जब जब मैं कोठियों में रहने वाले अमीर पड़ोसियों को नजदीक से समझने की कोशिश करती, तभी नीरज एक नई शंका जता बैठता.
'गृहशोभा' पर आप पढ़ सकते हैं 10 आर्टिकल बिलकुल फ्री , अनलिमिटेड पढ़ने के लिए Subscribe Now
The Planet