दरअसल, मजहब कुछ नहीं सिखाता, अगर सिखाता होता तो हजारों   साल से चले आ रहे इस देश में धर्म के नाम पर इतने दंगेफसाद न होते, इतने जानलेवा हमले न होते. इतने वर्षों से सुनाए जा रहे ढेरों उपदेशों का कहीं कुछ तो असर होता.  अद्भुत बात यह है कि हमारा देश धर्मपरायण भी है और धर्मनिरपेक्ष भी, यहां एकदेववाद भी है और बहुदेववाद भी, ‘जाकी रही भावना जैसी.’ जो जिस के लिए लाभकारी है वह उस का सेवन करता है. राजनीति के लिए धर्म बीमारी भी है और दवा भी. धर्म को चुनाव के समय जाति के साथ मिलाया जाता है और दंगों के समय उसे संप्रदाय नाम दिया जाता है.

हमारा देश धर्मप्राण देश कहलाता है क्योंकि यहां धर्म की रक्षा के लिए प्राण लेने और देने का सिलसिला जमाने से चला आ रहा है. बलिप्रथा आज भी बंद नहीं हुई है. धर्म के लिए बलिदान लेने वालों की व देने वालों की आज भी कमी नहीं है. भाई के लिए राजगद्दी छोड़ने वाला धर्म जायदाद के लिए भाई पर मुकदमा करना, उस का कत्ल करना सिखा रहा है. जिस धर्म ने धन को मिट्टी समझना सिखाया वही धर्म मिट्टी को धन समझ कर हड़पना, लूटना, नुकसान पहुंचाना सिखा रहा है.

हमारा देश धर्मनिरपेक्ष भी कहलाता है, लेकिन यह कैसी निरपेक्षता है कि हम अपने धर्म वाले से अपेक्षा करते हैं कि वह दूसरे धर्म वाले की हत्या करे. दूसरे धर्म वाले का सम्मान करने के बजाय अपमान करने के नएनए तरीके ढूंढ़ते रहते हैं. सुबह से शाम तक ‘रामराम’ करने वाले ऐसेऐसे श्रेष्ठ लोग हैं, जिन के कुल की रीति है, ‘वचन जाए पर माल न जाए.’ ऐसे ही श्रेष्ठ भक्तों के लिए कहावत बनी है, ‘रामराम जपना, पराया माल अपना.’ ऐसे ही श्रेष्ठ लोग मंत्रियों को गुप्तदान देते हैं. उन के शयनकक्ष से किसी भी पार्टी का कोई नेता खाली ब्रीफकेस ले कर नहीं लौटता. अपनेअपने धर्माचार्यों की झोली भी वही भरते जाते हैं. झोली इसलिए कि वे धन को हाथ से छूते तक नहीं.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 2000 से ज्यादा कहानियां
  • ‘कोरोना वायरस’ से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • हेल्थ और लाइफ स्टाइल के 3000 से ज्यादा टिप्स
  • ‘गृहशोभा’ मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • 2000 से ज्यादा ब्यूटी टिप्स
  • 1000 से भी ज्यादा टेस्टी फूड रेसिपी
  • लेटेस्ट फैशन ट्रेंड्स की जानकारी
Tags:
COMMENT