हिंदुस्तान में कर्फ्यू की खबर टीवी पर देख कर मैं ने अपने मातापिता को फोन किया और उन की खैरियत पूछते हुए कहा, ‘‘पापा, आखिर हुआ क्या है, कर्फ्यू क्यों?’’

पापा बोले, ‘‘क्या होना है, वही हिंदूमुसलिम दंगे. हजारों लोग मारे गए, इसलिए घर से बाहर न निकलने की हिदायत दी गई है.’’

मैं मन ही मन सोचने लगी भारत व पाकिस्तान को अलग हुए कितने वर्ष हो गए लेकिन ये दंगे न जाने कब खत्म होंगे. क्यों धर्म की दीवार दोनों मुल्कों के बीच खड़ी है. और बस, यही सोचते हुए मैं 8 वर्ष पीछे चली गई. जब मैं पहली बार सिडनी आई थी और वहां लगे एक कर्फ्यू में फंसी थी. पापा अपने किसी सैमिनार के सिलसिले में सिडनी आने वाले थे और मेरे जिद करने पर उन्होंने 2 दिन की जगह 7 दिन का प्लान बनाया और मम्मी व मुझे भी साथ में सिडनी घुमाने ले कर आए. उस प्लान के मुताबिक, पापा के 2 दिन के सैमिनार से पहले हम 5 दिन पापा के साथ सिडनी घूमने वाले थे और बाकी के 2 दिन अकेले. मुझे अच्छी तरह याद है उस समय मैं कालेज में पढ़ रही थी और जब मैं ने सिडनी की जमीन पर कदम रखा तो हजारों सपने मेरी आंखों में समाए थे. मेरी मम्मी पूरी तरह से शाकाहारी हैं, यहां तक कि वे उन रैस्टोरैंट्स में भी नहीं जातीं जहां मांसाहारी खाना बनता है. जबकि वहां ज्यादातर रैस्टोरैंट्स मांसाहारी भोजन सर्व करते हैं.

विदेश में यह एक बड़ी समस्या है. इसलिए पापा ने एअर बीएनबी के मारफत वहां रहने के लिए न्यू टाउन में एक फ्लैट की व्यवस्था की थी. सिडनी में बहुत से मकानमालिक अपने घर का कुछ हिस्सा इसी तरह किराए पर दे देते हैं जिस में सुसज्जित रसोई, बाथरूम और कमरे होते हैं. ताकि लोग वहां अपने घर की तरह रह सकें. एअरपोर्ट से घर जाते समय रास्ते को देख मैं समझ गई थी कि सिडनी एक साफसुथरा और डैवलप्ड शहर है. एक दिन हम ने जेटलेग के बाद आराम करने में गुजारा और अगले दिन ही निकल पड़े डार्लिंग हार्बर के लिए, जो कि सिडनी का मुख्य आकर्षण केंद्र है. समुद्र के किनारेकिनारे और पास में वहां देखने लायक कई जगहें हैं. जनवरी का महीना था और उन दिनों वहां बड़े दिनों की छुट्टियां थीं. सो, डार्लिंग हार्बर पर घूमने वालों का हुजूम जमा था. फिर भी व्यवस्था बहुत अच्छी थी. हम ने वहां ‘सी लाइफ’ के टिकट लिए और अंदर गए. यह एक अंडरवाटर किंग्डम है, जिस में विभिन्न प्रकार के समुद्री जीवों का एक्वेरियम है. छोटीबड़ी विभिन्न प्रजातियों की मछलियां जैसे औक्टोपस, शार्क, वाइट रीफ, पोलर बेयर, सी लायन और पैंगुइन और न जाने क्याक्या हैं वहां. सभी को बड़ेबड़े हालनुमा टैंकों में कांच की दीवारों में बंद कर के रखा गया है. देखने वालों को आभास होता है जैसे समुद्र के अंदर बनी किसी सुरंग में भ्रमण कर रहे हों. खास बात यह कि दुलर्भ प्रजाति मैमल डगोंग भी वहां मौजूद थी जिसे ‘सी पिग’ के नाम से भी जाना जाता है.

आगे की कहानी पढ़ने के लिए सब्सक्राइब करें

गृहशोभा डिजिटल

डिजिटल प्लान

USD4USD2
1 महीना (डिजिटल)
  • 2000 से ज्यादा कहानियां
  • ‘कोरोना वायरस’ से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • हेल्थ और लाइफ स्टाइल के 3000 से ज्यादा टिप्स
  • ‘गृहशोभा’ मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • 2000 से ज्यादा ब्यूटी टिप्स
  • 1000 से भी ज्यादा टेस्टी फूड रेसिपी
सब्सक्राइब करें

डिजिटल प्लान

USD48USD10
12 महीने (डिजिटल)
  • 2000 से ज्यादा कहानियां
  • ‘कोरोना वायरस’ से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • हेल्थ और लाइफ स्टाइल के 3000 से ज्यादा टिप्स
  • ‘गृहशोभा’ मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • 2000 से ज्यादा ब्यूटी टिप्स
  • 1000 से भी ज्यादा टेस्टी फूड रेसिपी
सब्सक्राइब करें

प्रिंट + डिजिटल प्लान

USD100USD79
12 महीने (24 प्रिंट मैगजीन+डिजिटल)
  • 2000 से ज्यादा कहानियां
  • ‘कोरोना वायरस’ से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • हेल्थ और लाइफ स्टाइल के 3000 से ज्यादा टिप्स
  • ‘गृहशोभा’ मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • 2000 से ज्यादा ब्यूटी टिप्स
  • 1000 से भी ज्यादा टेस्टी फूड रेसिपी
सब्सक्राइब करें
और कहानियां पढ़ने के लिए क्लिक करें...