लेखक- कर्नल पुरुषोत्तम गुप्त (से.नि.)

‘‘अब क्या होगा?’’ माथे का पसीना पोंछते हुए नरेंद्र ने नंदिता की ओर देखा. फरवरी माह में तापमान इतना नहीं होता कि बैठेठाले व्यक्ति को पसीना आने लगे. अंतर्मन में चल रहे द्वंद्व और विकट मनोस्थिति से गुजर रहे नरेंद्र के पसीने छूट रहे थे. यह केवल एक साधारण सा प्रश्न था या उस अवसाद की पराकाष्ठा जो उस को तब से साल रही थी जब से उसे वह पत्र मिला है.

कुछ पल दोनों के बीच मरुस्थल जैसी शांति पसरी रही. फिर नंदिता बोली, ‘‘इतनी चिंता ठीक नहीं. जो होगा सो होगा. शांत मन से उपाय ढूंढ़ो. अकेले तुम तो हो नहीं. हमाम में तो सारे ही नंगे हैं. और फिर ये ढेर सारे मंत्री, जिन की तोंद मोटी करने में तुम्हारा भी अहम योगदान रहा है, क्या तुम्हारी मदद नहीं करेंगे?’’

अपनी बात नंदिता पूरी कर भी नहीं पाई थी कि नरेंद्र ने कहा, ‘‘डूबते जहाज से चूहे तक भाग जाते हैं. यह एक पुरानी कहावत है. मुझे नेता वर्ग से कतई उम्मीद नहीं है कि वे मुझे इस मुसीबत से निकालेंगे. इस घड़ी में मुझे मित्र के नाम पर कोई भी नजर नहीं आता.’’

नरेंद्र के कथन में निराशा और व्यथा का मिश्रण था. नंदिता, जिस की सोच कुछ अधिक जमीनी थी, कुछ पल सोचने के बाद बोली, ‘‘इस परेशानी के हल के लिए भी पक्के तौर पर वकील होंगे जैसे हर बीमारी के लिए अलगअलग डाक्टर होते हैं. जरूरत है तो थोड़े प्रयास की. विश्वासपात्रों के जरिए पता लगाओ और सब से अच्छे वकील की सहायता लो. थोड़ेबहुत संपर्क मेरे भी हैं. मैं भी भरपूर प्रयास करूंगी कि कोई रास्ता निकले.’’

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 2000 से ज्यादा कहानियां
  • ‘कोरोना वायरस’ से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • हेल्थ और लाइफ स्टाइल के 3000 से ज्यादा टिप्स
  • ‘गृहशोभा’ मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • 2000 से ज्यादा ब्यूटी टिप्स
  • 1000 से भी ज्यादा टेस्टी फूड रेसिपी
  • लेटेस्ट फैशन ट्रेंड्स की जानकारी
Tags:
COMMENT