‘‘हाय,कैसी हो?’’ फोन उठाते ही दूसरी तरफ से विद्या का चहकता स्वर सुनाई दिया.

‘‘अरे विद्या तू… कैसी है? कितने दिनों बाद याद आई आज मेरी,’’ विद्या की आवाज सुनते ही मीता खुशी से बोली.

‘‘तो तूने ही मुझे इतने दिन कहां याद किया मेरी जान?’’ कहते हुए विद्या जोर का ठहाका लगा कर हंस दी, ‘‘अच्छा ये गर्लफ्रैंड वाली शिकवेशिकायतों की बातें छोड़ और यह बता आज घर पर ही है या कहीं जा रही है?’’

‘‘नहीं, कहीं नहीं जा रही घर पर ही हूं,’’ मीता ने कहा.

‘‘ठीक है तो सुबह 10 बजे डाक्टर के यहां अपौइंटमैंट है… तेरा घर उधर ही है तो सोचा आज तुझ से भी मिल लूं. 11 बजे तक फ्री हो कर तेरे घर आती हूं बाय.’’

इस से पहले कि मीता पूछ पाती उसे क्या हुआ है, विद्या ने फोन काट दिया. फिर मीता भी जल्दीजल्दी अपना काम खत्म करने में लग गई ताकि उस के आने से पहले फ्री हो जाए और उस के साथ चैन से बैठ कर बातें कर पाए.

मीता जब किराए के मकान में रहती थी तब विद्या उस की पड़ोसिन थी. हंसमुख स्वभाव की विद्या के साथ जल्द ही मीता की गहरी दोस्ती हो गई. 3 साल मीता उस मकान में रही. इन 3 सालों में वह और विद्या एकदूसरे के साथ बहुत घुलमिल गई थीं. हर सुखदुख, बाहर आनाजाना, फिल्म देखना, शौपिंग करना… कितने सुखद दिन थे वे. फिर मीता अपने घर में शिफ्ट हो गई.

ये भी पढ़ें- दर्द का रिश्ता- क्या हुआ अमृता के साथ?

ठीक 11 बजे विद्या आ गई. मीता काम निबटा कर बेचैनी से उस की राह देख रही थी. आते ही दोनों सखियां आत्मीयता से गले मिलीं.

‘‘पहले यह बता कि डाक्टर के यहां क्यों गई थी?’’ मीता ने चिंतित स्वर में पूछा.

‘‘अरे कुछ नहीं बाबा. दांत में दर्द था तो रूट कैनाल ट्रीटमैंट करवाया… आज ड्रैसिंग करवाने आना था तो सोचा इसी बहाने तुझ से मिल लूं. वैसे तो घर छोड़ कर न तेरा आना

हो पाता है और न मेरा,’’ विद्या सोफे पर बैठते हुए बोली.

‘‘अच्छा किया तूने जो चली आई. कम से कम मिलना तो हुआ. एक समय था कि सुबह, दोपहर, शाम जब मन होता पहुंच जाते थे एकदूसरे के पास और कहां अब दोढाई साल हो गए मिले हुए,’’ मीता भी सामने वाले सोफे पर बैठते हुए बोली.

‘‘और बता क्या चल रहा है आजकल?’’ विद्या ने पूछा और फिर बातों का सिलसिला शुरू हो गया. दुनियाजहान की बातों का सिलसिला… लेकिन विद्या देख रही थी कि मीता बहुत धीमी आवाज में बातें कर रही है और खासतौर पर हंसते हुए वह बहुत ही असहज हो जाती व आवाज भी धीमी कर लेती.

विद्या के अनुसार घर में कोई नहीं था. बच्चे स्कूल जा चुके थे और मीता के पति औफिस.  तब मीता इतनी असहज क्यों है?

आखिरकार विद्या से रहा नहीं गया तो उस ने पूछ ही लिया, ‘‘क्या बात है मीता कुछ परेशान सी हो, सब ठीक तो है?’’

‘‘नहीं यार ऐसी कोई बात नहीं है… वर्षा ऊपर वाले कमरे में बैठी है, इसलिए और कुछ नहीं,’’ मीता दबी आवाज में बोली.

‘‘अरे वाह वर्षा आई हुई है और तूने मुझे बताया भी नहीं… बुला न उसे. ऊपर क्या कर रही है? नहाने गई है क्या?’’ विद्या ने चहक कर एक के बाद एक कई प्रश्न पूछ डाले.

‘‘आई हुई नहीं है यार वह तो शादी के 3-4 महीनों बाद से ही यहीं है,’’ मीता ने उदास स्वर में कहा.

‘‘यहीं है? लेकिन क्यों?’’ किसी बुरी आशंका से विद्या का कलेजा धड़क गया.

वर्षा मीता की इकलौती ननद है. 2 साल पहले बहुत धूमधाम से मीता और उस के पति ने उस का विवाह किया था. लोग वाहवाह

कर उठे थे. देखभाल कर बहुत अच्छे घर में ब्याहा था उसे. लड़का भी हर तरह से गुणी था. फिर अचानक…

‘‘कुछ नहीं वही इश्क का चक्कर… जल्द ही वर्षा को पता चल गया कि कार्तिक का विवाह के बहुत पहले से ही अपनी कंपनी में काम करने वाली एक विवाहित महिला से अफेयर है. अपने पति से तलाक ले कर कार्तिक से शादी तो नहीं कर रही पर उसे छोड़ भी नहीं रही. कार्तिक भावनात्मक रूप से उस औरत के साथ इतनी गहराई से जुड़ा हुआ था कि न तो वह किसी भी तरह से वर्षा से तालमेल बैठा पा रहा था और न ही उसे स्वीकार कर पा रहा था.

‘‘मांबाप के दबाव में आ कर वर्षा को उस घर की बहू तो बना दिया, लेकिन अपनी पत्नी नहीं बना पाया. बेचारी वर्षा अंदर तक टूट गई. सब के समझानेधमकाने, मिन्नतें करने किसी का भी उन दोनों पर असर नहीं हुआ. सब के सामने कार्तिक और वह औरत अपने रिश्ते से साफ मुकर जाते.

‘‘वर्षा उम्रभर तो किसी की बहू बन कर नहीं रह सकती थी न. आखिर उस बेचारी के भी कुछ अरमान, उमंगें थीं अपने पति से. लेकिन सब खाक हो गया. आखिर फैमिली कोर्ट में चुपचाप आपसी राजमंदी से तलाक दिलवा कर हम वर्षा को घर ले आए,’’ मीता ने संक्षेप में बताया, ‘‘बस तब से डेढ़ साल हो गया बेचारी इतनी मानसिक त्रासदियों से गुजरी है कि जीवन से ही निराश हो गई है. रातदिन चुपचाप पड़ी रहती है. लोग पूछने न लगें इसलिए अपनेआप को घर में ही कैद कर रखा है. कहीं नहीं निकलती, किसी से मिलतीजुलती नहीं.

ये भी पढ़ें- गाड़ी बुला रही है- क्या हुआ मुक्कू के साथ?

‘‘उस के दुख से दुखी हो कर हम भी कहीं आ जा नहीं पाते. उस के उदास, निराश चेहरे को देख कर मन ही नहीं करता. न बाहर जाने का, न तीजत्योहार मनाने का. एक इंसान की गलती की वजह से कितनी जिंदगियों में वीरानी फैल गई. पूरे घर में हर समय नकारात्मकता छाई रहती है. समझ नहीं आता इस स्थिति से हम कैसे बाहर निकलें. हर समय घर में घुटनभरा माहौल रहता है. बच्चे भी सहमेसहमे से रहते हैं.’’

विद्या मीता के चेहरे पर उदासी और घुटन की घनी छाया देख रही थी. विद्या के आने से कुछ समय के लिए मीता के मन से वह छाया लुप्त जरूर हो गई थी, लेकिन अतीत की बात आते ही फिर से घनी हो कर चेहरे पर छा गई. विद्या स्थिति की गंभीरता को समझ गई. ऐसी हताशा से उबरना और दूसरे को उबारना कितना मुश्किल होता है, यह वह समझती थी.

आगे पढ़ें- 5 मिनट तक दोनों के बीच मौन पसरा रहा, फिर…

Tags:
COMMENT