‘विश्वासघातवहीं होता है जहां विश्वास होता है,’ यह सुनीसुनाई बात रिया को आज पूरी तरह सच लग रही थी. आधुनिक, सुशिक्षित, मातापिता की इकलौती सुंदर, मेधावी संतान रिया रोरो कर थक चुकी थी. अब वास्तविकता महसूस कर होश आया तो किसी तरह चैन नहीं आ रहा था. अपने मातापिता विक्रम और मालती से वह अपना सारा दुख छिपा गई थी. तनमन की सारी पीड़ा खुद अकेले सहन करने की कोशिश कर रही थी. पिछले महीने ही विक्रम को हार्टअटैक हुआ था. रिया अब अपने मातापिता को 15 दिन पहले अपने साथ हुए हादसे के बारे में बता कर दुख नहीं पहुंचाना चाहती थी.

रात के 2 बज रहे थे. आजकल उसे नींद नहीं आ रही थी. रातभर अपने कमरे में सुबकती, फुफकारती घूमती रहती थी. बारबार वह काला दिन याद आता जब वह संडे को अपनी बचपन की सहेली सुमन के घर एक बुक वापस करने गई थी.

रिया को बाद में अपनी गलती का एहसास हुआ था कि उसे सुमन से फोन पर बात करने के बाद ही उस के घर जाना चाहिए था. पर कितनी ही बार दोनों एकदूसरे के घर ऐसे ही आतीजाती रहती थीं. सहारनपुर में पास की गलियों में ही दोनों के घर थे. स्कूल से कालेज तक का साथ चला आ रहा था. सुमन से 2 साल बड़े भाई रजत को रिया भी बचपन से भैया ही बोलती आ रही थी. उस दिन जब वह सुमन के घर गई तो दरवाजा रजत ने ही खोला. वह सुमनसुमन करती अंदर चली गई. उस के घर के अंदर जाते ही रजत ने मेन गेट बंद कर ड्राइंगरूम का दरवाजा भी लौक कर लिया.

रिया ने पूछा, ‘‘सुमन कहां है, भैया?’’

रजत उसे घूर कर देखता हुआ मुसकराया, ‘‘सब शौपिंग पर गए हैं… घर पर कोई नहीं है.’’

‘‘ओह, आप ने बाहर बताया ही नहीं, चलती हूं. फिर आऊंगी.’’

रजत ने आगे बढ़ कर उसे बांहों में भर लिया, ‘‘चली जाना, जल्दी क्या है?’’

रिया को करंट सा लगा, ‘‘भैया, यह क्या हरकत है?’’

‘‘यह हरकत तो मैं कई सालों से करना चाह रहा था, पर मौका ही नहीं मिला रहा था.’’

‘‘भैया, शर्म कीजिए.’’

‘‘यह भैयाभैया मत करो…भाई नहीं हूं मैं तुम्हारा, सम4ां?’’

रिया को एहसास हो गया कि वह खतरे में है. उस ने अपनी जींस की जेब से मोबाइल फोन निकालने की कोशिश की तो रजत ने उसे छीन कर दूर फेंक दिया और फिर उसे जबरदस्ती उठा कर अपने बैडरूम में ले गया. रिया ने बहुत हाथपैर मारे, रोईगिड़गिड़ाई पर रजत की हैवानियत से खुद को नहीं बचा पाई. बैड पर रोतीचिल्लाती रह गई.

रजत ने धूर्ततापूर्वक कहा, ‘‘मैं बाहर जा रहा हूं, तुम भी अपने घर चली जाओ, किसी से कुछ कहने की बेवकूफी मत करना वरना मैं सारा इलजाम तुम पर ही लगा दूंगा… वैसे भी तुम इतनी मौडर्न फैमिली से हो और हम परंपरावादी परिवार से हैं, सब जानते हैं… कोई तुम पर यकीन नहीं करेगा. चलो, अब अपने घर जाओ. और रजत कमरे में चला गया.

रिया को अपनी बरबादी पर यकीन ही नहीं हो रहा था. जोरजोर से रोए जा रही थी. फिर अपने अस्तव्यस्त कपड़े संभाले और बेहद टूटेथके कदमों से अपने घर चली गई.

दोपहर का समय था. विक्रम और मालती दोनों सो रहे थे. रिया चुपचाप अपने कमरे में जा कर औंधे मुंह पड़ी रोतीसिसकती रही.

शाम हो गई. मालती उस के कमरे में आईं तो वह सोई हुई होने का नाटक कर

चुपचाप लेटी रही. एक कयामत सी थी जो उस पर गुजर गई थी. तनमन सबकुछ टूटा व बिखरा हुआ था. रात को वह अपने मम्मीपापा के कहने पर बड़ी मुश्किल से खुद को संभाल कर उठी. थोड़ा सा खाना खाया, फिर सिरदर्द बता कर जल्दी सोने चली गई.

बारबार उस का मन हो रहा था कि वह अपने मम्मीपापा को अपने साथ हुए हादसे के बारे में बता दे पर डाक्टर ने उस के पापा विक्रम को किसी भी टैंशन से दूर रहने के लिए कहा था. मां मालती को बताती तो वे शायद पापा से छिपा न पाएंगी, यह सोच कर रिया चुप रह गई थी. अगले दिन सुमन कालेज साथ चलने के लिए आई तो रिया ने खराब तबीयत का बहाना बना दिया. वह अभी कहां संभाल पा रही थी खुद को.

रिया मन ही मन कु्रद्ध नागिन की तरह फुफकार रही थी. उसे रजत की यह बात तो सच लगी थी कि समाज की दूषित सोच उसे ही अपराधी ठहरा देगी. वैसे भी उस के परिवार की आधुनिक सोच आसपास के रहने वालों को खलती थी. विक्रम और मालती दोनों एक कालेज में प्रोफैसर थे. आंखें बंद कर के न किसी रीतिरिवाज का पालन करते थे, न किसी धार्मिक आडंबर का उन के जीवन में कोई स्थान था. 3 लोगों का परिवार मेहनत, ईमानदारी और अच्छी सोच ले कर ही चलता था. रिया को उन्होंने बहुत नए, आधुनिक, सकारात्मक व साहसी विचारों के साथ पाला था.

रिया मन ही मन खुद को तैयार कर रही थी कि वह अपने साथ हुए रेप के अपराधी को ऐसे नहीं छोड़ेगी. वह अपने हिसाब से उस अपराधी को ऐसी सजा जरूर देगी कि उस के जलते दिल को कुछ चैन आए. मगर क्या और कैसी सजा दे, यह सोच नहीं पा रही थी. कभी अपनी बेबसी पर तड़प कर रो उठती थी, तो कभी अपना मनोबल ऊंचा रखने के लिए सौ जतन करती थी.

रजत को सबक सिखाने के रातदिन उपाय सोच रहती थी. कभी मन होता कि रजत को इतना मारे कि उस के हाथपैर तोड़ कर रख दे पर शरीर से कहां एक मजबूत जवान लड़के से निबट सकती थी. फिर अचानक इस विचार ने सिर उठाया कि क्यों नहीं निबट सकती? आजकल तो हमारे देश की लड़कियां लड़कों को पहलवानी में मात दे रही हैं. फिर पिछले दिनों देखी ‘सुलतान’ मूवी याद आ गई. क्यों? वह क्यों नहीं शारीरिक रूप से इतनी मजबूत हो सकती कि अपने अपराधी को मारपीट कर अधमरा कर दे. हां, मैं हिम्मत नहीं हारूंगी.

मैं कोई सदियों पुरानी कमजोर लड़की नहीं कि सारी उम्र यह जहर अकेली ही पीती रहूंगी. रजत को उस के किए की सजा मैं जरूर दूंगी. यह एक फैसला क्या किया कि हिम्मत से भर उठी. शीशे में खुद को देखा. उस दिन के बाद आज पहली बार किसी बात पर दिल से मुसकराई थी. उस रात बहुत दिनों बाद आराम से सोई थी.

सुबह डाइनिंगटेबल पर उसे हंसतेबोलते देख विक्रम और मालती भी खुश हुए. विक्रम ने कहा भी, ‘‘आज बहुत दिनों बाद मेरी बच्ची खुश दिख रही है.’’

‘‘हां पापा, कालेज के काम थे…एक प्रोजैक्ट चल रहा था.’’

आगे पढ़ें- रिया अपने नए प्रोजैक्ट की तैयारी कर चुकी थी…

Tags:
COMMENT