लेखक- कर्नल पुरुषोत्तम गुप्त (से.नि.)

‘‘अब क्या होगा?’’ माथे का पसीना पोंछते हुए नरेंद्र ने नंदिता की ओर देखा. फरवरी माह में तापमान इतना नहीं होता कि बैठेठाले व्यक्ति को पसीना आने लगे. अंतर्मन में चल रहे द्वंद्व और विकट मनोस्थिति से गुजर रहे नरेंद्र के पसीने छूट रहे थे. यह केवल एक साधारण सा प्रश्न था या उस अवसाद की पराकाष्ठा जो उस को तब से साल रही थी जब से उसे वह पत्र मिला है.

Digital Plans
Print + Digital Plans

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 2000 से ज्यादा कहानियां
  • ‘कोरोना वायरस’ से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • हेल्थ और लाइफ स्टाइल के 3000 से ज्यादा टिप्स
  • ‘गृहशोभा’ मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • 2000 से ज्यादा ब्यूटी टिप्स
  • 1000 से भी ज्यादा टेस्टी फूड रेसिपी
  • लेटेस्ट फैशन ट्रेंड्स की जानकारी
Tags:
COMMENT