‘‘अबतो तेरी शादी को 2 साल हो गए हैं. आखिर तू कब तक मु झ से छोटीछोटी बातों पर सलाह लेता रहेगा, हर काम के बारे में पूछता रहेगा… इस तरह दूध पीता बच्चा बनने से तो काम नहीं चलेगा. अब तो मेरा पल्लू छोड़,’’ अपनी सास को पति पर इस तरह  झुं झलाते देख कावेरी मन ही मन मुसकरा उठी.

कावेरी उस समय अपने कमरे की  झाड़पोंछ कर रही थी जब वल्लभ ने आ कर कहा था कि उसे अपने दोस्तों को अपनी प्रोमोशन की पार्टी देनी है और तुम सारी व्यवस्था कर लेना. तब उस ने हमेशा की तरह अपनी सास पर बात डालते हुए कहा था कि मांजी से पूछ लो और यह भी पूछ लेना कि क्याक्या बनेगा तथा बाजार से कितना सामान आएगा.

वल्लभ तो सदा से यही कहता और चाहता था कि मां की ही चले, इसलिए कावेरी को मात्र सूचना दे कर वह मां से पूछने चला गया. मगर आज आशा के विपरीत मां की तरफ से हिदायतें मिलने के बजाय डांट पड़ी तो वह हैरान रह गया. मगर कावेरी खुश थी कि इतने वर्षों में ही सही उस की तरकीब काम तो आई.

जब कावेरी का वल्लभ के साथ विवाह हुआ था तो वह सरकारी दफ्तर में अच्छे पद पर काम करता था. एक मध्यवर्गीय परिवार की लड़की जैसा घरवर चाहती है, उसी के अनुरूप था वह. एक ननद थी जिस की शादी हो चुकी थी. घर में सिर्फ सासससुर थे और कोई बड़ी जिम्मेदारी नहीं थी. कावेरी के मातापिता इस विवाह से संतुष्ट थे तो वह खुद भी खुश थी. लेकिन विवाह के 2 दिन बाद ही वह जान गई कि उस के उच्च पदासीन पति की डोर उस की मां के हाथों में है. पति ही नहीं ससुर तक की नकेल सास के हाथों में है. घर में उन्हीं की चलती है. अपना दबदबा बनाए रखने की उन्हें आदत सी हो गई है.

ये भी पढ़ें- जो बीत गई सो बात गई

वल्लभ हर बात मां से पूछ कर करता था. यहां तक कि सोना, नहाना, जानाआना, क्या खाना है, क्या पहनना है, हर चीज पर मां की हुकूमत थी. मां अपने इकलौते बेटे पर ममता लुटाती हैं, ठीक है पर उन की ममता का घेरा इतना जकड़ा था कि उस में किसी का सेंध लगाना नामुमकिन तो था ही, साथ ही इस के बाहर न आने के कारण वल्लभ डरपोक भी बन गया था. मां की हर बात उस के लिए अंतिम होती थी. फिर चाहे वह सही हो या गलत. कावेरी मांबेटे के रिश्ते के बीच नहीं आना चाहती थी, पर मां को उन दोनों के बीच आते देख कावेरी छटपटा जाती.

मां उन्हें अकेली भी नहीं छोड़ती थीं. या तो उन के कमरे में बैठी रहतीं या फिर बेटे को कमरे में बुला लेतीं. पति की निकटता की चाह में कावेरी मन ही मन कुढ़ती रहती.

वल्लभ से कहती तो वह लड़ता, ‘‘तुम मांबेटे के बीच कांटे बोना चाहती हो? मां सही ही कहती हैं कि बीवी के आते ही मां का साम्राज्य खत्म हो जाता है, पर मैं ऐसा नहीं होने दूंगा. इस घर में वही होगा जो मां चाहेंगी.’’

कावेरी ने बहुत सम झाने की कोशिश की कि मां अपनी जगह हैं और पत्नी अपनी जगह पर मां की उंगली पकड़ने के आदी वल्लभ को उस की कोईर् बात सम झ न आती. घर में तो सास चिपकी ही रहतीं पर कहीं बाहर जाना होता तो भी साथ रहतीं. कावेरी की हर बात में नुक्स निकालना और वल्लभ को भड़काना तो जैसे उन का शौक बन गया था. पति सुख क्या होता है, कावेरी सम झ ही नहीं पा रही थी. अपने बेटे के सारे काम वे खुद करतीं.

कावेरी करना चाहती तो कहतीं, ‘‘तू 2 दिन की आई छोकरी मेरे बेटे पर हक जमाना चाहती है? अरे, इतना बड़ा तो मैं ने ही किया है न इसे? इस की जरूरतों से वाकिफ हूं मैं… तू क्या जाने कितना नमक या मिर्च खाता है यह.’’

कावेरी चुप रहती. आंसुओं को बंद कमरे में बहने देती. हद है… कैसी मां हैं… बेटे से इतना लगाव था तो शादी क्यों की थी. असल में वल्लभ को किसी के साथ बांटना उन्हें पसंद न था. सास के दबदबे से आतंकित कावेरी सदा डरीसहमी रहती. नववधू के चेहरे पर जो लालिमा और रौनक होती है वह कावेरी के चेहरे पर कभी नजर नहीं आई. उस का निजी तो कुछ था ही नहीं. उन दोनों की आपस की बातों को सास कुरेदकुरेद कर पूछतीं. कावेरी शर्म से गड़ जाती जब सास उस के कमरे की चीजों को उलटतीं.

एक दिन तो कावेरी यह सुन कर सन्न रह गई जब सास ने कहा, ‘‘खबरदार जो मेरे बेटे के साथ ज्यादा सोई. दिनबदिन कमजोर होता जा रहा है वह… अपने ही पति को खाने पर तुली हुई है.’’

कावेरी का मन चिल्लाने को करता पर पति ही साथ न था तो विद्रोह कैसे करती. ससुर उसे करुण दृष्टि से देखते और स्नेह से उस के सिर पर हाथ फेर देते तो पत्नी की  िझड़की खाते, ‘‘बहू के साथ मिल कर कौन सा प्रपंच रच रहे हो… याद रखना मेरी सत्ता कोई नहीं छीन सकता है.’’

कावेरी सम झ गई थी कि अगर उसे इस घर में रहना है तो चुप रहने के सिवा उस के पास और कोई रास्ता नहीं है. सास मानो उस के धैर्य की परीक्षा ले रही थीं. वे चाहती थीं कि कावेरी उन के खिलाफ कुछ बोले और वल्लभ उस से नफरत करने लगे. मगर कावेरी पति के थोड़ेबहुत प्यार को खोना नहीं चाहती थी. इसलिए सास की किसी भी बात का प्रतिकार नहीं करती.

ये भी पढ़ें- लौट आओ मौली: भाग-4

वल्लभ उसे एक नन्हे शिशु जैसा लगता जो कुएं के मेढक के समान था,

जिस ने स्वयं रास्ता खोजना सीखा ही न था. कावेरी को यह सोच कर हैरत होती कि वह नौकरी कैसे कर पाता है. उस का मन होता कि वह वल्लभ के काम में उस की हिस्सेदार बने पर वह सारी बातें मां को बताता.

कावेरी कुछ पूछती तो  िझड़क देता, ‘‘अपनी हद में रहो, बेकार के सवालजवाब करना मु झे पसंद नहीं.’’

‘‘मैं तुम्हारी बीवी हूं वल्लभ, तुम्हारे दुखसुख की साथी. मैं हर क्षण तुम्हारे साथ बांटना चाहती हूं. फिर छोटीछोटी बातें ही नजदीकियां लाती हैं. जब मां को सब बता सकते हो तो मु झे क्यों नहीं?’’ अकेले में कभी कावेरी कुछ कहने का साहस करती तो वल्लभ आगबबूला हो मां के पास जा कर बैठ जाता.

कुढ़तीचिढ़ती अपनेआप को कोसती कावेरी को लगता कि वह पागल हो जाएगी. कभी आत्महत्या करने का विचार आता. मायके लौटने का विकल्प उस के पास न था. मध्यवर्ग की यही बड़ी त्रासदी है कि अगर एक बार लड़की को विदा कर दिया तो उस के अकेले लौटने का प्रश्न ही नहीं उठता है. कौन मांबाप ब्याहता बेटी को रख सकते हैं? फिर कावेरी अपने अंतस के दुख कैसे बांटती, इसलिए भीतर ही भीतर कुढ़ती रहती.

फिर उसे लगा ऐसे तो समस्या का समाधान नहीं निकलेगा. जितना वह कुढ़ेगी या रोएगी, सास उतना ही उसे सताएगी और पति और विमुख होता जाएगा. ब्याह को तब 1 साल भी नहीं हुआ था कि उस के अंदर एक नया जीव सांस लेने लगा.

वल्लभ अपनी खुशी व्यक्त करना चाहता तो सास एकदम टोक देतीं, ‘‘बालबच्चे सभी के होते हैं. इस में इतनी खुशी की क्या बात है?’’

अपने अंश की खुशी कावेरी अकेले ही बांटती. उस का मन करता कि वल्लभ उस के साथ आने वाले के लिए ख्वाब बुने. पर हर पल मां के साए में दुबका रहने वाला व्यक्ति अपने दिल की भावनाओं को व्यक्त कर पाना और बांट पाना कैसे सीख पाता.

‘नन्हे शिशु का आगमन एक सुखद माहौल में न हुआ तो’ यह सोच कर ही कावेरी कांप जाती. उसी की खातिर उस ने भी वल्लभ जैसा बनने का निश्चय किया. विरोध तो वह पहले भी नहीं करती थी. बस अब चुपचाप, निर्विकार ढंग से काम में लगी रहती. सास को यह बात खलती कि आखिर बहू उस के क्यों नहीं सलाह लेती या पलट कर कोई प्रतिक्रिया क्यों नहीं करती है.

ये भी पढ़ें- उलझे रिश्ते-क्या प्रेमी सुधीर से बिछड़कर संभव संग गृहस्थी बसा पाई रश्मि

आगे पढ़ें- कावेरी उन के मनोभावों को ताड़ गई थी…

Tags:
COMMENT