विवान की बांहों से छूट कर शैली अभी किचन में घुसी ही थी कि हमेशा की तरह फिर से आ कर विवान ने उसे पीछे से पकड़ गालों को चूम लिया. शैली ने खुद को छुड़ाने की कोशिश की, तो विवान ने उसे और जोर से बांहों में भर लिया. शैली चिढ़ कर बोली, ‘‘छोड़ो न विवान, वैसे भी आज उठने में काफी देर हो गई है. क्या आज औफिस नहीं जाना है?’’

‘‘जाना तो है… रहने दो मैं दोपहर में आ जाऊंगा खाना खाने और इसी बहाने…’’ बात अधूरी छोड़ विवान ने एक और किस शैली के गाल पर जड़ दिया.

किसी तरह अपने को छुड़ाते हुए शैली यह कह कर सब्जी काटने लगी कि कोई जरूरत नहीं है घर आने की… मैं अभी नाश्ता और खाना बना देती हूं.

‘‘तो फिर लाओ मैं सब्जी काट देता हूं, तब तक तुम चाय बनाओ,’’ कह कर विवान ने उस के हाथ से चाकू ले लिया. विवान शैली को दुनिया की हर खुशी देना चाहता था पर वह थी कि बातबात पर उसे झिड़कती रहती थी. हर बात में उस की बुराई निकालना जैसे उस की आदत सी बन गई थी. सोचती कि सब के पतियों जैसा उस का पति क्यों नहीं है? क्यों हमेशा रोमांटिक बना फिरता है. अरे, जिंदगी क्या सिर्फ प्यार से चलती है? और भी तो कई जिम्मेदारियां होती हैं घरगृहस्थी की, पर सावन के अंधे को यह कौन समझाए?

गुस्से से हांफती और जबान से जहर उगलती शैली ने विवान के हाथ से चाकू छीन लिया और फिर सारा गुस्सा सब्जी पर उतारने लगी. उस का मन तो किया कि सब्जी उठा कर कूड़े के डब्बे में फेंक दे और कहे कि कोई जरूरत नहीं है बारबार घर आ कर उसे परेशान करने की. उस का तो मन करता कि कैसे जल्दी विवान औफिस जाए और उस की जान छूटे.

विवान को औफिस भेजने के बाद घर के बाकी काम निबटा कर अभी शैली बैठी ही थी कि फोन बज उठा. विवान का फोन था और यह सिलसिला भी सालों से चल रहा था. मतलब औफिस पहुंचते ही सब से पहले वह शैली को फोन लगा कर जब तक उस से बातें न कर लेता उसे चैन नहीं पड़ता था. इस बात पर भी शैली को काफी चिढ़ होती थी. कभीकभी तो मन करता कि फोन को बंद कर के रख दे, पर यह सोच कर वह ऐसा नहीं करती कि पिछली बार की तरह फिर वह भागतादौड़ता घर पहुंच जाएगा और फिर वेवजह उस का महल्ले में तमाशा बन जाएगा.

एक बार ऐसा ही हुआ था. किसी कारणवश गलती से शैली का फोन बंद हो गया था और उसे इस बात का पता नहीं चला. लेकिन विवान के कई बार फोन लगाने पर भी जब उस का फोन बंद ही आता रहा तो उसे लगा कि शैली को कुछ हो गया है. दौड़ताहांफता वह घर पहुंच गया और जोरजोर से दरवाजा पीटने लगा. आवाज सुन कर आसपड़ोस के लोग इकट्ठा हो गए और क्या हो गया… क्या हो गया… कहने लगे.

बाहर लोगों का शोर सुन जब शैली की आंख खुली और उस ने दरवाजा खोला तो विवान उसे पकड़ कर कहने लगा, ‘‘शैली तुम ठीक तो हो… वो तुम्हारा फोन नहीं लग रहा था इसलिए मैं घबरा गया,’’ कह कर वह सब के सामने ही शैली को चूमने लगा.

देखा तो सच में फोन बंद था. उस वक्त शैली शर्मिंदा हो गई कि उस के कारण… परफिर यह सोच कर मन ही मन फूली नहीं समा रही थी कि उस का पति उसे कितना प्यार करता है…

मगर अब विवान का उसे हर पल निहारते रहना, जब मन आए उसे अपनी गोद में उठा कर चूमने लगना, उस की हर छोटी से छोटी चीज का खयाल रखना, कभी अपने से दूर न होने देना, अब उसे गले का फंदा सा लगने लगा था. प्यार वह भी करती थी पर एक हद में. उस का सोचना था कि पतिपत्नी हैं तो क्या हुआ… आखिर उन्हें भी तो अपने जीवन में थोड़ी स्पेस चाहिए, जो उसे मिल नहीं रही थी. मगर उस की सोच से अनजान विवान बस हर पल उस के ही खयालों में खोया रहता था.

शैली की दोनों भाभियां उस का मजाक उड़ातीं कि उस का पति तो उस के बिना एक पल भी नहीं रह पाता. एक बच्चे की तरह उस के पीछेपीछे घूमता रहता है. उन की कही बातें शैली को अंदर तक भेद जातीं. उसे लगता उस की भाभियां उस पर तंज कस रही हैं. मगर उसे यह नहीं पता था कि वे उस से जलती हैं.

विवान को कोई लड़की पसंद न आने की वजह से उस के मातापिता काफी परेशान रहने लगे थे. उन की समझ में नहीं आ रहा था कि आखिर विवान को कैसी लड़की चाहिए?

आखिर एक रोज उसे अपनी पसंद की लड़की मिल ही गई. दरअसल, विवान अपने एक खास दोस्त की शादी में गया था. वहीं उस ने शैली

को देखा तो देखता ही रह गया. उस की खूबसूरती पर वह ऐसे मर मिटा जैसे चांद को देख कर चकोर. कब आंखों के रास्ते शैली उस के मन में समा गई उसे पता ही नहीं चला. उस से अपनी शादी के बारे में सोच कर ही उस का मन मयूर नाच उठा.

जब उस के मातापिता को यह बात मालूम पड़ी तो उन्होंने जरा भी देर न कर अपने बेटे की शादी शैली के साथ तय कर दी. एकदूसरे की बांहों में शादी का 1 साल कैसे पंख लगा कर उड़ गया उन्हें पता ही नहीं चला.

लोग कहते हैं कि जैसेजैसे शादी पुरानी होती जाती है, पतिपत्नी के प्यार में भी गिरावट आने लगती है. मतलब पहले जैसा प्यार नहीं रह जाता. मगर विवान और शैली की शादी जैसेजैसे पुरानी होती जा रही थी उन का प्यार और भी गहराता जा रहा था. मगर पहले जिस विवान का प्यार शैली को हरी दूब का कोमल स्पर्श सा प्रतीत होता था अब वही प्यार उसे कांटों की चुभन सी लगने लगा था. विवान का दीवानापन अब उसे पागलपन सा लगने लगा था. उसे लगता या तो कुछकुछ दिनों के अंतराल पर विवान औफिस के काम से कहीं बाहर चला जाया करे या फिर उसे अकेले मायके जाने दिया करे ताकि वह खुल कर अपने मनमुताबिक जी सके.

आखिर कुछ दिनों के लिए उसे विवान से अलग रहने का मौका मिल ही गया. ऐसे जाना कोई जरूरी नहीं था, पर वह जाएगी ही, ऐसा उस ने अपने मन में तय कर लिया.

‘‘शादी में? पर जानू,’’ विवान अपनी पत्नी को प्यार से कभीकभी जानू भी बुलाता था, ‘‘वो तो तुम्हारे दूर के रिश्तेदार हैं न और फिर तुम ने ही तो कहा था कि तुम्हारा जाना कोई जरूरी नहीं है?’’

हांहां कहा था मैं ने, पर है तो वह मेरी बहन ही न… सोचो तो जरा कि अगर मैं नहीं जाऊंगी तो चाचाजी को कितना बुरा लगेगा, क्योंकि कितनी बार फोन कर के वे मुझे आने के लिए बोल चुके हैं… प्लीज विवान, जाने दो

न. वैसे भी यह मेरे परिवार की अंतिम शादी है और फिर मैं वादा करती हूं कि शादी खत्म होते ही आ आऊंगी.’’

अब शैली कुछ बोले और उस का विवान उसे मना कर दे, यह हो ही नहीं सकता था.

अत: बोला, ‘‘ठीक है तो फिर मैं कल ही छुट्टी की अर्जी…’’

शैली अचकचा कर बोली, ‘‘अर्जी… पर क्यों? मेरा मतलब है तुम्हें वैसे भी छुट्टी की समस्या है और कहा न मैं ने मैं जल्दी आ जाऊंगी.’’

न चाहते हुए भी विवान ने शैली को जाने की अनुमति दे तो दी, पर सोचने लगा अब उस के इतने दिन शैली के बिना कैसे बीतेंगे?

जाते वक्त बाय कहते हुए शैली ने ऐसा दुखी सा मुंह बनाया जैसे उसे भी विवान से अलग होने का दुख हो रहा है पर जैसे ही ट्रेन सरकी वह खुशी से झूम उठी.

शैली के अकेले मायके पहुंचने पर नातेरिश्तेदार सब ने पूछा कि विवान क्यों नहीं आया? तो वह कहने लगी कि विवान को छुट्टी नहीं मिल पाई, इसलिए उसे अकेले ही आना पड़ा.

वैसे शैली की भाभियां सब समझ रही थीं. चुटकी लेते हुए कहने लगीं, ‘‘ऐसे कैसे दामादजी ने आप को अकेले छोड़ दिया ननद रानी, क्योंकि वे तो आप के बिना…’’ बात अधूरी छोड़ कर दोनों ठहाका लगा कर हंस पड़ीं.

उधर शैली के बिना न तो विवान का घर में मन लग रहा था और न ही औफिस में. हर वक्त उस के ही खयालों में खोया रहता था. विवान के मन की बात उस के दोस्त अमन से छिपी न रह पाई. पूछा, ‘‘क्या बात है बड़े देवदास बने बैठे हो? लगता है भाभी के बिना मन नहीं लग रहा है? अरे, तो चले जाओ न…’’

अमन की बातें सुन विवान अपनेआप को वहां जाने से रोक न पाया. ‘‘लो आ गए मजनूं… क्यों, रहा नहीं गया अपनी लैला के बिना? विवान को आए या देख शैली की छोटी भाभी ने चुटकी लेते हुए कहा.

अचानक विवान को अपने सामने देख, पहले तो शैली का दिल धक्क से रह गया. ऊपर से उस की भाभी का यह कहना उस के तनबदन को आग लगा गया. विवान को घूर कर देखा. गुस्से से उस की आंखें धधक रही थीं. यह भी न सोचा कि मेहमानों का घर है तो कोई सुन लेगा. कर्कशा आवाज में कहने लगी, ‘‘जब मैं ने तुम से बोल दिया था कि जल्दी आ जाऊंगी तो क्या जरूरत थी यहां आने की? क्या कुछ दिन चैन से अकेले जीने नहीं दे सकते?’’

झेंपते हुए विवान कहने लगा, ‘‘न… नहीं शैली ऐसी बात नहीं है. वह क्या है कि छुट्टी मिल गई तो सोचा… और वैसे भी तुम्हारे बिना घर में मन ही नहीं लग रहा था तो आ गया.’’

‘‘मन नहीं लग रहा था तो क्या मैं तुम्हारा मन लगाने का साधन हूं? अरे कैसे इंसान हो तुम जो अपना कामकाज छोड़ कर मेरे पीछे पड़े रहते हो? मैं पूछती हूं तुम में स्वाभिमान नाम की कोई चीज है या नहीं… जताते हो कि तुम मुझ से बहुत प्यार करते हो… अरे, नहीं चाहिए मुझे तुम्हारा प्यार… सच में उकता गई हूं मैं तुम से और तुम्हारे प्यार से. जानते हो मैं यहां क्यों आई? ताकि कुछ दिनों के लिए तुम से छुटकारा मिले, पर नहीं, तुम्हारे इस छिछले व्यवहार के कारण मेरी सारी सहेलियां और भाभियां मुझ पर हंसती हैं. कहती हैं… जाने दो तुम से तो कुछ बोलना ही बेकार है. अब जाओ यहां से, मुझे जब आना होगा खुद ही आ जाऊंगी समझे?’’ अपने दोनों हाथ जोड़ कर शैली चीखते हुए बोली.

शैली का यह रूप विवान को हैरान कर गया. उसे विश्वास ही नहीं हो रहा था कि उस की शैली उस के बारे में ऐसा सोचती है. जिस शैली को वह अपनी जान से भी ज्यादा प्यार करता है और जिस की खातिर वह भागता हुआ यहां तक आ गया, वह इतने लोगों के सामने उस की बेइज्जती कर देगी, उस ने सपने में भी नहीं सोचा था. अत: बोला, ‘‘ठीक है तो फिर, अब मैं यहां कभी नहीं आऊंगा, बुलाओगी तो भी नहीं,’’ और फिर वह 1 पल भी वहां न ठहरा. शैली की कड़वी बातों ने उस के दिल के टुकड़टुकड़े कर दिए थे.

इधर शैली की मांबहन व भाई सब ने उसे इस बात के लिए बहुत सुनाया, पर उसे अपनी कही बातों का जरा भी पछतावा नहीं हुआ, बल्कि उस के दिल को ठंडक ही पहुंची. घमंड में चूर शैली को यह भी समझ नहीं आ रहा था कि उस ने एक ऐसे इंसान का दिल तोड़ा जो उस का पति है और उसे बेइंतहा प्यार करता है.

घर पहुंचने के बाद रात के 2 पहर बीत जाने के बाद भी विवान की आंखों में नींद नहीं थी. अब भी शैली की कही 1-1 बात उस के कानों में गूंज रही थी.

अपनी आदतानुसार विवान औफिस पहुंच जैसे ही शैली को फोन मिलाने लगा कि फिर उस की कही 1-1 बात उस के कानों में गूंजने लगी कि अरे, तुम में तो स्वाभिमान नाम की कोई चीज ही नहीं है वरना यों यहां न चले आते… हथेलियों से अपने दोनों कान दबा कर विवान ने अपनी आंखें मूंद लीं और फिर मन ही मन कोई निश्चय कर बैठा.

‘‘सर, आप और यहां?’’ विवान को मार्केट में देख कर आयुषी, जो कभी उस की पीए होती थी और अपनी पत्नी के कहने पर ही उस ने उसे काम से निकाल दिया था, उसे देख कर बोली, ‘‘सौरी सर, पर आप को इतने साल बाद देखा तो रहा नहीं गया और आवाज दे दी.’’

‘‘नो… नो… इट्स ओके… और बताओ?’’ विवान ने आयुषी को ताड़ते हुए पूछा.

‘‘बस सर सब ठीक ही है. आप सुनाओ?’’

‘‘सब ठीक है,’’ कह कर विवान मुसकरा दिया.

‘‘सर मेरा घर यहीं पास में ही है… प्लीज घर चलें.’’व्

‘‘फिर कभी,’’ कह विवान जाने को हुआ.

‘‘सर प्लीज, सिर्फ 5 मिनट के लिए चलिए.’’ आयुषी के इतना आग्रह करने पर विवान घर चलने को तैयार हो गया.

चाय पीतेपीते विवान ने उस के पूरे घर का मुआयना किया. उसे यह देख कर बुरा लग रहा था कि आयुषी इतने छोटे से घर और अभावों में जी रही है.

‘‘अरे, सर आप ने तो कुछ लिया ही नहीं… यह टेस्ट कीजिए न.’’

आयुषी की आवाज से विवान चौंका. बोला, ‘‘बसबस बहुत हो गया… चाय बहुत अच्छी बनाई है… वैसे अभी क्या कर रही हो मेरा मतलब कहां जौब कर रही हो?’’

‘‘कुछ नहीं सर, घर मैं ही बैठी हूं क्योंकि… अच्छा वह सब छोडि़ए, बताइए और क्या खाएंगे आप?’’

‘‘नहींनहीं कुछ नहीं. अब घर जाऊंगा,’’ विवान बोला. फिर रास्ते भर वह यही सोचता रहा कि आखिर क्या गलती थी आयुषी की?

बस यही न कि वह मुझ से खुल कर हंसबोल लेती थी और काम के ही सिलसिले में कभी भी मुझे फोन कर दिया करती थी… हां, याद है मुझे उस रोज भी एक जरूरी फाइल पर आयुषी मेरे साइन लेने मेरे घर आ गई थी और इसी बात को ले कर शैली ने कितना हंगामा मचा दिया था यह कह कर कि वह मुझ पर डोरे डालती और जानबूझ कर मेरे करीब आने की कोशिश करती है. उस वक्त मैं उस के प्यार में पागल था, इसलिए सहीगलत का अनुमान नहीं लगा पाया और उस के जोर डालने पर आयुषी को नौकरी से निकाल दिया.

व्एक लंबी सांस खींचते हुए विवान सोचने लगा कि वैसे गलती तो उस की भी थी. क्यों उस वक्त उस ने शैली की बात मानी थी? क्या वह कोई दूध पीता बच्चा था?

फिर गलती तो सुधारी भी जा सकती है, सोच उसी वक्त विवान ने आयुषी को फोन कर कल सुबह 10 बजे औफिस बुला लिया.

अपने हाथ में नियुक्ति पत्र देख आयुषी की आंखें छलक आईं. आभार प्रकट करते हुए कहने लगी, ‘‘अब मैं पहले से भी ज्यादा सक्रिय हो कर काम करूंगी और कभी शिकायत का मौका नहीं दूंगी.’’

‘‘न पहले मुझे तुम से कोई शिकायत थी और न अब है. बस समझ लो एक गलतफहमी के कारण… खैर अब छोड़ो वे सब पुरानी बातें हैं. लग जाओ अपने काम पर… और हां, मुझे तुम्हारे हाथ के वे मूली के परांठे खाने हैं… क्या मिलेंगे? विवान ने जब हंसते हुए यह कहा तो सुन कर आयुषी की खुशी का ठिकाना नहीं रहा.’’

आयुषी रोज कोई न कोई व्यंजन बना कर विवान के लिए ले आती और फिर खूब आग्रहपूर्वक खिलाती. अब तो यह रोज का सिलसिला बन गया था.

एक रोज यह बोल कर आयुषी ने विवान को अपने घर खाने पर आमंत्रित किया कि आज उस का जन्मदिन है.

‘‘तो फिर पार्टी मेरी तरफ से,’’ विवान बोला तो आयुषी मना नहीं कर पाई.

तोहफे के तौर पर जब विवान ने आयुषी को स्मार्टफोन और एक सुंदर सी ड्रैस गिफ्ट की तो वह उस का आभार प्रकट किए बिना नहीं रह पाई.

‘‘इस में आभार कैसा? अरे, वह तो तुम्हारा हक है. हमेशा की तरह उस रोज भी विवान उसे उस के घर तक छोड़ने गया था और आयुषी के आग्रह करने पर कौफी पीने बैठ गया. लेकिन उस रात कौफी पीते उसे खुमारी सी आने लगी और वह वहीं सो गया. सुबह जब उस की आंखें खुलीं और अपनी बगल में आयुषी को देखा तो वह हैरान रह गया, ‘‘तुम यहां और मैं यहां कैसे?’’

अपने कपड़े ठीक करते हुए रोनी सी सूरत बना कर आयुषी कहने लगी, ‘‘रात में आप ने मुझे शैली समझ कर मेरे साथ…’’

‘‘उफ, ये मुझ से क्या हो गया?’’ उस के मुंह से निकला और फिर मन ही मन बोला कि गलत क्या किया उस ने… शैली ने कहा था कि मुझ में स्वाभिमान नाम की कोई चीज नहीं है और वह मेरे प्यार से ऊकता गई है. तो अब मैं बताऊंगा उसे… तरसेगी मेरे प्यार के लिए और फिर उस ने आयुषी को अपने सीने से लगाते हुए कहा, ‘‘जो हुआ अच्छा हुआ.’’

उस के बाद तो वह सिलसिला सा बन गया और इस बात का विवान को कोई मलाल भी नहीं था.

उधर शादी के बाद सभी लोग अपनेअपने घर चले गए. शैली भी अपने घर आने का सोचने लगी पर हैरानी उसे इस बात की हो रही थी कि उसे यहां आए महीना हो चला है,

इस के बावजूद न तो विवान ने उसे एक बार भी फोन किया और न ही फिर पलट कर आया… लेकिन जाएगा कहां… क्या मेरे बिना रह पाएगा? अपने गुमान में फूलती शैली ने अपनेआप से कहा.

लेकिन उसे यह नहीं पता था कि उस का विवान अब पहले वाला विवान नहीं रहा जो उस के आगेपीछे पागल प्रेमी की तरह मंडराता फिरता था. उन्हीं खयालों में खोई शैली को भान नहीं

रहा कि उस ने चूल्हे पर दूध चढ़ाया है. लेकिन चौंकी तो तब जब उस की बहन स्वीटी ने तेज स्वर में कहा, ‘‘अरे, कहां है तुम्हारा ध्यान? देख तो दूध उफन रहा है,’’ कह उस ने झट से आंच बंद कर दी.

‘‘उफ, आप ने बचा लिया दीदी वरना आज सारा दूध बरबाद हो जाता.’’

‘‘सही कहा तुम ने, पर दूध तो दोबारा आ सकता है, पर जिंदगी बरबाद हो जाए तो क्या दोबारा संवारा जा सकता है?’’

स्वीटी की बात पर शैली ने उसे अचकचा कर देखा.

‘‘शायद तुम्हें इस बात का अंदाजा भी नहीं है कि तुम ने विवान को कितनी चोट पहुंचाई है. ऐसा क्या कर दिया उस ने जो तुम ने उस के साथ इतना खराब व्यवहार किया? यह भी नहीं सोचा कि घर में इतने सारे मेहमान हैं तो वह क्या सोचेंगे विवान के बारे में?

‘‘अरे, इतना प्यार करने वाला पति बहुत कम को मिलता है शैली. एक मेरा पति है जिसे दुनिया की हर औरत अच्छी लगती है सिवा मेरे. एक तेरा पति है जो तेरे सिवा किसी को नजर उठा कर भी नहीं देखता.

‘‘जानती है शैली, जब मुझे पता चला कि मेरे पति का अपने ही औफिस की एक लड़की के साथ प्रेमसंबंध चल रहा है तो मेरे पैरों तले की जमीन खिसक गई. सिसकते हुए जब मैं ने यह बात अपनी सास को बताई, यह सोच कर कि एक औरत का दर्द एक औरत ही समझ सकती है तो पता है उन्होंने क्या कहा? कहने लगीं कि वह मर्द है जो चाहे कर सकता है और यह भी कहा कि अगर यह बात बाहर गई तो लोग मुझ पर ही उंगलियां उठाएंगे. कहेंगे कि मुझ में ही कोई कमी रही होगी. इसीलिए मेरा पति किसी दूसरी औरत के पास चला गया. इसलिए जैसे चल रहा है चलने दे.

‘‘जब मां को अपना दुखड़ा सुनाने गई तो वे कहने लगीं कि एक औरत का अकेले इस दुनिया में कोईर् वजूद नहीं होता. हर मर्द ऐसी औरत को लोलुपता भरी नजरों से देखता रहता है. वह ऐसी औरत को पा लेने वाली वस्तु के रूप में देखने लगता है. क्या तुम चाहती हो कि तुम्हारी भी वही स्थिति हो… फिर मायके वाले कब तक तुझे अपने पास रख पाएंगे. अगर तुम वहां न भी जाओ तो तुम्हारे पति को कोई फर्क नहीं पड़ेगा. लेकिन तुम और तुम्हारे बच्चे के लिए उस घर के सिवा क्या और कोई ठौरठिकाना है?

‘‘बस मौका मिलना चाहिए मर्दों को… उन्हें फिसलते जरा भी देर नहीं लगती शैली. इसलिए छोड़ यह जिद और जा अपने घर वरना…’’ कहीं ऐसा न हो कि तू भी मेरी तरह…’’

स्वीटी की बातें सुन शैली हक्कीबक्की रह गई. सोचने लगी कि उस की बहन के साथ इतना कुछ हो गया और उसे खबर तक नहीं… जो शैली अभी कुछ देर पहले गुमान में फूल रही थी उसी की हवा निकलती, साफ उस के चेहरे पर दिख रही थी.

अचानक आधी रात को शैली की नींद उचट गई. स्वीटी बराबर में गहरी नींद में सो रही थी. वह भी फिर से सोने की कोशिश करने लगी पर नींद न जाने कहां रफूचक्कर हो गई थी. उसे एहसास हुआ कि उस का गला सूख रहा है. उठ कर उस ने एक गिलास ठंडा पानी पीया और सोचा सो जाए, पर नींद तो जैसे आंखों से कोसों दूर चली गई थी.

आज अपनी ही कही बातें याद कर वह क्षुब्ध हो उठी. बेचैनी से कमरे के बाहर निकल आई. देखा तो दूर तक सन्नाटा पसरा था. घबरा कर वह फिर अंदर आ गई. आज न तो उसे घर के अंदर और न घर के बाहर चैन पड़ रहा था. बारबार विवान का खयाल जेहन में आजा रहा था. सोचने लगी जो विवान उस पर अपनी जान छिड़कता था उसी को वह झिड़कती रही. और तो और अपने मायके वालों के सामने भी उस की बेइज्जती कर डाली… यह भी न सोचा कि उस के दिल पर क्या बीती होगी उस वक्त?

आज वह मानसिक और शारीरिक दोनों स्तर पर खुद को अधूरा महसूस कर रही थी. जिस विवान के स्पर्श से उसे चिढ़ होने लगी थी आज उसी स्पर्श को पाने के लिए वह बेचैन हो उठी. हां, ‘मुझ से बहुत बड़ी गलती हुई और शायद उस बात के लिए विवान मुझे माफ न करे या हो सकता है घर के अंदर भी न आने दे, पर मैं तब तक अपने पति का हाथ नहीं छोड़ूंगी जब तक वह मुझे माफ नहीं कर देता,’ मन ही मन यह तय कर शैली सोने की कोशिश करने लगी. फिर जाने कब उस की आंखें लग गई. सुबह सब से बिदा ले कर वह अपने घर चल दी.

अपने घर पहुंचने पर शैली को कुछ भी पहले जैसा नहीं लगा. लग रहा था जैसे उस के पीछे बहुत कुछ बदल गया है. जो विवान पहले टाइम से औफिस जाता था और घर भी वक्त पर आ जाता था अब ऐसा नहीं था. पूछने पर जवाब देना भी जरूरी नहीं समझता था. लेकिन शैली को लगता अभी गुस्से में है. इसलिए ऐसे बात कर रहा. जब गुस्सा उतर जाएगा. सब ठीक हो जाएगा.

एक रोज यह कह कर विवान जल्दी घर से निकल गया कि आज उस की जरूरी मीटिंग है. लेकिन संयोग से उसी रोज शैली भी अपनी एक सहेली के साथ उसी कौफी हाउस पहुंच गई जहां विवान आयुषी की आंखों में आंखें डाले उसे प्यार से निहार रहा था. दोनों को उस अवस्था में देख शैली की आंखें डबडबा गईं. छलकते नयनों का उलझना विवान से भी छिपा न रह पाया. पर उस ने उसे देख कर भी अनदेखा कर दिया… यह बात भी शैली के दिल में तीर सी चुभी.

‘आखिर क्यों, क्यों विवान ने फिर से उसे काम पर रख लिया और क्या दोनों…’ कई सवाल पूछने थे उसे विवान से पर पूछती किस मुंह से? क्या वह यह नहीं कहेगा कि उस ने ही तो कहा था कि हर इंसान को अपने जीवन में थोड़ी स्पेस चाहिए होती है? करवटें बदलते उस ने पूरी रात निकाल दी. सुबह भी फिर वही सबकुछ. कुछ समझ में नहीं आ रहा था उसे कि करे तो क्या करे. अगर अपनी मां को अपना दर्द बताती तो वे उसे भी वही सलाह देतीं जो स्वीटी को देतीं और भाभियां से तो कुछ बोलना ही बेकार था.

शैली को बिना बताए ही विवान घर से निकल जाता और जब मन होता आता. उसे कोई फर्क नहीं पड़ता था कि उस के इस आचरण से शैली के दिल पर क्या बीतती होगी? विवान भले उस से बात न करता, पर शैली का फोन उठा लेता. वही उस के लिए काफी था. लेकिन विवान की बेवफाई और अवहेलना अब शैली के दिलोदिमाग पर असर करने लगा. ठीक से न खानेपीने के कारण दिनप्रतिदिन उस का स्वास्थ्य गिरता जा रहा था. अब तो वह किसी से ज्यादा बात भी नहीं करती थी. कई दिनों से उस ने विवान को भी फोन करना छोड़ दिया था.

इधर कई दिनों से शैली का फोन न आया देख विवान को थोड़ी फिक्र तो होने लगी पर सोचता जाने दो मगर जब एक दिन शैली की मां का फोन आया और उस ने पूछा कि शैली कहां है और वह अपना फोन क्यों नहीं उठा रही है तो विवान को सच में फिक्र होने लगी. फिर उस ने भी फोन लगाया, पर हर बार फोन बंद पा कर वह घबरा गया.

‘‘अरे, कहां जा रहे हो?’’ विवान को अपने कपड़े समेटते देख आयुषी हैरानी से बोली.

‘‘घर.’’

‘‘पर विवान, हम तो यहां मीटिंग अटैंड करने आए हैं.’’

जल्दीजल्दी अपना जरूरी सामान बैग में रखते हुए विवान बोला, ‘‘वह तुम अटैंड कर लेना… यह मीटिंग से भी ज्यादा इंपौर्टेंट है मेरे लिए.’’

आयुषी समझ गई कि वह किस की बात कर रहा है. अत: तैश में आते हुए बोली, ‘‘तुम ऐसा कैसे कर सकते हो विवान? क्या भूल गए कि मैं और तुम…’’

विवान ने आयुषी को घूर कर देखा और फिर कड़कती आवाज में बोला, ‘‘पहले तो तुम तमीज से बात करो. मैं तुम्हारा बौस हूं और रही बात हमारे संबंध की तो क्या मुझे नहीं पता कि उस रोज कौफी में तुम ने क्या मिलाया था और तुम्हारा इरादा क्या था?’’ सुन कर आयुषी की जबान उस के हलक में ही अटक गई.

‘‘तुम्हारी भलाई इसी में है कि चुप रहो,’’ होंठों पर अपनी उंगली रख विवान बोला और फिर वहां से चलता बना. घर आ कर जब विवान ने देखा तो शैली अचेत पड़ी थी. जल्दी से उस ने डाक्टर को बुलाया.

जांच कर डाक्टर ने बताया, ‘‘कोई ऐसी बात है जो इन्हें अंदर ही अंदर खाए जा रही है और अगर यही हाल रहा तो अस्पताल में भरती करना पड़ जाएगा. इन का ध्यान रखिएगा… हो सके तो कहीं बाहर ले कर जाएं,’’ कह दवा के साथ हिदायत दे कर डाक्टर चला गया.

विवान खुद को कोसते हुए बड़बड़ाने लगा कि ये सब उस की वजह से हुआ है. शैली ने सही कहा था कि मैं प्यार का दिखावा करता हूं. फिर रोते हुए शैली को अपने सीने से लगा कर चूमने लगा.

जिस शैली ने पलभर के लिए भी किसी के सामने आंसू न बहाए थे, आज विवान को अपने इतने पास देख कर उसी शैली की बड़ीबड़ी आंखों में आंसुओं की झड़ी लग गई. रोतेरोते ऐसी हिचकी बंधी कि वह बोल नहीं पा रही थी. लेकिन दोनों अपने किए पर पश्चात्ताप जरूर

कर रहे थे और मन ही मन एकदूसरे से माफी भी मांग रहे थे. दोनों को देख कर लग रहा था कि भले कितने उतारचढ़ाव आए इन के जीवन में पर दोनों एकदूसरे को दिल की गहराइयों से प्यार करते हैं.

Tags:
COMMENT