किचन में जूठे बरतनों का ढेर लगा था तो बाथरूम में कपड़ों का. घर भी एकदम अस्तव्यस्त था. आभा की समझ में नहीं आ रहा था की शुरुआत कहां से करें. कितनी बार कहा नवल से कि वाशिंग मशीन ठीक करा दो, पर सुनते ही नहीं हैं. बाई भी जबतब छुट्टी मार जाती है. लगता है जैसे मुफ्त में काम कर रही हो. निकालती इसलिए नहीं उसे, क्योंकि फिर दूसरी जल्दी मिलती नहीं है और मिलती भी है तो उस के हजार नखरे होते हैं. बाईर् आज भी न आने को कह गई है.

रिनी से तो कुछ कहना ही बेकार है. जब भी आभा कहती है कि अब बच्ची नहीं रही. कम से कम कुछ खाना बनाना तो सीख ले, तो नवल बीच में ही बोल पड़ते कि पुराने जमाने सी बात मत करो. अरे, आज लड़कियां चांद पर पहुंच गई हैं और तुम अभी भी चूल्हेचौके में ही अटकी हुई हो. मेरी बेटी कोईर् बड़ा काम करेगी. तुम्हारी तरह यह घर के कामों में थोड़े उलझी रहेगी. आभा चुप लगा जाती. इस से रिनी और ढीठ बनती गई.

उस की सास निर्मला से तो वैसे भी घर का कोई काम नहीं होता. नहींनहीं, ऐसी बात नहीं कि अब उन का शरीर काम करना बंद कर चुका है. एकदम स्वस्थ हैं अभी भी, परंतु अपने पूजापाठ, धर्मकर्म और हमउम्र सहेलियों से उन्हें वक्त ही कहां मिलता है, जो वे आभा के कामों में हाथ बटाएंगी. साफ कह दिया है कि बहुत संभाल चुकीं वे घरगृहस्थी.

आभा भी उन से मदद नहीं मांगती, क्योंकि बारबार वही बातों को दोहराना, शिकायतें करना और वे भी तब जब कोई सुनने वाला ही न हो, तो इस से अच्छा तो यही लगा आभा को कि खामोश रहा जाए. इसलिए उस ने खामोशी ओढ़ कर घरबाहर की सारी जिम्मेदारियां अपने कंधों पर ले लीं. लेकिन उस पर भी घर के लोगों को उस से कोई न कोई शिकायत रहती ही. खासकर निर्मला को. वे तो हमेशा बकबक करती रहतीं. पासपड़ोस से आभा की शिकायतें करतीं कि बहू कभी बेटी नहीं बन सकती है.

यहीं पास के ही शिव मंदिर से सटी अरविंद बाबा की कुटिया है, जहां वे अपने चेलेचपाटों के साथ निवास करते हैं. अच्छेअच्छे घरों की महिलाएं उन के चरणों में लोट कर खुद को धन्य मानती हैं और निर्मला भी. बाबा से पूछे बिना वे एक भी काम नहीं करतीं. बाबा का वचन मतलब सत्य वचन होता उन के लिए.

आएदिन मंदिर में कोई न कोई उत्सव होता ही रहता. कभी ठाकुरजी का जन्म उत्सव, कभी ब्याह, कभी यज्ञोपवीत, कभी झूला, कभी जलविहार, कभी कुछ तो कभी कुछ लगा ही रहता. और इन अवसरों पर निर्मला भी खूब चढ़ावा चढ़ातीं. बाबा के बहाने ही तो आखिर उन्हें घर के कामों से फुरसत मिलती और दूसरी औरतों की कहानियां सुनने को मिलतीं. बाबा न होता तो जिम्मदारियों से जूझना पड़ता.

मेहनत की कमाई यों लूटे, अच्छा तो नहीं लगता पर धर्म के मामले में कौन मुंह खोले. इसलिए आभा और नवल चुप ही रहते थे. वैसे भी धर्मसंकट सब से बड़ा संकट होता है. लेकिन आभा इन कर्मकांडों का हिस्सा कभी नहीं बनी और इसीलिए निर्मला उस से क्षुब्ध रहतीं. गुस्सा तो आभा को तब आता, जब निर्मला उस अरविंद बाबा को अपने घर पर प्रवचन, भजन, कीर्तन करवाने बुला लेती थीं. महीने में यह

2-3 बार होता ही होता था. लेकिन इन सब ढकोसलों से बच्चों की पढ़ाई का नुकसान होता और यही बात आभा को बरदाश्त नहीं होती. इसलिए एक दिन आभा ने इस बात का पुरजोर विरोध किया और कहा कि जरूरत नहीं इन बाबाओं को घर बुलाने की, क्योंकि वह इन सब ढकोसलों में बिलकुल विश्वास नहीं करती है, उसे तो बस कर्म पर भरोसा है.

नवल ने कुछ कहा तो नहीं, पर लगा आभा सही कह रही है और वैसे भी घर में जवान लड़की है, तो क्या जरूरत है मां को इन्हें घर पर बुलाने की? समझ गई निर्मला कि बेटा भी बहू की बात से सहमत है. कुछ कहा तो नहीं, पर मन ही मन बड़बड़ाईं कि यहां लोग दूरदूर से बाबा के दर्शन करने आते हैं, पर इन अभागों को कौन समझाए यह बात?

इधर कुछ दिनों से आभा की तबीयत ठीक नहीं लग रही थी. बहुत थकान महसूस हो रही थी. सिर भी भारीभारी लग रहा था. हलका बुखार भी रहने लगा था. खाने की इच्छा तो होती ही नहीं थी. जबरदस्ती अगर कुछ खा भी लेती, तो पेट में दर्द होने लगता और उलटी हो जाती. समझ में नहीं आ रहा था कि आखिर उसे हो क्या गया है? जब नवल से कहती, तो वे चिढ़ कर कहते डाक्टर को दिखा लो. बहुत होता तो मैडिकल स्टोर से दवा ला कर पकड़ा देते और साथ में

10 बातें भी सुना देते कि उस सुमन से गप्पें मारने का समय होता है, घंटों सासबहू के सीरियल देख सकती, पर डाक्टर के पास नहीं जा सकती. घर में काम ही कितना होता है जो हर वक्त काम की दुहाईर् देती रहती है? ऐसी बातें बोल कर नवल आभा को चुप करा देता और वह बेचारी सोचती कि जाने दो ठीक हो जाएगा अपनेआप, पर मर्र्ज था कि दिनप्रतिदिन बढ़ता ही जा रहा था.

हमारे समाज में सदियों से औरतें खुद को इगनोर करती आई हैं. आज भी औरतों के लिए पहले पति, बच्चों और परिवार के अन्य सदस्यों का स्वास्थ्य सर्वोपरि होता है. आभा का भी यही हाल था. अगर घर में किसी को एक छींक भी आ जाए, तो परेशान हो उठती थी, लेकिन अपनी परेशानी ठीक हो जाएगी सोच कर टाल जाती थी.

उस दिन आभा का जी बहुत मिचला रहा था. सिर में दर्द तो इतना कि लग रहा था फट

ही जाएगा. सोचा नवल औफिस जा ही रहे हैं तो उसे डाक्टर के पास छोड़ देंगे और फिर वह दिखा कर वापस आ जाएगी. अत: बोली, ‘‘सुनिएजी, आप सिर्फ मुझे अस्पताल छोड़ दीजिए, मैं डाक्टर से दिखा कर वापस आ जाऊंगी.’’

नवल जो गाना गुनगुनाते हुए अपनी टाई ठीक कर रहा था आभा की बात सुनते ही फूट पड़ा, ‘‘पागल हो क्या? खुद मुझे देर हो रही है और तुम और देर करवाने की फिराक में लगी हो? जाओ न खुद दिखा लो डाक्टर को. वैसे भी जब देखो, कोई न कोई बीमारी लगी ही रहती है तुम्हें… एक तो कमा कर खिलाओ और फिर ये सब लफड़े… नहीं होगा इतना मुझ से,’’ भुनभुनाते हुए नवल औफिस निकल गया और आभा हैरान सी उसे जाते देखती रह गई. लगा सब की सेवा करे तो ठीक, लेकिन अपने बारे में कुछ बोले, तो कैसे नवल खीज उठते हैं.

औरत की तो यही दशा है. सब के लिए सोचती है, लेकिन जब किसी को उस के लिए करना पड़ जाए, तो वह उकताने लगता है. बेचारी आभा, अपने दर्द को दरकिनार कर फिर घर के कामों में जुट गई.

रात में आभा को बड़ी बेचैनी होने लगी. गरम पानी के सेंक से और बाम लगा लेने से पेट दर्द और सिरदर्द तो कुछ ठीक हुआ, लेकिन सूखी खांसी बड़ी परेशान करने लगी. बुखार था सो अलग. कमजोरी से उठने का मन नहीं कर रहा था. लग रहा था कोई पानी पिला दे. इसलिए नवल को उठाया, लेकिन कैसे झल्लाते हुए उस ने उसे पानी दिया वही जानती है. बेचैनी के मारे फिर पूरी रात उसे नींद नहीं आई. सारा बदन दर्द के मारे टूट रहा था, मगर कहे तो किस से?

सुबह किसी तरह उठ चायनाश्ता बनाया. नवल को औफिस भेज कर किचन का बाकी काम अभी समेट ही रही थी कि एकदम से चक्कर आ गया और वहीं धड़ाम से गिर पड़ी. वह तो वक्त पर सुमन वहां पहुंच गईर् और उसे डाक्टर के पास ले गई वरना जाने क्या अनर्थ हो जाता. अस्पताल से ही रिनी ने पापा को फोन कर के बताया कि मां बेहोश हो गई हैं. जल्दी अस्पताल पहुंचें.

नवल आननफानन में वहां पहुंच गया. जांच कर डाक्टर ने बताया कि आभा को हैपेटाइटिस बी हुआ है और उसे अस्पताल में भरती करना पड़ेगा. सुन कर तो जैसे नवल को चक्कर ही आ गया. लगा अब घर कैसे चलेगा? आभा इतनी बीमार है इस की उसे जरा भी परवाह नहीं. चिंता होने लगी कि घर कैसे चलेगा?

रिनी को घर भेज कर वह आभा के पास ही रुक गया. सोचने लगा कि बैठेबैठाए यह कौन सी मुसीबत आन पड़ी? अब घरबाहर के काम कौन करेगा? आभा पर ही गुस्सा आने लगा उसे कि अगर खुद पर ध्यान देती तो यह मुसीबत न आती. अब क्या करेगा वह? घर, औफिस और अस्पताल के चक्कर में तो मर ही जाएगा.

‘‘पहले वहां जा कर पैसे जमा कर आइए,’’ जब नर्स ने कहा, तो नवल का ध्यान टूटा. लगा अब 4-6 हफ्तों का चक्कर तो लग ही गया, क्योंकि डाक्टर कह रहा था कि इलाज में वक्त लगेगा. सोचसोच कर नवल का माथा घूम रहा था, जो आभा से छिपा न रह सका. वह समझ रही थी कि नवल पर कैसी मुसीबत आन पड़ी. घरबाहर सब कैसे मैनेज होगा? अगर जल्दी अस्पताल से छुट्टी मिल जाए तो अच्छा है. बेचारी को अब भी नवल की ही फिक्र हो रही

थी और वह मन ही मन आभा को ही कोसे जा रहा था जैसे उस ने खुद बीमारी को बुलावा दिया हो. वह बेचारी तो खुद दर्द से तड़प रही थी, लेकिन फिर भी नवल का मुंह देखे जा रही थी. अब भी उसे घर की ही चिंता लगी थी कि वहां सब कैसे होगा.

‘‘सुनिएजी, सुमन है मेरे पास, तो आप घर जाइए. वहां भी सब परेशान हो रहे होंगे. जल्द ही ठीक हो जाऊंगी. आप चिंता मत कीजिए,’’ दर्द से कहराते हुए आभा ने कहा.

मगर नवल उस की बातों पर ऐसा झल्ला उठा कि पूछो मत. मुंह बनाते हुए बोला, ‘‘क्या चिंता न करूं? अगर तुम खुद का ध्यान रखती, तो आज यह दिन न आता?’’

मगर वह भूल गया कि एक वही है जो घर में सब का ध्यान रखती है. घरबाहर के कामों से ले कर सब की छोटीबड़ी जरूरतों तक की जिम्मेदारी उसी की है, तो कहां बेचारी को समय मिलता है जो अपना ध्यान रखे.

आभा के अस्पताल में रहने से हफ्तेभर में ही घर की हालत बिगड़ने लगी. इधर नवल औफिस और अस्पताल के चक्कर में पिस रहा था और उधर रिनी और निर्मला घर के कामों को ले कर उलझ पड़तीं. सोनू भी अपनी मनमानी करने लगा था. आभा थी तो डांटडपट कर उसे पढ़ने बैठा दिया करती थी, लेकिन उस के न रहने से वह एकदम लापरवाह हो गया था. दिनभर दोस्तों के साथ घूमताफिरता. जब पूछो, तो सोनू घर पर नहीं है, सुनने को मिलता और नवल का माथा गरम हो जाता. लेकिन किसेकिसे देखे वह?

तभी सुमन आ कर बोली कि उस का पति 14 दिनों के लिए औफिस के काम से बाहर जा रहा है, तो आज रात से वह आभा के पास रुक जाया करेगी. सुन कर नवल ने राहत की सांस ली, क्योंकि वह कई दिनों से ठीक से सो भी नहीं पा रहा था. लगा, जिस सुमन को वह चुगलखोर औरत कह कर संबोधित करता रहा, जिसे देखते ही उसे चिढ़ होने लगती थी आज वही सुमन उस के काम आ रही है. एक वही थी जो आभा के पास जा कर बैठती थी, जब नवल औफिस में होता तब.

आभा के लिए सुबह का चायनाश्ता, दोपहर का खाना ज्यादातर वही तो बना कर ले जाती थी. अपनी करनी पर पछतावा कर मन ही मन वह सुमन का शुक्रगुजार होने लगा. नवल को अब आभा की चिंता सताने लगी थी, क्योंकि डाक्टर कह रहा था कि अगर हैपेटाइटिस बीमारी लंबे समय तक रहे तो लिवर काम करना बंद कर सकता है या फिर कैंसर अथवा घाव हो सकते हैं. कहीं आभा को ऐसा कुछ हो गया तो बिस्तर पर पड़ेपड़े ही वह सोचने लगा. चिंता के मारे उसे नींद नहीं आ रही थी.

नवल जैसे ही अस्पताल पहुंचा तो आभा का मृत शरीर बैड पर पड़ा दिखा.

दोनों बच्चे बिलख रहे थे. निर्मला भी एक कोने में दुबकी यह कहकह कर सिसक रही थीं कि उस के मरने की उम्र न थी. फिर आभा क्यों चली गई? उधर सुमन उसे धिक्कार रही थी कि वही आभा की मौत का जिम्मेदार है. उसी ने उस की जान ली. कहती रही तबीयत ठीक नहीं है दिखा दो डाक्टर को पर नहीं दिखाया. लो देखो मर गई न… मौज करो अब. तभी अचानक हवा का झोंका आया और खिड़की का पल्ला धड़ाम से बंद हुआ तो नवल घबरा कर उठ बैठा. देखा, वहां कोई न था सिवा उस के.

‘उफ, तो यह सपना था?’ अपने दिल पर हाथ रख नवल ने एक गहरी सांस ली और फिर आभा की याद सताने लगी. मन हुआ फोन कर ले, पर लगा नहीं, अस्पताल है. लेकिन आभा को ले कर उस के मन में बुरेबुरे विचार आने लगे. ऐसा ही होता है, मुसीबत के वक्त नकारात्मक बातें दिमाग पर ज्यादा हावी हो जाती है. चाह कर भी इंसान अच्छी बातें सोच नहीं पाता. घबराहट के मारे वह पसीने से तरबतर हो गया. प्यास के मारे गला भी सूखने लगा. देखा, तो जग खाली पड़ा था. आभा थी तो रोज पानी भर कर रख दिया करती थी.

जैसे ही नवल पानी लेने किचन की तरफ जाने लगा, देखा, रिनी के कमरे की लाइट औन है. लगा भूल गई होगी, लेकिन जब कमरे से फुसफुसाने की आवाज आई, तो वह उस ओर बढ़ गया.

वह फोन पर किसी से कह रही थी, ‘‘अरे, समझो, पापा घर पर ही हैं तो कैसे आऊं?’’

उधर से फिर उस ने कुछ बोला, तो रिनी कहने लगी, ‘‘कहा न नहीं आ सकती, अब फोन रखो कोई सुन लेगा… हांहां कल देखती हूं.’’

‘‘रिनी…’’ नवल जोर से चीखा. उस के हाथ से फोन खींच कर अभी कुछ बोलता कि तभी उधर से उस ने फोन काट दिया. दोबारा

फोन मिलाया, पर स्विच औफ आने लगा. जाहिर सी बात थी उस ने अपना फोन स्विचऔफ कर दिया था. लेकिन इतना तो पता चल गया नवल को कि रिनी किसी लड़के से बात कर रही थी. गुस्से से पापा को लाल होते देख रिनी डर के मारे थरथराने लगी.

‘‘किस से बात कर रही थी? कौन था यह लड़का?’’ नवल ने गुस्से में पूछा.

‘‘क… क कौन लड़का… कोई तो नहीं पापा,’’ रिनी साफ झूठ बोल गई.

‘‘चुप, झूठ मत बोल… अभी मैं ने सुना तुम किसी लड़के से मिलने की बात कर रही थी, पर पापा घर पर हैं इसलिए नहीं आ सकती… यही कहा न तुम ने उस लड़के से? बोलो कौन है वह?’’ नवल चीखते हुए बोला.

‘‘कोई तो न था पापा,’’ रिनी बोली.

नवल ने एक जोर का चांटा रिनी के मुंह पर मारते हुए कहा, ‘‘खबरदार जो आज के बाद बिना मेरे पूछे घर से बाहर कदम भी निकाला.’’

नवल का गुस्सा देख रिनी सहम गई कि मां ने तो समझा कर छोड़ दिया पर पापा तो जान ही ले लेंगे उस

की, क्योंकि नवल का गुस्सा वह अच्छी तरह जानती थी.

अब नवल की नींद और उड़ गई. सोचने लगा जवान लड़की है. अगर कदम

बहक गए तो क्या होगा? सचेत तो किया था आभा ने कितनी बार, पर वही उस की बात को आईगई कर दिया करता था. पता चला कि रिनी अपने ही कालेज के एक लड़के से प्यार करती है और उस से छिपछिप कर मिलती है. आभा के समझाने के बाद भी जब वह लड़का रिनी से मिलता रहा, तो वह उस के घर जा कर वार्निंग दे आईर् कि अगर फिर कभी दोबारा वह रिनी से मिला या फोन किया, तो पुलिस में शिकायत कर देगी. रिनी को भी उस ने खूब फटकार लगाई थी. कहा था कि अगर नहीं मानी, तो नवल को बता देगी. तब रिनी का ध्यान उस लड़के से हट गया था, लेकिन आभा के न रहने पर वह फिर मनमानी करने लगी थी.

जो बाबा आभा के डर से घर में आना बंद कर चुका था, क्योंकि वह अंधविश्वास विरोधी थी, वह फिर से उस के घर में डेरा जमाने लगा. घर की सुखशांति के नाम पर वह हर दिन कोई न कोई पूजापाठ, जपतप करवाता रहता और निर्मला से पैसे ऐंठता. समझाता कि उस के घर पर किसी का बुरा साया है. कितनी बार कहा नवल ने कि ये सब फालतू की बातें हैं. न पड़ें वे इन बाबाओं के चक्कर में. मगर निर्मला कहने लगी कि वह तो घर की सुखशांति और आभा के अच्छे स्वास्थ्य के लिए ही ये सब कर रही है.

इधर सोनू का मन भी पढ़ाईलिखाई से उचटने लगा था. जब देखो, मोबाइल, लैपटौप में लगा रहता. और तो और दोनों भाईबहन छोटीछोटी बातों पर लड़ पड़ते और ऐसे उठापटक करने लगते कि पूरा घर जंग का मैदान नजर आता. औफिस से आने के बाद घर की हालत देख नवल का मन करता उलटे पांव बाहर चला जाए. एक आभा के न रहने से घर में सब अपनीअपनी मनमानी करने लगे थे. घर की हालत ऐसी बद से बदतर हो गई कि क्या कहें. ऐसी विकट समस्या आन खड़ी हुई थी जिस का कोई रास्ता नहीं सूझ रहा था नवल को.

उधर औफिस में भी कुछ ठीक नहीं चल रहा था. नवल के औफिस में ही एक दोस्त थी रंभा. खूब पटती थी दोनों की. साथ में खानापीना हंसनाबोलना होता था. भले ही घर में आभा इंतजार कर आंखें फोड़ लें, मगर जब तक रंभा मैडम जाने को न कहती, नवल हिलता तक नहीं. रंभा को देखदेख कर ही वह रसिकभाव से कविताएं बोलता और वह इठलाती, मचलती. चुटकी लेते हुए दूसरे कुलीग कहते कि क्या भाभीजी को देख कर भी मन में कविताएं उत्पन्न होने लगती हैं नवल भाई?

तब बेशर्मों की तरह हंसते हुए कहता नवल, ‘‘अब भाभी तो घर की मुरगी है न, दाल बराबर.’’

उस की बात पर जहां सब ठहाके लगा

देते, वहीं रंभा और उस के करीब सरक आती. लेकिन आज वही रंभा उसे छोड़ कर दीपक से मन के तार जोड़ बैठी थी. मुंह से चाहे कुछ

न कहे, पर उस के व्यवहार से तो रोज यही झलकता था कि अब नवल में उसे कोई दिलचस्पी नहीं रह गई.

अब नवल भी इतना बेहया तो था नहीं, जो उस के पीछेपीछे चल पड़ता. रंभा का कुछ साल पहले अपने पति से तलाक हो चुका था और अब वह सिंगल थी. वैसे भी ऐसी औरतों का क्या भरोसा, जो वक्त देख कर दोस्त बदल लें.

‘भाड़ में जाए मेरी बला से’, मन में सोच उसी दिन से नवल ने रंभा से किनारा कर लिया, क्योंकि अब उसे अपने घरपरिवार को देखना था. अपनी पत्नी को समय देना था.

कितनी बार आभा ने चेताया था कि रिनी पर ध्यान दो, लड़की है. जरा भी पैर फिसला, तो बदनामी हमारी होगी. मगर हर बार ‘पागलों सी बातें मत करो’ कह कर नवल उसे ही चुप करा दिया करता था. कहता, वह बच्चों के पीछे पड़ी रहती है. क्या कोई मां अपने बच्चों के पीछे पड़ सकती है कभी? वह तो बच्चों के भले के लिए ही उन्हें डांटतीफटकारती थी. परंतु यह बात आज नवल को समझ में आ रही थी कि आभा कितनी सही थी और वह कितना गलत. सुविधाएं और आजादी तो दी उस ने बच्चों को, पर वह नहीं दे पाया जो उन्हें देना चाहिए था. संस्कार, अच्छी सीख, जिम्मेदारी.

पूछने पर डाक्टर ने बताया कि अब आभा पहले से काफी बेहतर है और

2-4 दिन में उसे अस्पताल से छुट्टी दे दी जाएगी. लेकिन उस का पूरा खयाल रखना पड़ेगा, क्योंकि अभी भी बहुत कमजोर है.

जब वार्ड में गया, तो आभा सो रही थी, सो उसे जगाना सही नहीं लगा. धीरे से स्टूल खींच कर बैड के समीप ही नवल बैठ गया और एकटक आभा को निहारने लगा. बेजान शरीर, पीला पड़ा चेहरा, धंसी आंखें देख कर सोचने लगा कि क्या यह वही आभा है जिसे कभी वह ब्याह कर लाया था. कैसा फूल सा मुखड़ा था इस का और आज देखो, कैसा मलिन हो गया है. अगर आज मैं इस की जगह होता, तो यह दिनरात एक कर देती. पागल हो जाती मेरे लिए लेकिन मैं क्या कर पा रहा हूं इस के लिए, कुछ भी तो नहीं? सोच कर नवल की आंखें सजल हो गईं.

जब आभा की आंखें खुलीं और सामने नवल को देखा, तो उस के चेहरे पर ऐसा तेज आ गया जैसे अग्नि में आहुति पड़ गई हो. इधरउधर देखने लगी. लगा बच्चे भी आए होंगे. कितने दिन हो गए थे उसे अपने बच्चों को देखे हुए. लग रहा था एक बार आंख भर कर बच्चों को देखे. उठने की कोशिश करने लगी, पर कमजोरी के कारण उठ नहीं पा रही थी.

नवल ने उसे सहारा दे कर बैठाया और पूछा, ‘‘कैसी तबीयत है अब?’’

उस ने इशारे से कहा कि ठीक है.

‘‘डाक्टर कह रहे थे 2-4 दिन में अब तुम घर जा सकती हो.’’

नवल की बात पर वह मुसकराई.

‘‘कुछ खाओगी?’’ नवल ने पूछा, तो उस ने न में सिर हिला दिया.

‘‘सब ठीक है तुम चिंता मत करो,’’ यह भी नहीं कह सकता था कि तुम ने ही सब को बिगाड़ा है, क्योंकि बिगाड़ा तो उस ने ही है. अब सब को ठीक करना पड़ेगा, समझानी पड़ेगी उन्हें अपनीअपनी जिम्मेदारी, यह बात नवल ने मन में ही कही.

‘‘तुम अब ज्यादा चिंताफिकर करना छोड़ दो. खुद पर ध्यान दो. यह लो सुमन भाभी भी आ गईं. तो तुम दोनों बातें करो. तब तक मैं घर हो आता हूं,’’ कह कर नवल उठ खड़ा हुआ तो आभा उसे प्रेमभाव से देखते हुए बोली कि वह अपन ध्यान रखे. नवल को लगा कि अभी भी इसे मेरी ही चिंता है.

रास्तेभर वह सोचविचार करता रहा कि वह कितना गलत था और आभा कितनी सही. मैं ने कभी उसे नहीं समझा. बच्चे घर में मौज करते रहे और मैं बाहर और वह बेचारी हम सब की तीमारदारी में लगी रही. कभी अपने लिए नहीं सोचा उस ने और मैं ने भी क्या सोचा उस के लिए? एक डाक्टर को तो दिखा नहीं पाया. अगर आज उसे कुछ हो जाता, तो क्या करता मैं? क्या पूरी जिंदगी जी पाता मैं उस के बिना? बेटाबेटी, जिन्हें मैं जान से बढ़ कर प्यार करता हूं, उन के सामने आभा को कभी अहमियत नहीं दी वही बच्चे 1 गिलास पानी मांगने पर चिढ़ उठते. देख लिया मैं ने सब और समझ भी लिया. वह रंभा, जो मेरी जेबें खाली करवाती रहती थी, उसे भी देख लिया. कैसे मुंह फेर लिया उस ने मुझ से? चलो अच्छा ही है. वह कहते हैं न, जो होता है अच्छे के लिए ही होता है यही सब सोचते हुए वह कब घर पहुंच गया, पता ही नहीं चला.

देखा तो रिनी बड़े मजे से झूला झूलते हुए किसी से फोन

पर बातें करने में मशगूल थी. सोनू कमरे में बैठा हमेशा की तरह लैपटौप चला रहा था और निर्मला, बाबाजी की आवभगत में लगी हुई थीं. नवल को देखते ही सब की सिट्टीपिट्टी गुम हो गई. बाबाजी तो तुरंत वहां से रफूचक्कर हो गया, क्योंकि पहले ही नवल ने चेता दिया था कि बाबा को घर में न बुलाया करें. उस दिन तो वह चुप रह गया था, लेकिन आज लगता है आभा एकदम सही कहती थी, ये ढोंगी बाबा लोगों को बहला कर सिर्फ उन से पैसे ऐंठते हैं और कुछ नहीं. बाबाओं के कारनामे सुनसुन कर तो अब उन पर से विश्वास ही उठ गया है. लेकिन अभी भी निर्मला जैसे कुछ लोग हैं, जो उन के चरणों में लोट जाने के लिए तत्पर रहते हैं.

‘‘चाय पिलाओ रिनी, 1 कप,’’ झूले पर बैठते हुए एकबारगी नवल ने सब को देखा. निर्मला पूछने लगीं, ‘‘अब आभा कैसी है?’’

‘‘ठीक है. डाक्टर कह रहे थे 2-4 दिन में छुट्टी कर देंगे, लेकिन आप लोगों से कुछ बात करनी है मुझे,’’ कह नवल ने सोनू और रिनी को भी आवाज दे कर बुलाया.

‘‘रिनी, आभा घर आ तो रही है, पर डाक्टर ने अभी उसे आराम करने को कहा है, इसलिए जब तक तुम्हारी मां पूरी तरह स्वस्थ नहीं हो जाती खाना तुम बनाओगी.’’

खाना बनाने का नाम सुनते ही रिनी के हाथपांव फूलने लगे. घबरा कर बोली, ‘‘पर पापा, मैं कैसे… मुझे कहां कुछ बनाना आता है? नहींनहीं, मुझ से ये सब नहीं होगा. वैसे भी मां तो अब आ ही रही हैं न?’’

रिनी की बात पर नवल ऐसे गुर्राया कि वह सहम उठी. बोला, ‘‘क्या वह हम सब की नौकरानी है? मैं ने कहा कि जब तक तुम्हारी मां पूरी तरह स्वस्थ नहीं हो जाती, खाना तुम ही बनाओगी यह बात तय है और रही बात बनाना न आने की, तो दादी से पूछो, यूट्यूब में देखो और बनाओ. कोई बहाना नहीं चलेगा, अब तुम बच्ची नहीं रही. कालेज में चली गई हो. कल को शादी भी होगी, तो क्या वहां भी तुम्हारी मां तुम्हारे नखरे उठाने जाएगी?’’

समझ गई रिनी कि अब वह नहीं बचने वाली. काम तो करना ही पड़ेगा. इसलिए सिर झुका कर उसे नवल के फैसले को स्वीकार करना पड़ा.

रिनी के बाद नवल ने सोनू को घूर कर देखा, तो बेचारा डर के मारे अपनेआप में ही सिकुड़ने लगा. कहा भी गया है सामने वाले को पहले अपने हावभाव से डराओ ताकि उस की आधी हिम्मत वैसे ही पस्त हो जाए. जैसेकि सोनू की हो गई.

‘‘क्यों, अगले महीने से तुम्हारी परीक्षा शुरू होने वाली है न? तो क्या पढ़ाई तुम्हारा बाप करेगा? पढ़ाई छोड़ कर दोस्तों के साथ चैटिंग करने में लगे रहते हो. क्या इसलिए मैं ने तुम्हें लैपटौप खरीद कर दिया था? जिंदगीभर का ठेका नहीं ले रखा है मैं ने तुम सब का समझे?’’

नवल ने कड़कती आवाज में कहा, तो सोनू जी पापा, जी पापा करने लगा. समझ में आ गया नवल को कि प्यार के साथसाथ बच्चों के साथ सख्ती भी जरूरी होती है. बोला, ‘‘पढ़ाई के अलावा आज से बाहर के सारे काम, जैसे दूध, फलसब्जी लाना आदि जो भी घर से जुड़े काम हैं वे सब तुम करोगे और हां, अपने कपड़े भी तुम खुद ही धोओगे आज से, समझ गए?’’

नवल की सख्त आवाज से दोनों बच्चों की घिग्गी बंध गई.

‘‘और मां आप, बाबाओं को घर में बुलाना बंद कीजिए. कितनी बार आभा ने आप को समझाया, लेकिन आप हैं कि सुनती ही नहीं हैं. आप बड़ी हैं घर की. कम से कम इतना तो ध्यान रख ही सकती हैं कि बच्चे क्या कर रहे हैं, कहां जा रहे हैं, घर पर हैं की नहीं, घर में कौन आया, कौन गया, क्या ये सब ध्यान रखने की जिम्मेदारी आप की नहीं बनती? आप ही बताइए न, एक अकेला इंसान आखिर कितना काम करेगा. मैं तो सुबह से रात के 8 बजे तक औफिस में ही रहता हूं, तो मैं क्या कर सकता हूं?’’ प्यार से ही, पर निर्मला को भी नवल ने उन की जिम्मेदारी अच्छी तरह समझा दी.

हफ्तेभर बाद जब आभा घर पहुंची, तो उसे सबकुछ बदलाबदला सा

लगा. क्या सोचा था उस ने कि उस के बिना घर की क्या स्थिति हो गई होगी और यहां तो सब अलग ही था. सब बिस्तरों पर सलीके से चादरें बिछी थीं. हाल भी एकदम करीने से सजा चमका था. किचन भी एकदम साफसुथरी व व्यवस्थित थी. खाने की बड़ी अच्छी खुशबू भी आ रही थी. पूरा घर चमक रहा था. विश्वास नहीं हुआ आभा को कि यह उस का ही घर है.

‘‘क्या देख रही हो आभा? यह तुम्हारा ही घर है और ये सब मां और बच्चों ने मिल कर किया है,’’ नवल ने मुसकराते हुए कहा.

‘‘मां को देखते ही दोनों बच्चे आ कर उस से लिपट गए. निर्मला ने भी बहू को अपने सीने से लगा लिया. यह सब अप्रत्याशित था आभा के लिए, क्योंकि  उस ने सपने में भी नहीं सोचा था ये सब होगा.’’

रात में बड़ी सुकून की नींद आई आभा को. वह जैसे ही उठने लगी नवल ने उस का हाथ पकड़ लिया और कहा, ‘‘आज से हर सुबह की चाय यह बंदा बनाएगा आप के लिए,’’ कह कर वह उठने लगा तो लड़खड़ा गया.

‘‘नहींनहीं, घबराओ नहीं मैं ठीक हूं और अगर कभी ठोकर खा कर गिर भी जाऊं, तो

तुम संभाल लेना,’’ नवल ने कहा, तो आभा

को हंसी आ गई. वर्षों बाद आभा के चेहरे पर हंसी देख नवल भी मुसकरा उठा, ‘‘अब मैं तुम्हें कभी मुरझाने नहीं दूंगा आभा… बस आप का साथ रहे.’’

औरत का सरोवर तो आदमी होता है. पुरुषरूपी पानी के साथ वह बढ़ती जाती है, ऊपर से ऊपर, पर जैसे ही पानी घटा, पीछे हटा, वैसे ही औरत बेसहारा हो कर सूखने लगती है. आभा के साथ भी वही हुआ. जब तक नवल का सहयोग था, वह खिलती रही, जब से नवल का प्यार घटा, वह मुरझाने लगी. लेकिन आज फिर उसी पुराने नवल को देख वह खिल उठी. मन लहराने को करने लगा. मन के साथ उस के पूरे शरीर में भी ताकत समा गई.

Tags:
COMMENT