स्वामी उमाशंकर ने पाखंड का ऐसा खेल खेला कि शालिनी कुछ सोचतीसमझती उस से पहले वह लुट चुकी थी.
'गृहशोभा' पर आप पढ़ सकते हैं 10 आर्टिकल बिलकुल फ्री , अनलिमिटेड पढ़ने के लिए Subscribe Now
The Planet