आधुनिक खयालों वाली जया की दुनिया सीमित थी तो अपनी नौकरी और परिवार तक. बड़े अरमानों से सजाई थी उस ने अपनी गृहस्थी. लेकिन कुछ महीनों से उसे पति रमन का व्यवहार रूखारूखा सा क्यों लगने लगा था.
'गृहशोभा' पर आप पढ़ सकते हैं 10 आर्टिकल बिलकुल फ्री , अनलिमिटेड पढ़ने के लिए Subscribe Now