प्रेम को परिभाषित तो नहीं किया जा सकता लेकिन जब किसी से हो जाता है तो वह उसी तरफ खिंचा चला जाता है. बेशक, वह प्यार मिले या न मिले.
अनलिमिटेड कहानियां आर्टिकल पढ़ने के लिए आज ही सब्सक्राइब करेंSubscribe Now