खुशियों का समंदर: क्रूर समाज ने विधवा बहू अहल्या को क्यों दी सजा

लालचंद के जवान बेटे नील की चिता की आग अभी ठंडी भी नहीं पड़ी थी कि क्रूर समाज ने सदविधवा बहू अहल्या का नाम उन से जोड़, अफवाहों का चक्रव्यूह रच कर 3 निर्दोष व्यक्तियों की चिता जीतेजी सजा दी थी.

गृहशोभा डिजिटल सब्सक्राइब करें
मनोरंजक कहानियों और महिलाओं से जुड़ी हर नई खबर के लिए सब्सक्राइब करिए
अनलिमिटेड कहानियां-आर्टिकल पढ़ने के लिएसब्सक्राइब करें