बाबू साहब, यानी बाबू जगदीश नारायण श्रीवास्तव…रिटायर्ड जिला जज, अब गांव की सब से बड़ी हवेली के एक बड़े कमरे में चारपाई पर असहाय पड़े हुए थे. उन की आंखों के कोरों में आंसू के कतरे झलक रहे थे. वे वहीं अटके रहते हैं. हर रोज ऐसा होता है, जब रामचंद्र उन्हें नहलाधुला कर, साफ कपड़े पहना कर अपने हाथों से उन्हें खाना खिला कर अपने घर के काम निबटाने चला जाता है.

आज बाबू साहब के आंसू पोंछने वाला उन का अपना कोई आसपास नहीं है, लेकिन जब वे सेवा मेें थे, तो उन के पास सबकुछ था. संपन्नता, वैभव, सफल दांपत्यजीवन, सुखी और व्यवस्थित बच्चे. उन के 2 लड़के हैं. बड़ा लड़का उन की तरह ही प्रादेशिक न्यायिक सेवा में भरती हो कर मजिस्ट्रेट हो गया और आजकल मिर्जापुर में तैनात है. छोटे लड़के ने सिविल सेवा की तैयारी की और भारतीय राजस्व विभाग सेवा में नियुक्त हो कर आजकल मुंबई में सीमा शुल्क विभाग में बतौर डिप्टी कलेक्टर लगा हुआ है. दोनों के बीवीबच्चे उन के साथ ही रहते हैं.

बलिया से जब बाबू जगदीश नारायण रिटायर हुए तो दोनों बच्चों ने कहा जरूर था कि वे बारीबारी से उन के साथ रहें, पर उन का दिल न माना. दोनों लड़कों के बीच में बंट कर कैसे रहते? इसलिए इधरउधर दौड़ने के बजाय उन्होंने गांव में एकांत जीवन जीना पसंद किया और अपने पुश्तैनी गांव चले आए, जो अब कसबे का रूप धारण कर चुका था. चारों तरफ पक्की सड़कें बन चुकी थीं. घरों में बिजली लग चुकी थी. गांव का पुराना स्वरूप कहीं देखने को नहीं मिलता था.

बाबू जगदीश नारायण ने नौकरी में रहते हुए ही अपने पुराने कच्चे मकान को ध्वस्त कर हवेलीनुमा मकान बनवा लिया था. तब पत्नी जीवित थीं. वे खुद सशक्त और अपने पैरों पर चलनेफिरने लायक थे. सुबहशाम खेतों की तरफ जा कर काम देखते थे. पिता के जमाने से घर में काम कर रहे रामचंद्र को अपने पास रख लिया था. बाहर का ज्यादातर काम वही देखता था. मजदूर अलग से थे, जो खेतों में काम करते थे. घर में घीदूध की कमी न रहे इसलिए 2 भैंसें भी पाल ली थीं.

पतिपत्नी गांव में सुख से रहते थे. जीवन में गम क्या होता है, तब बाबू साहब को शायद पता भी नहीं था. छुट्टियों में दोनों लड़के आ जाते थे. घर में उल्लास छा जाता. दोनों बेटों के भी 2-2 बच्चे हो गए थे. वे सब आते, तो लगता उन से ज्यादा सुखी और संपन्न व्यक्ति दुनिया में और कोई नहीं है.

5 साल पहले पत्नी का देहांत हो गया. बेटे आए. तेरहवीं तक रहे. जब चलने लगे तो बेमन से कहा कि गांव में अकेले कैसे रहेंगे? बारीबारी से उन के पास रहें. गांव की जमीनजायदाद बेच दें. यहां उस का क्या मूल्य है? लेकिन उन्होंने देख लिया था कि बहुएं अपनेअपने पतियों से इशारा कर रही थीं कि पिताजी को अपने साथ रखने की कोई जरूरत नहीं है.

वैसे भी अपनी बहुओं की सारी हकीकत उन्हें ज्ञात थी. वे ठीक से उन से बात तक नहीं करती थीं. करतीं तो क्या वे स्वयं नहीं कह सकती थीं कि बाबूजी, चल कर आप हमारे साथ रहें. पर दिल से वे नहीं चाहती थीं कि बूढ़े को जिंदगी भर ढोएं और महानगर की अपनी चमकदार दुनिया को बेरंग कर दें.

बेटों को बाबू साहब ने साफ मना कर दिया कि वे उन में से किसी के साथ नहीं रहेंगे क्योंकि गांव से, खासकर अपनी कमाई से बनाई संपत्ति से उन्हें खासा लगाव हो गया था. बच्चे चले गए. एक बार मना करने के बाद दोबारा बच्चों ने चलने के लिए नहीं कहा. वे स्वाभिमानी व्यक्ति थे. जीवन में किसी के सामने झुकना नहीं सीखा था. कभी किसी के दबाव में नहीं आए थे. आज बेटों के सामने क्यों झुकते?

घर में वे और रामचंद्र रह गए. रामचंद्र की बीवी आ कर खाना बना जाती. जब तक वे बिस्तर पर न जाते, रामचंद्र अपने घर न जाता. पूर्ण निष्ठा के साथ वह देर रात तक उन की सेवा में जुटा रहता. दिन भर खेतों मेें मजदूरों के साथ काम करता, फिर आ कर घर के काम निबटाता. भैंसों को चारापानी देता. हालांकि उस की बीवी घर के कामों में उस की मदद करती थी, उस का ज्यादातर काम रसोई तक ही सीमित रहता था.

बाबू साहब को मधुमेह की बीमारी थी. जिस की दवाइयां वे लेते रहते थे. अचानक न जाने क्या हुआ कि उन के हाथपांवों में दर्द रहने लगा. घुटनों तक पैर जकड़ जाते और हाथों की उंगलियां

कड़ी हो जातीं. मुट्ठी तक न बांध पाते. सुबह नींद खुलने पर बिस्तर से तुरंत

नहीं उठ पाते थे. सारा शरीर जकड़ सा जाता.

पहले बाबू साहब ने आसपास ही इलाज करवाया. कोई फायदा नहीं हुआ तो जिला अस्पताल जा कर चेकअप करवाया. डाक्टरों ने बताया कि नसों के टिशूज मरते जा रहे हैं. नियमित टहलना, व्यायाम करना, कुछ चीजों से परहेज करना और नियमित दवाइयां खाने से फायदा हो सकता है. कोई गारंटी नहीं थी. फिर भी डाक्टरों का कहना तो मानना ही था.

जब वे अस्पताल में भरती थे तो दोनों बेटे एकएक कर के आए थे. डाक्टरों से परामर्श कर के और रामंचद्र को हिदायतें दे कर चले गए. किसी ने छुट्टी ले कर उन के पास रहना जरूरी नहीं समझा. उन की बीवियां तो आई भी नहीं. उन्हें यह सोच कर धक्का सा लगा था कि क्या बुढ़ापे में अपने सगे ऐसे हो जाते हैं. अंदर से उन्हें तकलीफ बहुत हुई थी लेकिन सबकुछ समय पर छोड़ दिया.

कुछ दिन अस्पताल में भरती रह कर बाबू साहब गांव आ गए. इलाज चल रहा था. पर कोई फायदा होता नजर नहीं आ रहा था. उन के पैर धीरेधीरे सुन्न और अशक्त होते जा रहे थे. रामचंद्र उन्हें पकड़ कर उठाता, तभी वे उठ कर बैठ पाते. चलनाफिरना दूभर होने लगा. उन्होंने बड़े बेटे को लिखा कि वह आ कर उन को लखनऊ के के.जी.एम.सी. या संजय गांधी इंस्टीट्यूट में दिखा दे.

बड़ा लड़का आया तो जरूर और उन्हें के.जी.एम.सी. में भरती करवा गया. पर इस के बाद कुछ नहीं. भरती कराने के बाद रामचंद्र से बोल गया कि जब तक इलाज चले, वह बाबूजी के साथ रहे. उस की बीवी को भी लखनऊ में छोड़ दिया.

रामचंद्र अपनी बीवी के साथ तनमन से बाबू साहब की सेवा में लगा रहा. धन तो बाबू साहब लगा ही रहे थे. उस की कमी उन के पास नहीं थी. पर न जाने उन के मन में कैसी निराशा घर कर गई थी कि किसी दवा का उन पर असर ही नहीं हो रहा था. अपनों के होते हुए भी उन का अपने पास न होने का एहसास उन्हें अंदर तक साल रहा था. डाक्टरों की लाख कोशिश के बावजूद वे ठीक न हो सके और लखनऊ से अपाहिज हो कर ही गांव लौटे.

अब स्थिति यह हो गई थी कि बाबू साहब चारपाई से उठने में भी अशक्त हो गए थे. रामचंद्र अधेड़ था पर उस के शरीर में जान थी. अपने बूते पर उन्हें उठा कर बिठा देता था तो वे तकियों के सहारे बिस्तर पर पैर लटका कर बैठे रहते थे.

एक दिन नौबत यह आ गई कि वे खुद मलमूत्र त्यागने में भी अशक्त हो गए. उन्हें बिस्तर से उतार कर चारपाई पर डालना पड़ा. चारपाई के बीच एक गोल हिस्सा काट दिया गया. नीचे एक बड़ा बरतन रख दिया गया, ताकि बाबू साहब उस पर मलमूत्र त्याग कर सकें.

रामचंद्र भी जीवट का आदमी था. न कोई घिन न अनिच्छा. पूरी लगन, निष्ठा और निस्वार्थ भाव से उन का मलमूत्र उठा कर फेंकने जाता. बाबू साहब ने उसे कई बार कहा कि वह कोई मेहतर बुला लिया करे. सुबहशाम आ कर गंदगी साफ कर दिया करेगा, पर रामचंद्र ने बाबू साहब की बातों को अनसुना कर दिया और खुद ही उन का मलमूत्र साफ करता रहा. उन्हें नहलाताधुलाता और साफसुथरे कपड़े पहनाता. उस की बीवी उन के गंदे कपड़े धोती, उन के लिए खाना बनाती. रामचंद्र खुद स्नान करने के बाद उन्हें अपने हाथों से खाना खिलाता. अपने सगे बहूबेटे क्या उन की इस तरह सेवा करते? शायद नहीं…कर भी नहीं सकते थे. बाबू साहब मन ही मन सोचते.

बाबू साहब उदास मन लेटेलेटे जीवन की सार्थकता पर विचार करते. मनुष्य क्यों लंबे जीवन की आकांक्षा करता है, क्यों वह केवल बेटों की कामना करता है? बेटे क्या सचमुच मनुष्य को कोई सुख प्रदान करते हैं? उन के अपने बेटे अपने जीवन में व्यस्त और सुखी हैं. अपने जन्मदाता की तरफ से निर्लिप्त हो कर अपना जीवन व्यतीत कर रहे हैं, जैसे अपने पिता से उन्हें कुछ लेनादेना नहीं है.

और एक तरफ रामचंद्र है, उस की बीवी है. इन दोनों से उन का क्या रिश्ता है? उन्हें नौकर के तौर पर ही तो रखा था. परंतु क्या वे नौकर से बढ़ कर नहीं हैं? वे तो उन के अपने सगे बेटों से भी बढ़ कर हैं. बेटेबहू अगर साथ होते, तब भी उन का मलमूत्र नहीं छूते.

जब से वे पूरी तरह अशक्त हुए हैं, रामचंद्र अपने घर नहीं जाता. अपनी बीवी के साथ बाबू साहब के मकान में ही रहता है. उन्होंने ही उस से कहा था कि रात को पता नहीं कब क्या जरूरत पड़ जाए? वह भी मान गया. घर में उस के बच्चे अपनी दादी के साथ रहते थे. दोनों पतिपत्नी दिनरात बाबू साहब की सेवा में लगे रहते थे.

खेतों में कितना गल्लाअनाज पैदा हुआ, कितना बिका और कितना घर में बचा है, इस का पूरापूरा हिसाब भी रामचंद्र रखता था. पैसे भी वही तिजोरी में रखता था. बाबू साहब बस पूछ लेते कि कितना क्या हुआ? बाकी मोहमाया से वह भी अब छुटकारा पाना चाहते थे. इसलिए उस की तरफ ज्यादा ध्यान न देते. रामचंद्र को बोल देते कि उसे जो करना हो, करता रहे. रुपएपैसे खर्च करने के लिए भी उसे मना नहीं करते थे. तो भी रामचंद्र उन का कहना कम ही मानता था. बाबू साहब का पैसा अपने घर में खर्च करते समय उस का मन कचोटता था. हाथ खींच कर खर्च करता. ज्यादातर पैसा उन की दवाइयों पर ही खर्च होता था. उस का वह पूरापूरा हिसाब रखता था.

रात को जगदीश नारायण को जब नींद नहीं आती तो पास में जमीन पर बैठे रामचंद्र से कहते, ‘‘रमुआ, हम सभी मिथ्या भ्रम में जीते हैं. कहते हैं कि यह हमारा है, धनसंपदा, बीवीबच्चे, भाई- बहन, बेटीदामाद, नातीपोते…क्या सचमुच ये सब आप के अपने हैं? नहीं रे, रमुआ, कोई किसी का नहीं होता. सब अपनेअपने स्वार्थ के लिए जीते हैं और मिथ्या भ्रम में पड़ कर खुश हो लेते हैं कि ये सब हमारा है,’’ और वे एक आह भर कर चुप हो जाते.

रामचंद्र मनुहार भरे स्वर में कहता, ‘‘मालिक, आप मन में इतना दुख मत पाला कीजिए. हम तो आप के साथ हैं, आप के चाकर. हम आप की सेवा मरते दम तक करेंगे और करते रहेंगे. आप को कोई कष्टतकलीफ नहीं होने देंगे.’’

‘‘हां रे, रमुआ, एक तेरा ही तो आसरा रह गया है, वरना तो कब का इस संसार से कूच कर गया होता. इस लाचार, बेकार और अपाहिज शरीर के साथ कितने दिन जीता. यह सब तेरी सेवा का फल है कि अभी तक संसार से मोह खत्म नहीं हुआ है. अब तुम्हारे सिवा मेरा है ही कौन?

‘‘मुझे अपने बेटों से कोई आशा या उम्मीद नहीं है. एक तेरे ऊपर ही मुझे विश्वास है कि जीवन के अंतिम समय तक तू मेरा साथ देगा, मुझे धोखा नहीं देगा. अब तक निस्वार्थ भाव से मेरी सेवा करता आ रहा है. बंधीबंधाई मजदूरी के सिवा और क्या दिया है मैं ने?’’

‘‘मालिक, आप की दयादृष्टि बनी रहे और मुझे क्या चाहिए? 2 बेटे हैं, बड़े हो चुके हैं, कहीं भी कमाखा लेंगे. एक बेटी है, उस की शादी कर दूंगा. वह भी अपने घर की हो जाएगी. रहा मैं और पत्नी, तो अभी आप की छत्रछाया में गुजरबसर हो रहा है. आप के न रहने पर आवंटन में जो 2 बीघा बंजर मिला है, उसी पर मेहनत करूंगा, उसे उपजाऊंगा और पेट के लिए कुछ न कुछ तो पैदा कर ही लूंगा.’’

एक तरफ था रामचंद्र…उन का पुश्तैनी नौकर, सेवक, दास या जो भी चाहे कह लीजिए. दूसरी तरफ उन के अपने सगे बेटेबहू. उन के साथ खून के रिश्ते के अलावा और कोई रिश्ता नहीं था जुड़ने के लिए. मन के तार उन से न जुड़ सके थे. दूसरी तरफ रामचंद्र ने उन के संपूर्ण अस्तित्व पर कब्जा कर लिया था, अपने सेवा भाव से. उस की कोई चाहत नहीं थी. वह जो भी कर रहा था, कर्तव्य भावना के साथ कर रहा था. वह इतना जानता था कि बाबू साहब उस के मालिक हैं, वह उन का चाकर है. उन की सेवा करना उस का धर्म है और वह अपना धर्म निभा रहा था.

बाबू साहब के पास उन के अपने नाम कुल 30 बीघे पक्की जमीन थी. 20 बीघे पुश्तैनी और 10 बीघे उन्होंने स्वयं खरीदी थी. घर अपनी बचत के पैसे से बनवाया था. उन्होेंने मन ही मन तय कर लिया था कि संपत्ति का बंटवारा किस तरह करना है.

उन के अपने कई दोस्त वकील थे. उन्होंने अपने एक विश्वस्त मित्र को रामचंद्र के माध्यम से घर पर बुलवाया और चुपचाप वसीयत कर दी. वकील को हिदायत दी कि उस की मृत्यु पर अंतिम संस्कार से पहले उन की वसीयत खोल कर पढ़ी जाए. उसी के मुताबिक उन का अंतिम संस्कार किया जाए. उस के बाद ही संपत्ति का बंटवारा हो.

फिर उन्होंने एक दिन तहसील से लेखपाल तथा एक अन्य वकील को बुलवाया और अपनी कमाई से खरीदी 10 बीघे जमीन का बैनामा रामचंद्र के नाम कर दिया. साथ ही यह भी सुनिश्चित कर दिया कि उन की मृत्यु के बाद इस जमीन पर उन के बेटों द्वारा कोई दावामुकदमा दायर न किया जाए. इस तरह का एक हलफनामा तहसील में दाखिल कर दिया.

यह सब होने के बाद रामचंद्र और उस की बीवी उन के चरणों पर गिर पड़े. वे जारजार रो रहे थे, ‘‘मालिक, यह क्या किया आप ने? यह आप के बेटों का हक था. हम तो गरीब आप के सेवक. जैसे आप की सेवा कर रहे थे, आप के बेटों की भी करते. आप ने हमें जमीन से उठा कर आसमान का चमकता तारा बना दिया.’’

वे धीरे से मुसकराए और रामचंद्र के सिर पर हाथ फेर कर बोले, ‘‘रमुआ, अब क्या तू मुझे बताएगा कि किस का क्या हक है. तू मेरे अंश से नहीं जन्मा है, तो क्या हुआ? मैं इतना जानता हूं कि मनुष्य के अंतिम समय में उस को एक अच्छा साथी मिल जाए तो उस का जीवन सफल हो जाता है. तू मेरे लिए पुत्र समान ही नहीं, सच्चा दोस्त भी है. क्या मैं तेरे लिए मरते समय इतना भी नहीं कर सकता?

‘‘मैं अपने किसी भी पुत्र को चाहे कितनी भी दौलत दे देता, फिर भी वह मेरा इस तरह मलमूत्र नहीं उठाता. उस की बीवी तो कदापि नहीं. हां, मेरी देखभाल के लिए वह कोई नौकर रख देता, लेकिन वह नौकर भी मेरी इतनी सेवा न करता, जितनी तू ने की है. मैं तुझे कोई प्रतिदान नहीं दे रहा. तेरी सेवा तो अमूल्य है. इस का मूल्य तो आंका ही नहीं जा सकता. बस तेरे परिवार के भविष्य के लिए कुछ कर के मरते वक्त मुझे मानसिक शांति प्राप्त हो सकेगी,’’ बाबू साहब आंखें बंद कर के चुप हो गए.

मनुष्य का अंत समय आता है तो बचपन से ले कर जवानी और बुढ़ापे तक के सुखमय चित्र उस के दिलोदिमाग में छा जाते हैं और वह एकएक कर बाइस्कोप की तरह गुजर जाते हैं. वह उन में खो जाता है और कुछ क्षणों तक असंभावी मृत्यु की पीड़ा से मुक्ति पा लेता है.

बुढ़ापे की अपंगता को छोड़ कर बाबू साहब को नहीं लगता कि कभी किसी दुख से उन का आमनासामना हुआ हो. पिता संपन्न किसान थे. साथ ही उस जमाने के पटवारी भी थे. 2 बहनों के बीच अकेले भाई थे. लाड़प्यार से पालन- पोषण हुआ था. किसी चीज का अभाव नहीं था, पर वे बिगड़ैल नहीं निकले क्योंकि मां समझदार थीं. अच्छे संस्कार डाले उन में. बुद्धि के तेज थे. स्कूल में हमेशा अव्वल आते. 5वीं के बाद उन्हें पढ़ने के लिए कसबे के इंटर कालेज में भेज दिया गया. वहां भी प्राध्यापकों के चहेते रहे. इंटर के बाद उच्च शिक्षा के लिए वे इलाहाबाद गए. वहां होस्टल में रह कर पढ़ाई की. अच्छे अंकों से बी.एससी. उत्तीर्ण की. तभी उन का मन साइंस से उचट गया.

बातोंबातों में एक दिन उन के एक मित्र ने कह दिया, ‘यार जगदीश, तू क्यों साइंस के फार्मूलों में उलझा हुआ है. तेरी तो तर्कवितर्क की शक्ति बड़ी पैनी है. बहस जोरदार कर लेता है. एलएल.बी. कर के वकालत क्यों नहीं करता?’

कहां तो वे आई.ए.एस. बनने का सपना देख रहे थे, कहां उन के मित्र ने उन की दिशा बदल दी. बात उन को जम गई. बी.एससी. कर चुके थे. तुरंत ला कालेज में दाखिला ले लिया. पढ़ने में जहीन थे ही. कोई दिक्कत नहीं हुई. 3 साल में वकालत पास कर ली और इलाहाबाद हाईकोर्ट में एक बड़े वकील के साथ प्रैक्टिस करने लगे. साथ ही साथ न्यायिक परीक्षा की तैयारी भी. पहली बार बैठे और पास हो गए. न्यायिक मजिस्ट्रेट बन कर पहली बार उन्नाव गए. तब से 35 साल की नौकरी में प्रदेश के कई जिलों में विभिन्न पदों पर तैनात रहे. अंत में बलिया से जिला जज के पद से रिटायर हुए. न्यायिक सेवा में अपनी कर्तव्यनिष्ठा और ईमानदारी से नाम कमाया तो आलोचनाओं के भी शिकार हुए. पर उन्हें जो सच लगा, उसी का पक्ष लिया. जानबूझ कर अंतर्मन से किसी का पक्षपात नहीं किया.

कहते हैं न कि जीवन अपना हिसाबकिताब बराबर रखता है. ज्यादातर जीवन में अगर उन्हें सुख ही सुख नसीब हुआ था, तो अब अंत समय में दुख की बारी थी. इसे भी उन्हें इसी जीवन में भुगतना था, वरना जीवन का खाता असंतुलित रह जाएगा. आय और व्यय का पूरा विवरण आना ही चाहिए. सुख अगर आय है तो दुख व्यय.

उन का शरीर दिन ब दिन क्षीण होता जा रहा था. मानसिक संताप से वे उबर नहीं पा रहे थे. बेटे बिना नागा फोन पर उन की कुशलता की जानकारी हासिल कर रहे थे. पर क्या जीवन के अंतिम क्षणों में बच्चों की कुशलक्षेम पूछने भर से उन का कष्ट और संताप कम हो सकता था.

फोन पर ही बेटों को उन्होंने बता दिया था कि पुश्तैनी जमीनजायदाद और खुद की कमाई संपत्ति की उन्होंने वसीयत कर दी है. उस को पंजीकृत भी करवा दिया है. वसीयत वकील अमरनाथ वर्मा के पास रखी है. जीतेजी देखने तो क्या आओगे? मेरी मृत्यु पर ही तुम लोग आओगे, पर अंतिम संस्कार करने से पहले वसीयत पढ़ लेना. उस के बाद ही मेरा अंतिम संस्कार करना.

और वह दिन भी आ पहुंचा. हवेली के विशाल आंगन में उन का पार्थिव शरीर रखा था. एक तरफ परिजन बैठे थे, उन के बीच सफेद कुरतेपायजामे में बाबू साहब के दोनों बेटे बैठे थे. महिलाएं अंदर थीं. वकील साहब को खबर कर दी गई थी. बस पहुंचने ही वाले थे.

वकील साहब के पहुंचते ही सब की नजरें उन के चेहरे पर टिक गईं. उन्होंने बारीबारी से सब को देखा. एक कोने में दीनहीन रामचंद्र बैठा था. केवल उस की आंखों में आंसू थे, पर वह रो नहीं सकता था, क्योंकि वहां सभी धीरगंभीर मुद्रा अपनाए थे.

वकील साहब ने अपने ब्रीफकेस से एक फाइल निकाली और उसे खोल कर पहले बाबू साहब के दोनों बेटों की तरफ देखा, फिर रामचंद्र को अपने पास बुला लिया. गंभीर वाणी में बोले, ‘‘मैं वसीयत पढ़ने जा रहा हूं. आप तीनों ध्यान से सुनना क्योंकि यह केवल आप ही 3 लोगों से संबंधित है,’’ फिर उन्होंने वसीयत पढ़नी प्रारंभ की :

‘‘मैं जगदीश नारायण श्रीवास्तव, निवासी ग्राम व पोस्ट हरचंदरपुर, जिला रायबरेली अपने पूरे होशोहवास और संज्ञान में शपथपूर्वक अपनी संपत्ति की निम्नलिखित वसीयत करता हूं :

‘‘भोरवा खेड़ा स्थित 20 बीघा पुश्तैनी जमीन, जो अलगअलग 4 चकों में है, मेरे दोनों पुत्रों के बीच बराबरबराबर बांट दी जाए. इसी तरह बैंक में जमा धनराशि के भी वे बराबर के हिस्सेदार होंगे. सोनेचांदी के जेवरात इन की बहुओं को बराबरबराबर सुनार की मध्यस्थता में उन की कीमत आंक कर बांट दिए जाएं.

‘‘रही 10 बीघा जमीन, जो मैं ने अपनी बचत और मेहनत की कमाई से खरीदी थी, उस का बैनामा मैं पहले ही अपने पुत्रसमान सेवक रामचंद्र के नाम कर चुका हूं. वह मेरा सगा बेटा नहीं है, पर मैं उस को अपने बेटों से भी बढ़ कर मानता हूं. संतान सुख क्या होता है वह मैं ने अपने दोनों पुत्रों के पालनपोषण से प्राप्त कर लिया है, परंतु जीवन के अंतिम समय में संतान एक पिता को क्या सुख देती है, यह मुझे अपने पुत्रों से प्राप्त नहीं हो सका. वह सुख मुझे मिला तो केवल रामचंद्र से, उस की पत्नी और बच्चों से.

‘‘मेरी सेवा करते समय उन के मन में कभी यह लालसा न रही होगी कि मजदूरी के अलावा उन्हें कुछ और प्राप्त हो. बचपन में हम अपने बच्चों का मलमूत्र साफ करते हैं. हमें उस से घृणा नहीं होती क्योंकि बच्चों को हम अपना अंश समझते हैं और यह समझते हैं कि वे हमारे बुढ़ापे की लाठी हैं, परंतु क्या सचमुच…

‘‘रामचंद्र के शरीर में मेरा खून नहीं है. वह मेरे घरपरिवार का भी नहीं है. है तो बस मात्र एक नौकर, परंतु उस की सेवा में नौकरभाव नहीं है. इस से कहीं कुछ ज्यादा है. वह मेरा मलमूत्र ऐसे उठाता है जैसे अपने अबोध बच्चे का उठा रहा हो. कोई घृणा नहीं उपजती है उस के मन में. उसी पितृभाव से मुझे नहलाताधुलाता है. मुझे साफ कपडे़ पहना कर अपने हाथों से खाना खिलाता है. मेरी सेवा करने में उस की पत्नी ने भी कभी कोताही नहीं बरती. कभी थकान या ऊब का भाव नहीं दिखाया. यह सब करते हुए क्या उन के मन में किसी प्रतिदान की आकांक्षा या लालसा रही होगी…कभी नहीं. इन दोनों ने मुझ से पूछे बिना कोई चीज इधर से उधर नहीं रखी.

‘‘ऐसे स्वामीभक्त रामचंद्र को मैं इस से ज्यादा दे भी क्या सकता था कि उस के बच्चों का भविष्य सुनिश्चित कर दूं. 10 बीघे जमीन में मेहनत से खेती करेंगे तो उन्हें कभी रोटी के लिए दूसरे के आगे हाथ नहीं पसारना पड़ेगा. मेरे बेटे सुखी- संपन्न और नौकरीपेशा वाले हैं. आशा है, मेरे इस निर्णय से उन के दिल को चोट नहीं पहुंची होगी.’’

वकील साहब थोड़ी देर के लिए रुके. सब लोग मंत्रमुग्ध थे. वकील साहब ने आगे पढ़ा :

‘‘इस के बाद यह मकान बचता है. इसे भी मैं ने अपने खूनपसीने की कमाई से बनवाया है. मैं जानता हूं, मेरे बेटेपोते मेरी मृत्यु के बाद गांव का रुख नहीं करेंगे. इस मकान को औनेपौने दाम में किसी बनिए को बेच देंगे. अत: यह मकान भी मैं रामचंद्र को दान करता हूं. मेरी मृत्यु के बाद वह सपरिवार इस मकान को अपने रहने के लिए उपयोग करे. दोनों भैंसें भी उसी की होंगी.’’

लाखों की संपत्ति बाबू साहब एक नौकर को दे कर चले गए. क्या उन के बेटे इस वसीयत को मानेंगे और यों ही चुप बैठे रह जाएंगे? सब की नजरें उन के बेटों की तरफ उठीं और एकटक उन्हें ही ताकने लगीं. वे क्या प्रतिक्रिया करेंगे? परिचित तथा परिजनों को विश्वास था कि अंतिम संस्कार से पहले ही कोई न कोई हंगामा खड़ा हो जाएगा.

उधर रामचंद्र जारजार रो रहा था.

दोनों बेटों ने एकदूसरे की तरफ देखा. चंद क्षणों तक एकदूसरे से कानाफूसी की और बड़े बेटे ने खड़े हो कर कहा, ‘‘हमें पिताजी पर गर्व है. उन्होंने जो कुछ किया, बहुत अच्छा किया. हमें उन से कोई शिकायत नहीं है. सच तो यही है कि हम उन के पुत्र होते हुए भी उन की कोई सेवा न कर सके. उन्हें अकेला छोड़ कर हम अपने बीवीबच्चों में मस्त रहे. वृद्धावस्था का अकेलापन और अपनों के पास न होने का बाबूजी का गम हम महसूस न कर सके. उन्हें अकेला मरने के लिए छोड़ दिया. पर हम रामचंद्र को अपना बड़ा भाई मानते हुए अपनेअपने हिस्से की जमीन को भी बोनेजोतने का अधिकार देते हैं और साथ ही यह अधिकार भी देते हैं कि बाबूजी का अंतिम संस्कार भी उसी के हाथों से संपन्न हो. इन्हीं हाथों ने बाबूजी की अंतिम दिनों में सेवा की है. यही उन का असली पुत्र है और उसे यह अधिकार मिलना चाहिए.’’

सब की नजरों में रामचंद्र के लिए अथाह आदर और सम्मान था.

Tags:
COMMENT