सफर रातभर का था. ऋचा का सामीप्य यश को रोमांचित कर रहा था. सफर खत्म हुआ तो दोनों की राहें जुदा हो गईं. हालांकि, यश का मन कुछ और सपने बुनने लगा था.
'गृहशोभा' पर आप पढ़ सकते हैं 10 आर्टिकल बिलकुल फ्री , अनलिमिटेड पढ़ने के लिए Subscribe Now