पेरिस की क्रिस्टोफर से मेरी मुलाकात बनारस के अस्सी घाट पर हुई. उम्र यही कोई 25 वर्ष के आसपास  की होगी. वह बनारस में एक शोधकार्य के सिलसिले में बीचबीच में आती रहती थी. मैं अकसर शाम को स्कैचिंग के लिए जाता था. खुले विचारों की क्रिस्टोफर ने एक दिन मु झे स्कैचिंग करते देख लिया. दरअसल, मैं उसी की स्कैचिंग कर रहा था. वह घाट पर बैठे गंगा की लहरों को निहार रही थी. उस के चेहरे की निश्च्छलता और सादगी में एक ऐसी कशिश थी जिस से मैं खुद को स्कैचिंग करने से रोक नहीं पाया. इस दरम्यान बारबार मेरी नजर उस पर जाती. उस ने देख लिया. उठ कर मेरे पास आई. स्कैचिंग करते देख कर मुसकराई. उस समय तो वह कुछ ज्यादा ही खुश हो गई जब उसे पता चला कि यह उसी की तसवीर है. ‘‘वाओ, यू आर ए गुड आर्टिस्ट,’’ तसवीर देख कर वह बहुत प्रसन्न थी.

‘‘आप को पसंद आई?’’

‘‘हां, बहुत सुंदर है.’’

यह जान कर मु झे खुशी हुई कि उसे थोड़ीबहुत हिंदी भी आती थी. भेंटस्वरूप मैं ने उसे वह स्कैच दे दिया. यहीं से हमारे बीच मिलनेजुलने का सिलसिला चला, जो बाद में प्रगाढ़ प्रेम में तबदील हो गया. वह एक लौज में रहती थी. घरवालों के विरोध के बावजूद मैं ने उसे अपने घर में रहने के लिए जगह दी. जिस के लिए वह सहर्ष तैयार हो गई. अब उस से क्या किराया लिया जाए. जिस से प्रेम हो उस से किराया लेना क्या उचित होगा. मैं तो उस पर इस कदर आसक्त था कि उस से शादी तक का मन बना लिया था.

क्रिस्टोफर को इस शहर की सांस्कृतिक विरासत की बहुत ज्यादा जानकारी नहीं थी, जो उस के शोधकार्य का हिस्सा थी. मैं ने उस की मदद की. अपनी क्लास छोड़ कर उस के साथ मैं मंदिरों, घाटों, गलियों तथा ऐतिहासिक स्थलों पर जाता. कई नामचीन संगीत कलाकारों से मिलवाया मैं ने उसे.

रात 8 बजे से पहले हम घर नहीं आते. उस के बाद मैं उस के कमरे में रात 11 बजे तक इधरउधर की बातें करता. उसे छोड़ने का नाम ही नहीं लेता. जी करता क्रिस्टोफर को हर वक्त निहारता रहूं. बेमन से अपने कमरे में आता. फिर अपने प्रेम के मीठे एहसास के साथ सो जाता.

ये भी पढ़ें- सैलिब्रेशन: भाग 4

एक रात मु झे नींद नहीं आ रही थी. क्रिस्टोफर को ले कर मन बेचैन था. घड़ी देखी रात के 1 बज रहे थे. मैं आहिस्ता से उठा. दबेपांव ऊपर क्रिस्टोफर के कमरे में आया. खिड़की से  झांका. वह कुछ लिख रही थी. इतनी रात तक वह जाग रही थी. यह देख कर मु झे आश्चर्य हुआ. मेरे आने की उसे आहट नहीं हुई. मैं ने धीरे से कहा, ‘‘क्रिस्टोफर.’’ उस ने नजर मेरी तरफ उठाई. उस समय वह गाउन पहने हुई थी. उस का गुलाबी बदन पूर्णिमा की चांद की तरह खिला हुआ था. जैसे ही उस ने दरवाजे की चिटकनी हटाई, मैं तेजी से चल कर कमरे में घुसा. दरवाजा अंदर से बंद कर उसे अपनी बांहों में भर लिया. वह थोड़ी सी असहज हुई, फिर सामान्य हो गई. उस रात हमारे बीच कुछ भी वर्जित नहीं रहा. खुले विचारों की क्रिस्टोफर के लिए संबंध कोई माने नहीं रखते. ऐसा मेरा अनुमान था. मगर मेरे लिए थे. जाहिर है वह मेरे लिए पत्नी का दर्जा रखने लगी थी. सिर्फ सात फेरों की जरूरत थी या फिर अदालती मुहर. मैं उस पर इस कदर फिदा था कि उस के बगैर जीने की कल्पना भी नहीं कर सकता था.

एक दिन क्रिस्टोफर ने मु झ से नैनीताल चलने के लिए कहा. भला मु झे क्या एतराज हो सकता था. घरवाले मेरे तौरतरीकों को ले कर आपत्ति जता रहे थे, मगर मैं उन्हें यह सम झाने में सफल हो गया कि पेरिस के कलाकारों की बड़ी कद्र है. उस की मदद से मैं एक ख्यातिप्राप्त चित्रकार के रूप में स्थापित हो सकता हूं. उन्होंने हमारे रिश्ते को बेमन से मंजूरी दे दी.

2 दिन नैनीताल में रहने के बाद हम दोनों कौसानी घूमने आए. गांधी आश्रम के चबूतरे पर बैठे. हम दोनों पहाड़ों की खूबसूरत वादियों को निहार रहे थे. क्रिस्टोफर को अपनी बांहों में भर कर मैं रोमांचित था. उन्मुक्त वातावरण पा कर मानो मेरे प्रेम को पर लग गए. कब शाम ढल गई, पता ही नहीं चला. वापस होटल पर आया. कौफी की चुस्कियों के बीच क्रिस्टोफर का मोबाइल बजा. वह बाहर मोबाइल ले जा कर बातें करने लगी. तब तक कौफी ठंडी हो चुकी थी. मैं ने वेटर से दूसरी कौफी लाने को कहा. ‘‘किस का फोन था?’’ मैं ने पूछा.

‘‘मौम का.’’

‘‘क्रिस्टोफर, मैं ने आज तक तुम्हारे परिवार के बारे में कुछ नहीं पूछा. क्या तुम बताओगी कि तुम्हारे मांबाप क्या करते हैं?’’

‘‘फादर मोटर मैकेनिक हैं. मौम एक अस्पताल में नर्स हैं. 5 साल की थी जब मेरे फादर से मेरी मां का तलाक हो गया. ये मेरे सौतले फादर हैं. मैं अपने फादर को बहुत चाहती थी,’’ कह कर वह उदास हो गई.

‘‘तलाक की वजह?’’

‘‘हमारे यहां जब तक प्यार की कशिश रहती है तभी तक रिश्ते निभाए जाते हैं. तुम लोगों की तरह नहीं कि हर हाल में साथ रहना ही है. मेरे फादर मेरी मौम से बोर हो गए, उन का लगाव दूसरी औरत की तरफ हो गया. वहीं मौम, फादर के ही एक दोस्त से शादी कर के अलग हो गईं.’’

‘‘इसे तुम किस रूप में देखती हो? क्या तुम ने चाहा कि तुम्हारे मांबाप तुम से अलग हों?’’

कुछ सोच कर क्रिस्टोफर बोली, ‘‘शायद नहीं.’’

ये भी पढ़ें- गलतफहमी भाग-1

‘‘शायद क्यों?’’ मैं ने पूछा.

‘‘शायद इसलिए कि एक बेटी के रूप में मैं कभी नहीं चाहूंगी कि मु झे मेरे फादर के प्यार से वंचित रहना पड़े. मगर…’’ कह कर वह चुप हो गई.

‘‘बोलो, तुम चुप क्यों हो गईं,’’ मैं अधीर हो गया.

आगे पढ़ें- प्यार नहीं तो साथ रहने की क्या तुक?

Tags:
COMMENT