लेखक- मोना प्रधान

पूर्वकथा

मयूरी राहुल के साथ सऊदी अरब पहुंच गई. आलीशान घर, नौकरचाकर देख हैरान थी. और अजीब भी लग रहा था उसे. जल्दी ही उसे यह पता चल जाता है कि राहुल का उस से प्यार, शादी, पासपोर्ट बना कर यहां लाना सब फरेब था. उस घर में कई लड़कियों को देहधंधे के लिए बंदी बना कर रखा गया था.

मयूरी किसी तरह पाखी की मदद से वहां से भाग निकलने में कामयाब हो

जाती है. बेतहाशा भागतीभागती वह एक निर्माणरत इमारत में छिप जाती है और भूखीप्यासी वहां बेहोश हो कर गिर

जाती है.

क्या मयूरी हालात का मुकाबला कर पाती है, पढ़ें आगे…

मयूरी को होश आया तो उस ने खुद को अस्पताल के बैड पर पाया. उस के एक हाथ में टेप से चिपकी सूई लगी हुई थी और ग्लूकोज चढ़ रहा था. उस ने धीरे से आंखें खोल एक नजर आसपास डाली पर कमजोरी के कारण फिर आंखें बंद कर लीं. कुछ पल तो उसे यह समझने में ही लग गए कि वह वहां कैसे आई…जरूर सुबह मजदूरों ने उसे बेहोश पा कर यहां अस्पताल में ला कर भरती करा दिया होगा. तभी एक नर्स आ कर उस का ब्लडप्रैशर नापने लगी तो उस की आंखें खुल गईं.

ये भी पढ़ें- बट स्टिल आई लव हिम

नर्स के साथ ही एक डाक्टर भी थे जो उसे होश में आया देख पूछ रहे थे, ‘‘होश आ गया आप को, अब कैसा फील कर रही हैं?’’

‘‘काफी ठीक लग रहा है, मैं यहां आई कैसे?’’

‘‘आप 2 दिनों से बेहोश पड़ी हैं…’’ उस का बीपी चैक करती नर्स ने बताया तो वह चौंक पड़ी.

‘‘2 दिनों से?’’

‘‘जी हां, 2 दिनों से,’’ इस बीच डाक्टर उस की रिपोर्ट भी पढ़ते रहे.

‘‘पर मुझे यहां लाया कौन?’’ वह कमजोर सी आवाज में पूछ उठी.

‘‘वह तो भला हो खान चाचा का, जो आप को कचरे के ढेर के पास से उठा कर यहां लाए थे. वरना कुछ भी हो सकता था. उस की बांह पर से बीपी इंस्ट्रूमैंट की पट्टी खोलती नर्स बोली.’’

‘‘खान चाचा कौन हैं? कहां हैं? वह पूरी बात जानना चाह रही थी.

‘‘हमारे अस्पताल में स्टाफ के चीफ हैं. अभी औपरेशन थिएटर में डाक्टर साहब के साथ हैं, आते ही होंगे,’’ नर्स उसे बता कर अगले मरीज के पास पहुंच गई.

थोड़ी देर बाद ही 45-50 वर्षीय, खिचड़ी बालों वाले खान चाचा, औपरेशन पूरा होने के बाद उस के पास आए. उसे होश में आया देख उन्होंने राहत की सांस ली, ‘‘शुक्र है तुम्हें होश तो आया. अब कैसी तबीयत है?’’

‘‘बहुत बेहतर, आप का शुक्रिया कैसे अदा करूं, समझ नहीं पा रही,’’ उन्हें देखती मयूरी बोल उठी.

‘‘बेटा, शुक्रिया मेरा नहीं, समय का अदा करो. हम तो समय पर पहुंच गए थे.’’

‘‘मेरे लिए तो आप ही सबकुछ बन कर आए हैं.’’

‘‘अच्छा छोड़ो, यह बताओ तुम वहां कचरे के ढेर के पास कैसे पहुंच गईं? अपने घर का पता दो, तो तुम्हारे मातापिता को सूचना दूं. परेशान हो रहे होंगे वे लोग. यह तो कहो, मेरा घर वहीं पास में ही है. अपनी नाइट ड्यूटी खत्म कर के मैं वहां से गुजर रहा था, तब तुम्हारे कराहने की आवाज सुनी व बदन में हरकत देखी तो फौरन यहां ले आया.’’

मयूरी को समझ नहीं आ रहा था कि एक अजनबी पर वह कितना यकीन करे. एक बार धोखा खा चुकी थी, अब दोबारा नहीं खाना चाहती थी. पर उस के सामने कोई चारा न था. फिर खान चाचा तो नेक बंदे लग रहे थे. वरना आजकल की स्वार्थी दुनिया में, जहां लोग अपनों की मदद करने में हिचकते हैं, उस जैसी अनजान लड़की के लिए इतनी जहमत हरगिज नहीं उठाते. सो, उस ने संक्षेप में खान चाचा को सबकुछ सचसच बता दिया. वहां से भागते हुए वह तो उस बिल्ंिडग के अंदर पहुंचते ही बेहोश हो कर गिर पड़ी थी. सुबह वहां काम करने वालों ने शायद उसे मरा हुआ समझ कर पुलिस की झंझटों से बचने के लिए थोड़ी ही दूर पर बने कचरे के डलाव के पास डाल दिया होगा.

ये भी पढ़ें- आत्मबोध

मयूरी के साथ घटी पूरी दास्तान सुन कर खान चाचा फिक्रमंद हो गए थे. उस की तबीयत थोड़ी संभल जाने पर अस्पताल से छुट्टी करा कर वे उसे अपने साथ अपने घर ले गए, जहां उन की पत्नी साबिया बेगम व बेटी सना थीं. उन्हें पहले ही संक्षेप में सबकुछ बता कर उन्होंने मयूरी को, भारत वापस लौटने तक अपने साथ ही रखने का मशवरा कर लिया था. सो, घर में सब ने उसे हाथोंहाथ लिया. जरा भी पराएपन का एहसास नहीं होने दिया. जानपहचान वालों से उसे अपना दूर का रिश्तेदार बता दिया गया था.

अगले दिन खान चाचा ने मयूरी की तरफ से राहुल के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज करवा कर पासपोर्ट बनवाने के लिए अप्लीकेशन जमा करवा दिया. साथ ही, पूरे घटनाक्रम की एक प्रति भारतीय दूतावास को भी भेज दी.

अब मयूरी को अपनी मां व बहन की फिक्र सताने लगी थी. कहीं राहुल के गुर्गे उन्हें वहां परेशान न करें. पर चोरों के पैर ही कहां होते हैं. वहां जाने की उन की शायद ही हिम्मत होती. मां तो सोच रही होंगी, बेटी फ्रांस में आराम से अपने पति के साथ है और वह यहां पर. उन्हें हकीकत से दोचार कराना भी बहुत जरूरी था. सो, उस ने विस्तार में न जा कर संक्षेप में केवल अपनी सलामती, राहुल की असलियत व अपने सऊदी अरब में खान चाचा के परिवार के साथ रहने की पूरी खबर के साथ ही उन का पता व बाकी बाद में आ कर बताने के लिए लिख कर पत्र भेज दिया था.

रहने के लिए उसे खान चाचा ने छत दी ही थी. मयूरी अपना खर्च भी उन्हीं के ऊपर नहीं थोपना चाहती थी. सो, उस के बहुत अपील करने पर खान चाचा ने एक सीनियर डाक्टर की सिफारिश ले कर उसे अस्पताल में ही स्टोरकीपर की नौकरी दिलवा दी. जिस से उस की आर्थिक समस्या कुछ हद तक सुलझ गईर् थी. बीचबीच में वह भारतीय दूतावास से संपर्क कर के अपने पासपोर्ट आदि के बारे में पता करती रहती थी. दूतावास ने अपने लैवल पर इस पूरी घटना की छानबीन करवानी शुरू कर दी थी. घर से बाहर निकलते समय मयूरी हमेशा बुर्के में ही रहती, ताकि कहीं फिर वह उन लोगों के चंगुल में न फंस जाए.

सना से, जो लगभग उसी की हमउम्र थी, मयूरी की अच्छी दोस्ती हो गई थी. जल्द ही वे दोनों एकदूसरे की हमराज भी बन गईं. कट्टरपंथी पारिवारिक माहौल के कारण सना घर में बहुत कम बोलने वाली व धर्मभीरु लड़की मानी जाती थी. परंतु मयूरी के सामने वह अपने दिल का हर राज बेहिचक खोल देती. रूढि़वादी परंपराओं से बंधी मां के सामने जो बात वह इतने दिनों तक न कह सकी थी, मयूरी को जानते देर न ली कि वह एक मुसलिम युवक से बेइंतहा प्यार करती है और उसी से विवाह करना चाहती  है.

उस की यह बात सुन कर मयूरी पूछ उठी, ‘‘तो मुश्किल क्या है? जब तुम्हारी जातबिरादरी एक है तो खान चाचा मान ही जाएंगे.’’

‘‘नहीं मयूरी आपा, वे कभी नहीं मानेंगे. क्योंकि उन्होंने बचपन में ही मेरी शादी खालाजान के साहबजादे रशीद से तय कर दी थी. और वे अपनी जबान

के बेहद पक्के हैं. पर मुझे वह रशीद एक आंख नहीं भाता. मेरा शिराज

उस से कहीं ज्यादा हसीन और अमीर है. कहां तेल मसालों की दुकान पर बैठा गंधाता रशीद, कहां इत्र की भीनीभीनी खुशबुओं में डूबा शिराज.’’

‘‘देखो सना, जहां तक मैं खान चाचा को समझी हूं, वे बहुत ही नेक और रहमदिल इंसान हैं. जब तुम जानती हो कि वे अपनी जबान के पक्के हैं तो गलत रास्ते पर बढ़ ही क्यों रही हो? रशीद से तुम्हारी शादी उन्होंने कुछ सोचसमझ कर ही तय की होगी. खूबसूरती केवल तन की ही नहीं, मन की भी होती है. हो सकता है जो उन्होंने देखा हो, वह तुम नहीं देख पा रही हो. आखिर वे तुम्हारे पिता हैं, तुम्हारा बुरा थोड़े ही चाहेंगे,’’ मयूरी उसे समझाती हुई बोली.

‘‘क्यों, मैं क्या नन्ही बच्ची हूं. अब मैं भी बालिग हो गई हूं और हमें अपनी मरजी से शादी करने का हक है. अब्बूजान अगर जिद करेंगे तो मैं भी उन्हीं की बेटी हूं, बगावत कर दूंगी या घर से भाग कर उस से निकाह कर लूंगी.’’

उसे जनून की हद तक शिराज की दीवानी देख मयूरी मन ही मन परेशान हो उठी. पर उसे डांटती हुई बोली, ‘‘मोहब्बत का मतलब भी समझती हो, मोहब्बत ऊपर उठना सिखाती है, न कि नीचे गिरना. खबरदार, तुम ऐसा कुछ भी नहीं करोगी. पहले उन्हें सबकुछ सचसच बताओ और राजी करने की कोशिश करो. जिन मांबाप ने तुम्हें पालपोस कर इतना बड़ा किया है, तुम्हारी हर ख्वाहिश पूरी की है, घर से भाग कर उन के मुंह पर कालिख पोतते तुम्हें जरा भी शर्म न आएगी? कितने दिनों से जानती हो उसे?’’

ये भी पढ़ें- अधूरी मां

‘‘लगभग सालभर से, वह बहुत शरीफ लड़का है आपा. खानदानी रईस है, मगर घमंड जरा भी नहीं है.’’

‘‘करता क्या है?’’ मयूरी ने उसे और कुरेदते हुए पूछा.

‘‘कई कोठियां हैं कनाड़ा, पेरिस आदि में. यहां भी 2 कोठियां हैं. उन का किराया ही काफी आ जाता है. मैं ने बताया न, खानदानी रईस है. कुछ काम करने की जरूरत ही नहीं पड़ती. हर महीने जमा होने वाले किराए का ब्याज ही काफी हो जाता है,’’ वह गर्व से बोली.

‘‘यानी निठल्ला है. बापदादाओं के पैसे पर ही ऐश कर रहा है. अपना कोई कामधाम नहीं है.’’

‘‘रहने दो मयूरी आपा, अब आप भी अम्मीजान की जबान मत बोलो. एक बार मैं ने अपनी एक सहेली की आड़ ले कर इस बारे में मां से बात की थी. तब वे भी कुछ ऐसे ही बोली थीं,’’ सना रूठते हुए बोली.

तो मयूरी उसे मनाती सी बोल उठी, ‘‘अच्छा लाड़ो रानी, हमें दिखाओ तो कौन है वह? कैसा है? अच्छा लगा तो मैं खुद खान चाचा से बात करने की कोशिश करूंगी. लेकिन यह घर से भागनेवागने की बात तुम अपने जेहन से बिलकुल निकाल दो, ठीक है?’’

‘‘ठीक है, मंजूर. पर मेरे पास उस का कोई फोटो तो है नहीं. हां, आप को उस से मिलवा सकती हूं,’’ सना खुश हो कर बोली.

मयूरी ने उस से खान चाचा से बात करने के लिए कह तो दिया पर वह समझ रही थी कि ये सब कितना मुश्किल होगा. अपनी दी हुई जबान से पलटना उन के लिए मौत से कम तकलीफदेह न होगा. पर सना को भी वह इस राह पर बढ़ने से कैसे रोके?

सना तो अभी नादान है. उम्र के उस पड़ाव पर है जब मन अपने ही ख्वाबों की दुनिया में खोया रहता है. उस में किसी की दखलंदाजी उसे नागवार गुजरती है. दुनिया की ऊंचनीच से अनजान सना को शिराज पर पूरा भरोसा था. क्या पता वह रशीद से बेहतर जीवनसाथी ही साबित हो, पर खान चाचा की दी हुई जबान? एक बार वह शिराज से मिल कर उसे पूरी हालत बता कर सना को समझाने के लिए अपील तो कर ही सकती है. शायद शिराज ही मान जाए और पीछे हट जाए. तब तो कोई दिक्कत ही नहीं बचेगी. फिर वह सना को भी समझाबुझा कर खान चाचा की पसंद से ही निकाह करने के लिए राजी कर लेगी. पर शिराज उस की बात मानेगा ही क्यों…?

जिस परिवार ने विषम परिस्थितियों में उसे सहारा दिया, उस की इज्जत बनाए रखना अब उस की जिम्मेदारी हो गई थी. किसी ठोस नतीजे पर पहुंचने के लिए पहले शिराज से मिलना जरूरी था.

अगले 2-3 दिनों बाद ही सना ने मयूरी को बताया कि कल वह उसे शिराज से मिलाने ले चलेगी.

‘‘कोई फोन तो आया नहीं, मिलने का प्रोग्राम कैसे तय किया?’’ बात की तह तक जाने के लिए मयूरी उत्सुक थी.

‘‘हमारी कामवाली फरीदन उसी की कोठी के पास एक गली में रहती है. जब हमें मिलना होता है, फरीदन के हाथ ही एक कागज पर जगह व समय लिख कर भेज देते हैं,’’ सना भेदभरी धीमी आवाज में उसे अपना राजदार बनाती बोली.

‘‘ओह,’’ सबकुछ जान कर मयूरी हैरान रह गई थी कि फरीदन भी इस में एक कड़ी का काम कर रही थी.

अगले दिन वे दोनों बाजार तक जाने के लिए कह कर तय जगह व समय से थोड़ा पहले पार्क में पहुंच गईं. पहले दूर से ही बिना उसे बताए शिराज को देखनेपरखने, फिर अपनी राय देने के लिए सना को समझा कर मयूरी कुछ ही दूर पड़ी दूसरी बैंच पर बैठ गई.

बुर्का पहने होने से वह आसानी से अपनी पहचान छिपाए रखे थी, सबकुछ देखती रह सकती थी. उन्हें बैठे हुए 10 मिनट ही हुए थे. जब वह सना की तरफ देख रही थी, तभी उस की साइड से एक युवक निकल कर सना की तरफ बढ़ता दिखाई दिया. शायद यही शिराज था, क्योंकि उसे देखते ही सना का चेहरा फूल सा खिल उठा था. पर अभी वह उस की पीठ ही देख पा रही थी.

ये भी पढ़ें- आत्मनिर्णय

रेशमी चूड़ीदार व लंबी कढ़ी हुई अचकन उस की अमीरी बयां कर रही थी. सना को आदाब करता शिराज जैसे ही उस की बगल में बैठा, उस के चेहरे पर निगाह पड़ते ही मयूरी बुरी तरह चौंक उठी, क्योंकि शिराज के भेष में राहुल उस के सामने एक लाल मखमली डब्बी खोल कर मुसकराते हुए सना को कुछ तोहफा दे रहा था.

मयूरी का दिल चाहा अभी जा कर सना को उस की असलियत बता कर उसे वहां से उठा लाए. पर उठतेउठते, ठिठक कर वह फिर बैठ गई. उस के पास शिराज के ही राहुल होने का क्या सुबूत था. इस तरह उस के कहने मात्र से सना उस पर भला क्यों यकीन करेगी. सना मानेगी नहीं और राहुल भी चौकन्ना हो जाएगा. शहर से गायब भी हो सकता है या उसी को कुछ नुकसान पहुंचा सकता है.

सना पर तो उस ने अपनी अमीरी व प्रेम का ऐसा रंग चढ़ा रखा है, जिस पर दूसरा रंग चढ़ना आसान न था. मगर अब मयूरी को जल्द ही इस का कोई हल निकालना ही था, वरना सना की जिंदगी बरबाद होते देर नहीं लगती. उसे याद आ रहा था जब मसूरी में राहुल उस से मिलता था तो इसी तरह अमीरी के दिखावे के साथसाथ बड़ी शराफत व नफासत के साथ उस से पेश आता था. उस में कोई छिछोरापन न पा कर ही मयूरी धीरेधीरे उस की हर बात पर खुद से ज्यादा यकीन करने लगी थी. यदि तब कोई उसे राहुल की असलियत बताता तो शायद वह भी उस पर यकीन न करती.

यहां तो सना उस के कहने का उलटा अर्थ भी निकाल सकती थी कि उस के पिता के एहसानों तले दबे होने से ही वह शिराज को उस की नजरों में गिरा कर रशीद से उस का निकाह कराना चाहती है. अपनी बात की सचाई साबित करने के लिए मयूरी के पास कोई पुख्ता सुबूत भी तो नहीं था, कोई फोटो तक न थी. फोटो से उसे ध्यान आया. यहां भले ही उस के पास फोटो न हो पर शादी के समय मां ने किसी से उन दोनों के कुछ फोटोज खिंचवाए थे. वहां से तो मिल ही सकते थे.

यही सब सोचतेसोचते उधेड़बुन में फंसी मयूरी को पता ही न चला कैसे आधा घंटा निकल गया. उस ने पलट कर सना की तरफ देखा. तब तक शिराज जा चुका था और सना उसी की तरफ बढ़ी चली आ रही थी.

दूर से ही लाल डब्बी दिखाती आ रही सना ने पास आ कर डब्बी खोल कर डायमंड रिंग उसे दिखाते हुए बड़ी उम्मीद से उस से पूछा.

‘‘आप ने उन्हें देखा आपा? कैसे लगे?’’

‘‘हां, सूरत को ठीकठाक ही है. अभी सीरत परखनी बाकी है. एक बार और मिलना पड़ेगा,’’ उस की बात का गोलमोल जवाब देती मयूरी उसे असलियत भी तो नहीं समझा सकती थी.

एक जरूरी काम याद आने का बहाना कर के उस ने सना को घर भेज दिया और खुद हैड पोस्टऔफिस पहुंच कर जल्दी से जल्दी लौटती डाक से अपनी शादी के फोटोग्राफ्स भेजने के लिए मां को एक पत्र लिख कर वहीं पोस्ट कर दिया. पता अपने अस्पताल का दे दिया था. पत्र का जवाब आने में कम से कम 8-10 दिन तो लगने ही थे.

वहां से निकल कर वह भारतीय दूतावास के औफिस पहुंची, जहां उस ने अपना पासपोर्ट व वीजा बनवाने के लिए अप्लीकेशन दी हुई थी. भारतीय दूतावास ने भारत में विदेश मंत्रालय के संबंधित अधिकारियों को इस पूरे प्रकरण की जानकारी दे दी थी जिस की उच्चस्तरीय जांच शुरू हो चुकी थी.

भारतीय दूतावास के अधिकारियों के लिए यह काफी सनसनीखेज घटना थी. क्योंकि मयूरी के अनुसार उस का पासपोर्टवीजा आदि 2 दिनों के अंदर ही तैयार हो गया था. जबकि संवैधानिक तरीके से पूरी प्रक्रिया में कम से कम 20-22 दिनों का समय लगता ही है. इस का मतलब उस ने कहीं से नकली पासपोर्ट बनवा कर पूरी यात्रा की थी और वे दोनों कहीं पकड़े भी नहीं गए. यानी कुछ बड़े अधिकारी भी इस घोटाले में कहीं न कहीं शामिल थे. फर्जी पासपोर्ट की कुछ शिकायतें पहले भी आ चुकी थीं. पर कोई पुख्ता सुबूत न होने से मामला लटका रहा. परंतु इस बार मयूरी की तरफ से रिपोर्ट कराते ही पूरा महकमा हरकत में आ गया था.

भारत में विदेश मंत्रालय को इस घोटाले की लिखित खबर मिलने पर सीबीआई को जांच सौंप दी गई. उस ने तुरंत ही देहरादून स्थित उस औफिस के बारे में छानबीन करनी शुरू कर दी. मयूरी की मां से मिल कर भी सीबीआई को अपनी तफ्तीश में काफी जानकारी मिल गई थी. शादी पर खींचे गए फोटोज से उन्हें राहुल की फोटो मिल गई. भारत में काफी जानकारी इकट्ठा कर के सीबीआई ने संबंधित अधिकारियों को पूरी रिपोर्ट भेज दी थी. जो जद्दा में काउंसलेट को स्थानांतरित करा दी गई थी. वहां की पुलिस ने इस की मदद से रैड एलर्ट घोषित करते हुए राहुल की फोटो सब थानों में भेज दी थी ताकि उसे पहचानने व पकड़ने में मदद मिल सके.

इस केस की जांच कर रहे अधिकारी को जब मयूरी ने राहुल की फोटो 8-10 दिनों में भारत से आ जाने की जानकारी दी तो उसे चकित करते हुए उन्होंने पहले ही सीबीआई द्वारा भेजी जा चुकी तसवीर उस के हाथ पर रख दी. इतनी तेजी से इन्क्वायरी होते देख उसे काफी तसल्ली हो गई थी. तभी उस ने राहुल के पकड़े जा सकने की उम्मीद का जिक्र भी कर दिया. सना का नाम बीच में लाए बिना उस ने बताया कि घर में काम करने वाली फरीदन के साथ उस ने राहुल को बाजार में देखा था. वह राहुल के सामने पड़ना नहीं चाहती थी, सो, उस समय कुछ नहीं बोली, पर फरीदन का पता वह कल तक उन्हें दे देगी, उस से राहुल का ठौरठिकाना मिल सकता है.

मयूरी को साथ ले जा कर उन लोगों ने वह भव्य इमारत भी खोज निकाली थी, जहां राहुल उसे छोड़ कर गया था. बिल्ंिडग की शिनाख्त करा के वहां खुफिया पुलिस के आदमी सादी ड्रैस में तैनात कर दिए गए थे, जो उस बंगले में हर आनेजाने वाले की कड़ी निगरानी करते थे.

ये भी पढ़ें- बीच बहस में

घर आ कर मयूरी ने बातोंबातों में फरीदन से उस के घर का पता जान लिया था, जो उस ने फौरन अधिकारियों तक पहुंचा दिया. और उस के घर की निगरानी भी शुरू हो गई थी.

मयूरी ने सना को बिना कुछ बताए उस की तरफ से फरीदन की मारफत शिराज के पास अगले दिन उसी पार्क में आने के लिए मैसेज भिजवाया.

घर पहुंच कर फरीदन मैसेज का पुरजा राहुल को देने के लिए जैसे ही घर से निकली, बुर्कानशीं मयूरी सादे कपड़ों की पुलिस के साथ उस के पीछे चल पड़ी. गली से निकल कर वह एक मकान के सामने जा कर रुकी और दरवाजे की घंटी दबा दी. दरवाजा राहुल ने ही खोला था. फरीदन को देखते ही उसे अंदर कर के दरवाजा फिर बंद हो गया.

मयूरी से उसी के राहुल होने की शिनाख्त करा कर पुलिस वालों ने उस घर को चारों तरफ से घेर लिया. जैसे ही फरीदन ने वापस जाने के लिए कदम बाहर रखा, उसे गिरफ्तार कर लिया गया. साथ ही, कुछ पुलिस वाले धड़धड़ाते हुए अंदर घुस गए. पुलिस को देख राहुल ने भागने की कोशिश की किंतु जल्द ही उसे भी गिरफ्त में ले लिया गया. मकान की तलाशी लेने पर नीचे बने तहखानेनुमा स्टोर में एक युवती छिपी हुई मिली, जिसे मयूरी ने राहुल की बहन सारा के रूप में पहचान लिया, किंतु फरीदन के अनुसार, वह राहुल की प्रेमिका ऐना थी.

इधर इन लोगों की गिरफ्तारी के साथ ही दूसरी टीम ने भव्य इमारत को भी घेर लिया था. और उस के चौकीदार, दरबान व कुछ कर्मचारियों के साथ ही अंदर मौजूद 2 शेखों को भी गिरफ्तार कर लिया गया.

इमारत से बरामद लोगों में पांखी व उस की बेटी को न पा कर मयूरी बेहद परेशान हो उठी. उस ने पांखी की बताई हुई कुछ जानकारियां अधिकारियों को बताईं, जिन के आधार पर उन्होंने पूरी इमारत का चप्पाचप्पा छान मारा, तब एक आदमकद शीशे के पीछे एक चोर दरवाजा मिला, जिस पर ताला पड़ा हुआ था.

ताला तोड़ कर जब दरवाजा खोला गया तो एक पतलासंकरा सा गलियारा अंदर जाता दिखा. कुछ पुलिस वाले उस में से होते हुए अंदर बढ़ने लगे. अंदर चारों तरफ गंदगी व सीलन की बदबू फैली थी. कुछ दूर चलने पर वह गलियारा एक छोटे से कमरे में खुला. वहां बेडि़यों में जकड़ी, कोड़ों की मार से पड़ीं नीलीलाल धारियों वाली जख्म खाई, अर्धबेहोश सी 3 युवतियां बेहद दीनहीन हालात में, ठंडे नंगे फर्श पर पड़ी मिलीं.

कमरे में लोगों ही आहट पा कर उन की आंखों में खौफ की छाया उभर आई थी. पर उन की बेडि़यां खोल, उन के हमदर्द होने का यकीन दिलाते वे लोग एकएक कर के उन्हें किसी तरह सहारा दे कर बाहर लाए. बाहर आते ही उन्होंने खाना व पानी मांगा तो तुरंत ही जूस आदि की व्यवस्था कर के खाना खिलवाया गया. उन्हें तो यह भी याद नहीं था कि कितने दिनों बाद आज उन्हें कुछ खानापीना नसीब हुआ था.

उन्हीं में से एक पांखी थी. उस का सूजा हुआ मुंह व जिस्म पर जगहजगह जलती सिगरेट से दागे जाने के अनगिनत निशान, उस पर हुए क्रूर जुल्मों की दास्तान खुद ही बयान कर रहे थे. उस के कुछ संभलने पर मयूरी उस के गले से लिपट बुदबुदा उठी, ‘‘मुझे माफ कर दो पांखी, मेरे कारण तुम्हें कितनी मुसीबतें झेलनी पड़ी हैं, मुझे माफ कर दो. तुम्हारी बेटी कहां है? यहां हमें कहीं नहीं मिली?’’

‘‘बीमार पड़ गई थी इस गंध से. छुटकारा पा कर दुनिया से चली गई,’’ बुझी हुई आवाज में पांखी धीरे से बुदबुदा उठी.

‘‘ओह, आई एम सौरी. मगर इलाज नहीं कराया?’’

पर तब तक अर्धबेहोश सी पांखी फिर बेहोश हो चुकी थी. एंबुलैंस आते ही तीनों युवतियों को अस्पताल भिजवा कर उन्हें मैडिकल सुविधाएं उपलब्ध कराई गईं.

गिरफ्तार लोगों से पुलिस ने अभिरक्षा में कड़ी पूछताछ शुरू कर दी थी. उन की निशानदेही पर ही भारतीय दूतावास को सूचित कर के देहरादून स्थित उन के औफिस का मैनेजर व उस का सहायक भी तुरंत वहीं गिरफ्तार कर जेल भेज दिए गए और औफिस सीलबंद कर दिया गया. उन पर भारत में ही मुकदमा चलाने की प्रक्रिया शुरू हो गई. अब मयूरी को समझ आ रहा था कि क्यों सारा उस की छुट्टियां इतनी आसानी से सैंक्शन करवा देती थी और जो लड़कियां सारा के बहकावे में नहीं आती थीं, उन से बेहद कठोरता से काम लिया जाता था.

युवतियां बहलानेफुसलाने व बरगला

कर बेचने वालों के रैकेट का

परदाफाश होते ही उन के बचेखुचे साथी भी एक के बाद एक पकड़ लिए गए थे. जिन्हें समय से भनक लग गई वे फरार हो गए थे, परंतु उन की खोजबीन जारी थी. पूरे शहर में यह खबर आग की तरह फैल चुकी थी. अगले दिन के अखबार के मुख्यपृष्ठ की सुर्खियों में यही खबर उन लोगों की फोटो सहित छपी.

तब मयूरी, सना के सामने अखबार रखती हुई बोली, ‘‘अब देख सना, यह है तुम्हारे शिराज उर्फ मेरे राहुल की असलियत. मैं ने कहा था न, अभी सीरत परखनी बाकी है.’’

पूरी खबर पढ़ कर सना पागल सी बैठी रह गई थी. वह शिराज को क्या समझती रही और वह क्या निकला. कहीं वह उस की बातों में आ कर घर से भाग गई होती तो…? अपना संभावित हश्र सोच कर वह मन ही मन कांप उठी. एकाएक उस ने झुक कर मयूरी के पैर पकड़ लिए.

आंसूभरी आंखों से मयूरी को देखती, लरजती आवाज में बोली, ‘‘प्लीज आपा, आप घर में किसी को कुछ न बताइएगा.’’

‘‘पागल हुई है,’’ एक मीठी झिड़की देते मयूरी ने उसे उठा कर अपने पास बैठा लिया.

ये भी पढ़ें- अधिकार

‘‘आप उसे पहले दिन ही पहचान गई थीं न, तभी क्यों नहीं बता दिया?’’

‘‘क्या तब तुम मेरी बात का यकीन करतीं? उलटे, उसी से सवाल करतीं,’’ मयूरी बोली.

‘‘शायद नहीं,’’ कुछ सोचती सी सना बोली.

‘‘बस, इसीलिए नहीं बताया. तब मेरे पास कोई सुबूत नहीं था. पर आज मैं तुम्हें उसी के राहुल होने का सुबूत दिखा सकती हूं,’’ कह कर मयूरी ने पिछले दिन ही पहुंचे अपनी शादी के फोटोग्राफ्स उसे दिखाए, और गौर से चेहरा देखती पूछ बैठी, ‘‘मेरे खयाल में अब तुम्हें बताने की जरूरत तो नहीं कि रशीद के बारे में तुम्हें क्या फैसला लेना है?’’

‘‘बिलकुल नहीं आपा, आप बेफिक्र रहिए. मेरी आंखें खुल गई हैं. अब्बू की जबान ही अब मेरी जिंदगी है.’’

तहखाने से बरामद युवतियों का सरकारी खर्च पर इलाज करा कर उन्हें उन की पसंद की जगह हिफाजत के साथ पहुंचवा दिया गया. पांखी को मयूरी अपने साथ ले आई. अपने भविष्य के प्रति चिंतित, निराश पांखी आत्मग्लानि में डूब गई थी. इतनी जिल्लतभरी जिंदगी जीने के बाद अब वह वापस मांबाप के पास लौटती भी है, तो क्या वे लोग उसे अपना लेंगे? पांखी के लिए यह सवाल था.

लोकलाज के बंधन ग्रामीण पर्वतीय समाज में बहुत अहम भूमिका निभाते हैं. वह वापस जाने के लिए तैयार ही नहीं हो रही थी, ‘‘वापस किस मुंह से जाऊं. मैं तो बहकावे में आ कर घर से भागी थी. मांबाप के लिए तो मैं उसी दिन मर गई होऊंगी. अब वापस जा कर उन की परेशानियां और नहीं बढ़ाना चाहती.’’

‘‘घर से भागी, वह गलती तो तुम ने की ही थी. परंतु अब वापस न लौट कर एक और गलती मत करो. वे लोग तुम्हें बुराभला कहें भी, तो इसे सजा समझ कर सुन लेना. यह दुनिया भूखेभेडि़यों से भरी हुई है.’’

‘‘मुझे यकीन नहीं है कि वे लोग मुझे माफ करेंगे,’’ पांखी सिसकसिसक कर रोने लगी.

तो उसे चुप कराती मयूरी उस के आंसू पोंछती हुई बोली, ‘‘तुम घबराओ नहीं पांखी. मेरी मानो तो एक बार वहां चलो जरूर. कहो तो मैं भी तुम्हारे साथ चलूं, उन्हें समझाने की कोशिश करूंगी. अगर वे तुम्हें अपने साथ रखने को राजी नहीं हुए तो तुम मेरे साथ रहना. मैं सोच लूंगी, मेरी एक नहीं, 2 छोटी बहनें हैं.’’

मयूरी के बहुत समझाने पर पांखी को कुछ ढाढ़स बंधी.

पूरे गिरोह के खिलाफ कई पुख्ता सुबूतों व गवाहियों के आधार पर गिरोह के सदस्यों का जुर्म साबित होते देर नहीं लगी. और सब को जेल की सलाखों के पीछे उम्रकैद में डाल दिया गया

भारत में विदेश मंत्रालय के कुछ अधिकारी नकली पासपोर्ट बनाने के धंधे में शामिल पाए गए थे. वे गैरकानूनी ढंग से विदेश पहुंच चुके लोगों के पासपोर्ट जब्त कर के उन की फोटो के स्थान पर नए व्यक्ति की फोटो लगा कर फेरबदल कर देते थे, फिर वही पासपोर्ट दूसरे को दे दिया जाता था. इतने बड़े घोटाले का परदाफाश होने पर पूरा महकमा अंदर तक हिल गया था. दोषी व्यक्तियों को सस्पैंड कर देने के साथ ही उन के खिलाफ कड़ी से कड़ी कार्यवाही होने की मांग जोर पकड़ने लगी थी. इस बीच, जद्दा में मयूरी व पांखी के पासपोर्ट व वीजा आदि तैयार हो गए थे.

आखिर एक दिन वे दोनों खान चाचा के परिवार से भावभीनी विदाई ले कर, दिल में एकदूसरे की अनगिनत यादें समेटे, वापस इंडिया के लिए आसमान में उड़ चलीं. मयूरी ने शीशे से झांक कर एक आखिरी नजर नीचे डाली तो नीचे फैले विशाल समुद्र का अंतहीन रेतीला तट, सूरज की किरणों में चांदी की चादर सा चमकता नजर आ रहा था. पर आज वह इस मृगमरीचिका से दिग्भ्रमित नहीं हुई, क्योंकि वह इस रेतीली चांदी को खुद परख चुकी थी, जो, जब आंखों के सामने होती है तो मन को लुभाती है, छूनेसहेजने के लिए उद्यत कर देती है. पर उस के पास जाने पर जब वह पांव के नीचे आती है तो लहरों के बहाव के साथ पांव के नीचे से वह भी खिसक जाती है. और यदि वह हाथ में हो, तो मुट्ठी के बीच से फिसल जाती है. पीछे बचता है खाली हाथ.

ये भी पढ़ें- डर

Tags:
COMMENT