पहला भाग पढ़ने के लिए- शीतल फुहार भाग-1

कहानी- वंदना आर्य

दिव्या चुपचाप गांव लौट आई थी. संदीप दिव्या से जबतब मिलने की कोशिश करता लेकिन वह जबजब उस से बात करने की कोशिश करता वह कतरा कर निकल जाती. एक ऐसी ही शाम वह नीम के पेड़ के साए तले पड़े झूले पर बैठी थी. गोद में मुन्नी थी. लंबे घने बाल खुले थे. धीरेधीरे कुछ गुनगुना रही थी.

‘‘यों सरेआम पेड़ के नीचे बाल खोल कर नहीं बैठते, जिन्न आशिक हो जाते हैं,’’ पीछे से आवाज आई तो वह चौंक कर चीख पड़ी. झूले से अचकचा कर उठी तो मुन्नी भी रोने लगी. संदीप तो हवा में लहराते बाल देखता रह गया, जैसे काली घटा ने चांद को घेर रखा हो. मुन्नी को थपकती हुई दिव्या भीतर जाने को मुड़ी. जातेजाते एक नाराजगीभरी नजर संदीप पर डाली तो उसे एहसास हुआ कि वह एकटक उसे घूरे जा रहा था.

‘‘मैडमजी, मैं मुन्नी को लेने आया था,’’ वह उस के पीछे लपका. दिव्या रुक गई. ‘‘मैं कुछ देर में खुद ही उसे छोड़ आऊंगी,’’ और फिर वह अंदर चली गई. संदीप हिलते परदे को देखता रह गया. मन ही मन शर्मिंदा हुआ. वह शरीफ बंदा था पर दिव्या के सामने न जाने क्यों दिल और आंखें बेकाबू हो जाते थे और वह नाराज हो जाती थी.

एक रोज वह सुबह स्कूल के लिए निकल ही रही थी कि कार का हौर्न सुनाई दिया. बाहर निकली तो कार में दीपू और मुन्नी बैठे थे. ‘‘मैडम, आइए न, आज हम कार से जाएंगे.’’ दोनों जिद करने लगे तो उसे बैठना ही पड़ा.

‘‘मैडम आज आप ने रैड साड़ी पहनी है न, तो आप के लिए यह रैड गुलाब.’’ मुन्नी ने उस की ओर एक गुलाब बढ़ाया, फिर दीपू ने भी. आखिर में खामोशी से एक गुलाब ड्राइविंग सीट पर बैठे संदीप ने भी बढ़ाया. कुछ सोच कर उस ने थाम लिया. संदीप ने खुश हो कर गाड़ी स्टार्ट की. दिव्या यह समझी कि उस शाम के लिए सौरी कहने का तरीका है शायद.

स्कूल में साथी टीचर्स उसे देख कर मुसकराईं. ‘‘क्यों भई, इतने गुलाब किस ने दे दिए सुबहसुबह?’’ वह कुछ जवाब देती, इस से पहले ही मोबाइल पर एसएमएस आया, ‘हैप्पी वेलैंटाइन डे, संदीप.’ वह कुढ़ कर रह गई. पर जाने क्यों एक मुसकान भी होंठों पर आ गई. सारे दिन वह अनमनी सी रही. खुद से ही सवाल करती. क्या पुराने जख्म भर गए हैं? क्या वह फिर नए फरेब के लिए तैयार है? क्या वह कठोरता का खोल चढ़ाएचढ़ाए थक चुकी है? इतनी सावधानी के बाद भी क्या कोई झरोखा खुला रह गया है मन का?

इस तरह के सवाल उस के मन में उमड़तेघुमड़ते रहे. शाम को यों ही अनमनी सी छत पर खड़ी थी कि मीरा भाभी वहीं चली आईं. ‘‘दिव्या, तुम तो हमें भूल ही गईं. घर क्यों नहीं आती हो? क्या तबीयत खराब है?’’

ये भी पढें- विध्वंस के अवशेष से- क्या ईला का गुस्सा कम हो पाया

‘‘नहीं भाभी, ऐसी बात नहीं है. बस, थोड़ा थक जाती हूं. आप रुकिए न. मैं चाय बना लाती हूं,’’ दिव्या बोली. ‘‘चाय के लिए मैं काकी को कह कर आई हूं. एक खास बात करने आई थी,’’ मीरा ने आगे बढ़ कर उस के दोनों हाथ थाम लिए.

‘‘दिव्या, जो बीत गया उसे भुला कर नई जिंदगी शुरू करो. संदीप तुम्हें बहुत खुश रखेगा. वह बहुत प्यार करता है तुम से, शादी करना चाहता है,’’ मीरा ने कहा. दिव्या ने धीरे से हाथ छुड़ा लिए. जाने क्यों मन भर आया और आवाज गले में फंस गई. बचपन से जिस बंधन में बंधी थी वह कैसे एक पल में टूट गया और कोई दूसरा इंसान कैसे उसे हाथ बढ़ा कर मांग रहा है, सबकुछ जानते हुए भी. वह तो अनाथ है, कौन है जो उस के लिए रिश्ते ढूंढ़ रहा हो. पर जाने कैसी वीरानी सी मन में छा गई है. खुशियों से डर सा लगता है.

‘‘भाभी, मैं शादी नहीं करना चाहती. तुम्हारा भाई तो यों ही मनचला सा है. तुम्हीं ने शादी की बात की होगी. मैं जानती हूं तुम्हें मुझ से प्यार है, हमदर्दी है,’’ कहतेकहते वह पलटी तो मीरा के पीछे खड़े संदीप को देख कर चुप हो गई. मीरा चाय लाने के बहाने नीचे चली गई. वह भी सीढि़यों की तरफ बढ़ी, तभी संदीप ने उस की कलाई थाम ली.

एक सरसराहट सी खून के साथ दिव्या के सारे शरीर में दौड़ गई. ‘‘छोडि़ए मेरा हाथ,’’ उस ने कमजोर सी आवाज में कहा.

‘‘दिव्या, मेरी तरफ देखो. क्या तुम पहली नजर के प्यार पर विश्वास करती हो? मैं पहले नहीं करता था पर जब तुम्हें पहली बार देखा तो यकीन आ गया. दिल ने तुम्हें देखते ही कहा कि तुम मेरी हो. तुम्हारे सामने आ कर खुशी के मारे मेरा दिल बावला हो जाता और मैं हमेशा ही ऐसी हरकत कर बैठता कि तुम नाराज हो जातीं. मुझ पर यकीन करो दिव्या, मैं तुम्हारे सुखदुख सभी के साथ तुम्हें अपनाऊंगा और अब कभी भी तुम्हारी आंखों में आंसू न आएंगे, यह वादा रहा.’’ संदीप ने अब उस का हाथ छोड़ दिया था. अपनी बेतरतीब धड़कनों को समेटती वह तुरंत वहां से चली गई.

रातभर वह करवटें बदलती रही. अनुज ही वह शख्स था जिस के साथ उस ने कभी खुशहाल जीवन के ख्वाब देखे थे. शुरूशुरू में अनुज गांव आता तो उस से मिलने आ जाता था. दिव्या की सुंदरता उसे अपनी तरफ खींचती थी. कभी घूमने को कहता तो दिव्या अकेली साथ न जाती, न ही वह खुल कर हंसतीबोलती, न अकेले में मिलती. एकाध बार अनुज ने उसे अपने निकट करना चाहा तो वह बिदक कर भाग निकलती. हाथ पकड़ता तो शर्म से लाल हो जाती. वह बोलता जाता और वह हांहूं करती.

धीरेधीरे अनुज उस पत्थर की गुडि़या से ऊब गया था, फिर तो गांव आ कर भी उस से नहीं मिलता. वह उस की झलक पाने को तरस जाती. शहर में भी वह उस की उपेक्षा ही झेलती रही थी. अचानक ये संदीप कहां से आ गया. हरदम उस के पीछे, मुग्ध नजरों से उसे निहारता हुआ, उस की झलक पाने को बेताब.

उस की आंखों में झलकते प्यार को एक नारी होने के नाते वह साफ देखती थी. पर अब रिश्तों के छलावे से डर लगता था. क्या करे, ऐसे में मातापिता की याद आती पर क्या कर सकते थे. रोतेरोते सिर भारी हो गया. सवेरे तक बुखार में तप रही थी.

खबर पाते ही मीरा दौड़ी आई. उसे जबरदस्ती चाय और ब्रैड खिलाई. फिर माथे पर ठंडी पट्टियां रखती रही. कुछ ही देर में संदीप डाक्टर को ले कर चला आया. डाक्टर ने बुखार चैक कर के दवा दी. मीरा खाना बनाने किचन में चली गई.

संदीप ने उसे गोली और पानी का गिलास थमाया. ‘‘मैडमजी, आप तो बहुत नाजुक हैं, भई, हाथ पकड़ा तो बुखार आ गया. पता नहीं…’’

दिव्या ने उसे घूर कर देखा तो उस ने दोनों कान पकड़ लिए. दिव्या ने लेट कर आंखें मूंद लीं. संदीप माथे की पट्टियां बदलता रहा.

दूसरे दिन दिव्या का बुखार उतर गया, पर कमजोरी महसूस हो रही थी. वह लौन में धूप में बैठी थी, जब दीपू मुन्नी चले आए. ‘‘मैडमजी, आप ठीक हो गईं.’’ दोनों उस के लिए गुलाब के फूल लाए थे. उस ने फूल थामे तो कुछ याद आया. ‘‘ये फूल तुम्हें किस ने दिए हैं?’’ तभी प्रश्न का उत्तर सशरीर हाजिर हो गया. उस के हाथों में सुर्ख गुलाबों का गुलदस्ता था. ‘‘मैडमजी, आप के स्वस्थ होने पर,’’ उस ने हाथ बढ़ाया. ‘जाने इस आदमी की मुसकराहट इतनी शरारतभरी क्यों हैं?’ दिव्या सोचने लगी.

‘‘थैंक्यू, आप ने मेरा इतना ध्यान रखा,’’ दिव्या बोली.

‘‘मैं ने आप का नहीं, अपनी जान का ध्यान रखा, समझीं मैडमजी.’’ अब तो दिव्या का वहां रुकना मुश्किल हो गया.

गांव में मेला लगा था. बच्चे दिव्या से बड़े झूले (पवन चक्के) में बैठने की जिद कर रहे थे. पर वह ठहरी सदा की डरपोक. आखिर मां के साथ बैठ गए. एक ही सीट खाली थी. दूर खड़ी दिव्या का ध्यान कहीं और था. तभी किसी ने उस का हाथ पकड़ा और ले जा कर झूले पर साथ बैठा लिया. दिव्या पानी में बहते तिनके सी उड़ती चली गई जैसे खुद पर उस का अपना वश न हो.

घर्रघर्र की कर्कश आवाज के साथ झूला ऊपरनीचे जाना शुरू हुआ तो दिव्या जैसे स्वप्न से जागी. अब उसे भान हुआ कि वह कहां बैठी है. उस ने संदीप का बाजू दोनों हाथों से दबोच लिया और डर के मारे मुंह से एक चीख निकल गई. संदीप ने उसे थपथपाया और उस के कंधे के चारों ओर बाजू डाल उसे करीब किया. दिव्या का सिर उस के कंधे पर था.

‘‘आई लव यू, दिव्या,’’ दिव्या के कानों में जैसे शीतल फुहारें पड़ी हों. ‘‘आई लव यू टू,’’ उस के नाजुक लब हिले. बाकी के स्वर झूले और झूलने वालों के शोरगुल में खो गए.

ये भी पढ़ें- एक बार फिर

Tags:
COMMENT