लेखक- अहमद सगीर

नफीसा को तो पता ही नहीं चला कि नदीम कब उस के पास आ कर खड़ा हो गया था. जब नदीम ने उस के कंधे पर हाथ रखा तो वह चौक पड़ी और पूछा, ‘‘आप यहां पर कब आए जनाब?’’

‘‘जब तुम ने देखा,’’ कहते हुए नदीम ने नफीसा को गौर से देखा.

‘‘ऐसे क्या देख रहे हैं?’’ नफीसा ने शरारत भरे लहजे में पूछा.

‘‘तुम वाकई बहुत खूबसूरत हो. ऐसा लगता है जैसे कमरे में चांद उतर आया है,’’ नदीम ने नफीसा की आंखों में झांकते हुए कहा.

‘‘आप की दीवानगी भी निकाह के 7 साल बाद भी कम नहीं हुई है,’’ नफीसा हंसते हुए बोली.

‘‘क्या करूं, यह तुम्हारे हुस्न की ही करामात है,’’ नदीम उस की हंसी को गौर से देखे जा रहा था.

‘‘बस... बस, मेरी ज्यादा तारीफ मत कीजिए,’’ कह कर नफीसा उठ कर जाने लगी तो नदीम ने उस का हाथ पकड़ लिया.

‘‘क्या कर रहे हैं आप... कोई आ जाएगा,’’ नफीसा बोली तो नदीम ने उस का हाथ छोड़ दिया और वह मुसकराते हुए कमरे से चली गई.

रात घिर चुकी थी. न जाने क्यों रात होते ही नफीसा घबरा जाती. उसे डर सा लगने लगता. नदीम उस के बगल में सो रहा होता था, मगर उसे लगता जैसे वह उस के पास रह कर भी अकेली है.

ये भी पढ़ें- विरासत: नंद शर्मा को क्या अपनी मिट्टी की कीमत समझ आई?

नफीसा सोचने लगी, ‘कितने साल गुजर गए या गुजरते जा रहे हैं... बिन बादल और प्यास से भरी जिंदगी में पानी तलाशते हुए हवा के साथ मैं बहुत दूर निकल जाती हूं, मगर मुझे कोई सहारा नजर नहीं आता है. बारिश का एक कतरा सीप के अंदर मोती पैदा कर देता है... मगर मैं?’

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 2000 से ज्यादा कहानियां
  • ‘कोरोना वायरस’ से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • हेल्थ और लाइफ स्टाइल के 3000 से ज्यादा टिप्स
  • ‘गृहशोभा’ मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • 2000 से ज्यादा ब्यूटी टिप्स
  • 1000 से भी ज्यादा टेस्टी फूड रेसिपी
  • लेटेस्ट फैशन ट्रेंड्स की जानकारी
Tags:
COMMENT