना जैसा होता है. पर जब शक विश्वास में बदल जाए तो जिंदगी नीरस हो कर रह जाती है.

मैं शादी के बंधन से ही विश्वास खो बैठी हूं और शायद, तभी से खुद को वैसा कभी नहीं पाया जैसा विश्वास टूटने से पहले…बस, गृहस्थी की डगर पर चलती जा रही हूं. शायद यह सोच कर कि वैवाहिक जीवन के आधे से अधिक का रास्ता तय करने के बाद भारतीय नारी के लिए पलट कर वापस पहले छोर पर जाने की गुंजाइश कहां रहती है, क्योंकि इसी रास्ते पर हमारे पीछेपीछे कुछ नन्हेनन्हे पांव भी चल रहे होते हैं. अगर कदम वापस लिए तो ये नन्हेनन्हे पांव असंतुलित हो, हम से भी पहले गिर सकते हैं और कुचल भी सकते हैं.

यह सब सोच कर ही मैं नहीं रुकने देती गृहस्थी के पहिए को…और चलती जा रही है नितिन के साथसाथ मेरी जिंदगी की गाड़ी सुनसान मोड़ों पर, ऊबड़खाबड़, पथरीले रास्तों से गुजरती हुई एक अनजान मंजिल की तरफ.

आज चेहरा दूसरा है. आयशा की जगह धोबी की लड़की है. मगर ‘नमस्ते जी’ के पीछे छिपे अभिप्राय को मैं जहां तक समझ पाई हूं, वह केवल एक ऐसा मर्द ढूंढ़ना है जो सभ्यता व संस्कार का मुखौटा लगाए तलाश में रहता है प्रतिपल एक नए संबोधन की कि कोई मुसकराए और धीरे से कहे,

 

‘‘नमस्ते जी.’’

Tags:
COMMENT