प्रतिवचन: त्याग की उम्मीद सिर्फ स्त्री से ही क्यों

त्याग की उम्मीद सिर्फ स्त्री से ही क्यों? क्या उसे परिवार की धुरी, त्याग की देवी और ममता की छांव बना कर पुरुष और समाज अपने स्वार्थ की पूर्ति नहीं करते? ऐसे सवाल माधुरी के दिलोदिमाग में उठते रहते थे जिन के उत्तर भी उस के पास थे, मगर.

गृहशोभा डिजिटल सब्सक्राइब करें
मनोरंजक कहानियों और महिलाओं से जुड़ी हर नई खबर के लिए सब्सक्राइब करिए
अनलिमिटेड कहानियां-आर्टिकल पढ़ने के लिएसब्सक्राइब करें