पहला भाग पढ़ने के लिए- पेनकिलर भाग-1

5 मिनट तक दोनों के बीच मौन पसरा रहा, फिर विद्या ने ही सवाल किया, ‘‘वर्षा की दूसरी शादी करने की नहीं सोची? तलाक तो हो ही चुका है.’’

‘‘वह शादी और पुरुष के नाम से ही इतनी विरक्त हो चुकी है कि इस बारे में सोचना भी नहीं चाहती. बहुत कोशिशें की, मगर वह डिप्रैशन से ग्रस्त हो चुकी है… क्या करें…’’ मीता की आंखें डबडबा आईं.

विद्या समझ रही थी कि वर्षा के हालात का असर न सिर्फ घर पर, बल्कि मीता के

दांपत्य पर भी पड़ रहा होगा. वह और आरुष शायद पिछले डेढ़ साल से फिल्म देखने या घूमने भी नहीं जा पाए होंगे. घर में भी खुल कर बातें या हंसीमजाक नहीं कर पाते होंगे.

‘‘इस बीमारी का इलाज तो तुझे ही करना होगा. वर्षा की बीमारी को तुम सब कब तक भुगतते रहोगे?’’ विद्या ने सहानुभूति से कहा.

‘‘यह तो ऐसा दर्द है जो लगता है उम्रभर के लिए मिल गया है. कुछ समझ ही नहीं आ रहा है कि वर्षा को इस दर्द से कैसे उबारें,’’ मीता दुखी स्वर में बोली.

‘‘डाक्टर नब्ज देखता है, बीमारी पहचानता है और फिर इलाज भी करता है. बिना इलाज किए छोड़ नहीं देता. इसी तरह जीवन में भी दर्द और समस्याएं होती हैं. सिर्फ सहते रहने से ही बात नहीं बनती. उन्हें दूर तो करना ही पड़ता है, समय रहते इलाज करना पड़ता है.

‘‘शरीर के दर्द में डाक्टर पेनकिलर देता है. दर्द बहुत ज्यादा हो तो इंजैक्शन लगाता है. मन के दर्द में राहत देने के लिए हमें ही एकदूसरे के लिए पेनकिलर का काम करना पड़ता है. तुम भी वर्षा के लिए पेनकिलर बन जाओ, चाहे शुरू में थोड़ी कड़वी ही लगे, लेकिन तभी वह दर्द से बाहर आ सकेगी,’’ विद्या ने समझाया.

मीता सोच में डूबी बैठी रही. सचमुच वर्षा का दर्द तो कम नहीं हुआ उलटे वे सब एक बोझिल दर्द के नीचे दब कर छटपटा रहे हैं. वह आरुष, बच्चे सब.

‘‘चल अब फटाफट 3 कप चाय बना. ऊपर वर्षा के साथ बैठ कर पीते हैं,’’ विद्या ने सिर झटक कर जैसे वातावरण में फैले तनाव को दूर करना चाहा.

‘‘लेकिन वर्षा तो किसी से मिलना ही नहीं चाहती. किसी को भी देखते ही बहुत असहज हो जाती है,’’ मीता शंकित स्वर में बोली.

‘‘थोड़ी देर तक ही असहज रहेगी, फिर अपनेआप सहज हो जाएगी. तू मुझ पर विश्वास तो रख,’’ विद्या मुसकराते हुए बोली.

मीता एक ट्रे में चायबिस्कुट ले आई और फिर दोनों वर्षा के कमरे में आ गईं. विद्या ने देखा कि वर्षा खिड़की के बाहर कहीं शून्य में झांक रही थी. किसी के आने का आभास होते ही उस ने दरवाजे की तरफ देखा. मीता के साथ विद्या को आया देख उस के चेहरे का रंग उड़ गया. उसे लगा कि उस के बारे में सुन कर वे उस से सहानुभूति जताएंगी, उसे बेचारी की नजरों से देखेंगी. फिर उस के घाव हरे हो जाएंगे.

वर्षा का हताश, पीड़ा से भरा चेहरा देख कर विद्या का दिल पसीज गया. लेकिन अभी समय खुद दर्द में डूबने का नहीं वरन वर्षा को दर्द से बाहर निकालने का है. विद्या ने चाय पीते हुए पुरानी बातें करनी शुरू कर दीं. कालेज, पुराने महल्ले, बाहर घूमनेफिरने के दिनों की मस्तीभरी यादें. विद्या देख रही थी वर्षा के चेहरे से असहजता के भाव धीरेधीरे दूर हो रहे हैं, वह सामान्य हो रही है.

ये भी पढ़ें- गाड़ी बुला रही है- क्या हुआ मुक्कू के साथ?

15-20 मिनट बाद ही जब वर्षा को यकीन हो गया कि विद्या उस के घाव कुरेद कर उसे दर्द देने नहीं आई हैं तो उस के चेहरे पर राहत के भाव आ गए और वह सामान्य हो कर कभी मुसकरा देती तो कभी एकाध शब्द बोल देती. मीता के चेहरे से भी तनाव की परतें छंटने लगीं.

करीब 1 घंटे तक सामान्य हलकीफुलकी बातें करने के बाद अचानक विद्या

बोली, ‘‘आज मैं डैंटिस्ट के यहां गई थी. बहुत दिनों से दाढ़ में असहनीय दर्द हो रहा था. उस दर्द की वजह से सिर, गरदन, जबड़े सबकुछ दर्द करने लगा था. यहां तक कि बुखार तक रहने लगा था. बहुत परेशान हो गई थी. एक छोटी सी दाढ़ ने पूरे शरीर को त्रस्त कर दिया था. शरीर ही क्यों पूरी दिनचर्या, जीवन सबकुछ अस्तव्यस्त हो गया था. आखिर डाक्टर ने रूट कैनाल ट्रीटमैंट कर के सड़ी हुई नर्व को निकाल दिया. अब चैन मिला है. दर्द खत्म हो गया. अब जीवन, दिनचर्या सबकुछ ठीक हो गया.’’

वर्षा और मीता आश्चर्य से उस की तरफ देखने लगीं कि अचानक यह क्या बात छेड़ दी विद्या ने. दोनों कुछ समझ पातीं उस से पहले ही विद्या ने वर्षा से एक अजीब सवाल कर दिया, ‘‘अच्छा बताओ वर्षा मैं ने सड़ी नर्व निकलवा कर ठीक किया या नहीं या मुझे उम्रभर वह दर्द सहते रहना चाहिए था? क्या उसी दर्द को सहते हुए अपना जीवन, घरपरिवार सबकुछ अस्तव्यस्त कर देना चाहिए था?’’

वर्षा अचकचा गई कि इस सवाल का क्या तुक है. फिर भी उस ने अपनेआप को संभाल कर जवाब दिया, ‘‘न…नहीं … किसी भी दर्द को क्यों सहना? आप ने ठीक ही किया कि उस का इलाज करवा कर दर्द से नजात पा ली. यही तो करना चाहिए था.’’

‘‘तो बस फिर वर्षा, कार्तिक भी तुम्हारी वही सड़ी हुई नर्व है, जिस की वजह से तुम्हारा पूरा जीवन दर्द से भरता जा रहा है और अस्तव्यस्त हो रहा है. समय रहते उसे अपने जीवन से उखाड़ फेंको. थोड़ा दर्द जरूर होगा, लेकिन आगे पूरा जीवन दर्दरहित और सुखमय गुजरेगा. तुम्हारा भी और दूसरों का भी वरना कीड़ा एक दांत के बाद दूसरे दांतों को भी धीरेधीरे खराब करता जाएगा, वे भी बेवजह दर्द और सड़न के शिकार हो जाएंगे. तुम समझ रही हो न मैं क्या कहना चाह रही हूं?’’ विद्या ने वर्षा के हाथ पर प्यार से हाथ रखते हुए कहा.

ये भी पढ़ें- करवाचौथ: भय व प्रीत का संगम

‘‘हां दीदी मैं समझ रही हूं आप क्या कहना चाह रही हो,’’ वर्षा कांपते स्वर में बोली.

विद्या ने अपनी घड़ी देखी और फिर बोली, ‘‘अरे बाप रे ढाई बज गए. बातों में समय कब कट गया पता ही नहीं चला. बच्चों के घर आने का समय हो गया है. मैं चलती हूं.’’

अचानक वर्षा ने विद्या का हाथ पकड़ लिया, ‘‘फिर कब आओगी दीदी?’’

आगे पढ़ें- मीता सुखद आश्चर्य से भर गई…

Tags:
COMMENT