पहला भाग पढ़ने के लिए- दर्द का रिश्ता भाग-1

कहानी- मीरा राय

‘‘अब तो मुझे यहीं रहना है, बहुतबहुत धन्यवाद आंटी…’’ अमृता उन से लिपट कर भावातिरेक में और बहुत कुछ बोलना चाहती थी, लेकिन पहली मुलाकात में इतना अनौपचारिक होने में उसे संकोच हुआ और मालती की भी शायद यही स्थिति थी. लंच कर के शाम को फिर आने का वादा कर के वह चली गई.

शाम को अमृता अपने साथ 4 लड़कियों को ले कर मालती के घर पहुंच गई. मालती उन लोगों को देख कर बहुत खुश हुईं और फिर बोलीं, ‘‘ठीक है, मुझे 1 हफ्ते का समय दो ताकि ऊपर मैं किसी को बुला कर तुम लोगों के रहने का इंतजाम करा सकूं… जब तक मैस का इंतजाम नहीं होता, तुम लोग मेरी किचन में ही खाना खाना.’’

‘‘अरे वाह आंटी, लेकिन किसी को बुलाने की आवश्यकता क्या है? हम चारों ही मिल कर सारी व्यवस्था कर लेंगे. मैस जब तक नहीं बनेगा, हम आप को आप की किचन में खाना बना कर खिलाएंगे, हमें खाना बनाना आता है. आप जो चार्ज करेंगी हम दे देंगे…’’ दूसरी लड़की प्रियंका ने थोड़ा अनौपचारिक होते हुए कहा.

‘‘पैसे की तो मेरे पास कोई कमी नहीं है. बस थोड़ा अकेलापन रहता है… वह तुम लोगों के रहने से दूर हो जाएगा. लेकिन एक बात का ध्यान रखना मैं थोड़ी अनुशासनप्रिय हूं… टीचर थी न. बहुत ऊंची आवाज में म्यूजिक सुनना और लेट नाइट आनाजाना मुझे पसंद नहीं… कोई मजबूरी हो तो बात अलग है.’’

सारी बातें तय हो गईं और उस के बाद उन लड़कियों ने मिल कर ऊपर के 2 कमरों को व्यवस्थित किया. देखने से लग रहा था कि महीनों से उन कमरों की किसी ने खोजखबर नहीं ली है. ऊपर 5 कमरे थे. बाकी के कमरों में भी महीनेभर के अंदर ही और लड़कियां आ गई थीं.

यह सत्र की शुरुआत थी, इसलिए उन में से कुछ पढ़ने वाली लड़कियां थीं. मैस का

भी इंतजाम हो गया था, लेकिन मालती खाना अपने सुपरविजन में ही बनवाती थीं. कुल मिला कर 10 लड़कियां थीं. हरेक के खाने की पसंद का खयाल रखा जाता था.

कोई बीमार पड़ती तो उस के लिए अलग से खाना बनता था. सभी लड़कियां मालती के व्यवहार से बहुत खुश रहती थीं और जल्दी उन से घुलमिल गई थीं. उन्हें अपने घर की कमी नहीं महसूस होती थी. मालती भी अपना खाना मैस में ही खाती थीं.

एक बात सब ने महसूस की थी कि मालती का व्यवहार सामान्य औरतों से कुछ हट कर था. एक गहरी उदासी की परत उन के चेहरे पर छाई रहती थी. कभी किसी ने उन्हें खुल कर हंसते नहीं देखा था. लड़कियों का अनुमान था कि शायद पति की मृत्यु हो जाने और बेटे के दूर रहने पर बुझीबुझी रहती हैं.

अमृता के मोबाइल की घंटी बजी तो उस की विचारतंद्रा को झटका लगा. मालती का फोन था, उन्होंने डिनर के लिए उसे नीचे बुलाया था. वह तुरंत नीचे पहुंच गई और फिर सकुचाते हुए बोली, ‘‘सौरी आंटी, मुझे खाना बनाना चाहिए था… मैं आ ही रही थी. आप क्यों परेशान हुईं?’’

‘‘कोई बात नहीं, तुम्हारी मां होतीं तो क्या तुम्हें बना कर नहीं खिलातीं? आज के बाद मुझे अपनी मां ही समझो. वैसे भी तुम्हें एक प्यार करने वाली मां चाहिए और मुझे एक बेटी. फिर क्यों न हम दोनों मिल कर एकदूसरे के जीवन की इस कमी को पूरी कर दें?’’

अमृता उन की बात सुन कर अवाक रह गई. आज मालती बहुत खुश दिखाई दे रही थीं. उन का यह नया रूप देख कर वह हैरान हो रही थी. उसे कोई जवाब नहीं सूझ रहा था. अपने कमरे में आ कर भी वह मालती के कथन के बारे में ही सोचती रही. उस की स्थिति जानने के बाद मालती की उस के प्रति प्रतिक्रिया उसे असमंजस की स्थिति में डाल रही थीं.

दीवाली के अगले दिन अमृता के पापा उस से मिलने आए तो हमेशा की तरह उस के कमरे में न आ कर उसे नीचे ही मिलने के लिए बुलाया. वह नीचे ड्राइंगरूम के बाहर मालती की आवाज सुन कर ठिठक कर खड़ी हो गई.

मालती कह रही थीं, ‘‘मेरी मां भी मुझे पैदा करते ही चल बसी थीं… अमृता की मनोस्थिति को मुझ से अधिक और कौन समझ सकता है? मैं उस की मां का स्थान तो नहीं ले सकती, लेकिन उस के जीवन की इस कमी को तो कुछ हद तक उस की सास बन कर जरूर पूरा कर सकती हूं… अमृता जैसी लड़की मुझे बहू के रूप में मिल जाएगी तो मुझे बेटी की भी कमी नहीं खलेगी. मैं ने कल अपने बेटे रोहित से भी बात की थी, उस ने मेरी पसंद पर अपनी स्वीकृति की मुहर लगा दी है. किसी प्रकार का दबाव आप या आप की बेटी पर नहीं है. आप दोनों को ठीक लगे तो मैं बात आगे बढ़ाऊं.’’

यह सुन कर अमृता के पांव जमीन में जैसे जम से गए. उसे समझने में देर नहीं लगी कि उस दिन आंटी उस पर इतनी ममता क्यों उड़ेल रही थीं. अभी वह सोच ही रही थी कि मालती की नजर उस पर पड़ गई. वे बाहर आ कर उस का हाथ पकड़ कर अंदर ले गईं.

ये भी पढ़ें- भूल जाना अब भाग-2

उस के चेहरे की लजीली मुसकान से वे समझ गईं कि उस ने उन की सारी बातें सुन ली हैं और उसे इस रिश्ते पर कोई आपत्ति नहीं है. अत: बोंली, ‘‘अभी तक तो तुम ने एक गैस्ट के तौर पर मेरे घर में रौनक की है, अब मेरी बहू बन कर मेरे बेटे की और मेरी जिंदगी में रौनक कर दो. तुम्हें मेरी बहू बनना था, इसीलिए उस दिन तुम मुझे दुकान पर मिली थी. अमृता भावातिरेक में उन के पांव छूने के लिए झुकी तो मालती ने उसे उठा कर अपने गले से लगा लिया.’’

अमृता बोली, ‘‘मैं ने मां को तो नहीं देखा, लेकिन होतीं तो आप जैसी हीं होतीं.’’

अमृता के पापा मूकदर्शक बने इस दर्द के रिश्ते को देख रहे थे. उन की आंखों से खुशी के आंसू बह निकले.

Tags:
COMMENT