भाग्या के घर में उस की शादी की बातें हो रही थीं. उस के पापा राज ने अपने समाज के कुछ लड़के देखे थे. बात आगे बढ़ाने से पहले उन्होंने भाग्या से कहा, ‘‘यदि तुम्हें कोई लड़का पसंद हो तो बता दो, हम उस से मिल कर तुम्हारी शादी करवा देंगे.’’

जवाब में भाग्या ने घरवालों की बात पर अपनी मोहर लगाते हुए कहा, ‘‘पापा, कोई नहीं है. आप को जैसा ठीक लगे, मु झे मंजूर है.’’

‘‘ठीक है, फिर मैं लड़के वालों से बात कर के मिलने की तारीख तय कर देता हूं. आपस में तुम लोग एकदूसरे से मिल लो, फिर बात आगे बढ़ेगी.’’

घर पर शादी की तैयारियां शुरू हो गईं. इधर भाग्या भी अपने काम में व्यस्त थी. समय पंख लगा कर उड़ रहा था. 2 दिनों बाद लड़के वालों से मिलने सब दूसरे शहर जाने वाले थे. आज सुबह भाग्या ने अपना बैग पैक किया व औफिस जाने के लिए जैसे ही बाहर निकली कि उस की मां मोना ने उसे आवाज दी, ‘‘भाग्या, आज अपने औफिस में छुट्टी की बात कर लेना, हमें परसों निकलना है.’’ भाग्या ने बिना पलटे ही, ‘‘ठीक है मां,’’ कहा और तेजी से घर से बाहर निकल गई.

रात के 9 बज चुके थे. सब के घर आने का समय हो गया था. मोना भोजन तैयार कर सब के घर आने की राह देख रही थी. भाग्या अभी तक घर नहीं आई तो मोना कुछ चिंतित सी हो गईं. साधारणतया वह 9 बजे तक आ जाती थी. 9.30 बज गए थे. राज भी घर पर आ गए. मोना को घर पर अकेली परेशान देख कर राज ने पूछा, ‘‘भाग्या अभी तक नहीं आई? क्या बात है?’’ मोना ने पलट कर कहा, ‘‘हां, आती होगी. आजकल काम ज्यादा है इसलिए जल्दी जाती है और देरी से घर आती है. मैं फोन लगा कर पूछती हूं कि कहां है.’’

ये भी पढ़ें- Valentine’s Day Special: बसंत का नीलाभ आसमान

उन्होंने भाग्या को फोन लगाया. घंटी जा रही थी किंतु उस ने फोन नहीं उठाया. सब परेशान हो रहे थे. समय गुजर रहा था. 10 बजे तक भाग्या घर नहीं आई तो राज ने कहा, ‘‘मैं देख कर आता हूं. चल संजू.’’ संजू भाग्या का छोटा भाई था. राज ने जैसे ही घर के बाहर कदम रखा कि मोना के फोन की घंटी बजी. मोना ने वहीं से आवाज दे कर कहा, ‘‘रुको, भाग्या का फोन है.’’ आवाज दे कर मोना ने फोन उठाया, ‘‘कब से तु झे फोन कर रहे हैं, उठा भी नहीं रही है, सब ठीक है न? कहां है, कब तक आएगी? सब परेशान हैं.’’ लेकिन भाग्या ने मोना की बात बीच में काट कर कहा, ‘‘मां, मेरी चिंता मत करो. मैं ठीक हूं. मैं ने शादी कर ली है. मु झे ढूंढ़ने की कोशिश मत करना. हम नहीं मिलेंगे. हम ने शहर भी छोड़ दिया है,’’ कह कर उस ने फोन काट दिया.

‘‘हैलो, भाग्या, सुन…’’ मोना बोलती रहीं और कंठ अवरुद्ध हो गया. फोन हाथ से छूट कर जमीन पर गिर गया. कटी हुई डाली की तरह मोना धम्म से जमीन पर गिर पड़ीं. यह देख कर सभी उन की तरफ दौड़े, ‘‘क्या हुआ?’’

मोना ने अस्फुटित शब्दों में कहा, ‘‘उस ने शादी कर ली है, और कहा है कि वह वापस नहीं आएगी, उसे मत ढूंढ़ना. वह यह शहर छोड़ कर चली गई है.’’

उस के इस कदम से घर के सभी लोग स्तब्ध हो गए. नींद उड़ गई थी सब की. भोजन ठंडा हो गया था. घर में भय से भरा सन्नाटा पसरा हुआ था. बाहर के कमरे में सभी लोग बैठे थे किंतु वे सभी कुछ कहनेसुनने व सोचने की स्थिति में नहीं थे. अब जाएं भी तो कहां जाएं. जवान लड़की का इस तरह चले जाना इज्जत का सवाल होता है. ऐसी खबरें भी आग की तरह फैलती हैं. मोना छाती पीट कर रो रही थीं. उधर राज का क्रोध सातवें आसमान पर था. वे मोना पर अपने क्रोध के अग्निबाण चला रहे थे.

‘‘सब तेरा ही सिखायापढ़ाया है, घर पर क्या करती हो, बच्चों का ध्यान नहीं रख सकती.’’ उस के पिता ने उन्हें बीच में टोक दिया, ‘‘अब लड़ने झगड़ने से क्या फायदा होगा. तुम्हारी इसी हरकत से वह चली गई है. जब देखो एकदूसरे को काटने के लिए दौड़ते हो. अब शांत हो कर आगे की सोचो. लड़की जात है, इस बात का ध्यान रखना कि बात घर से बाहर नहीं जाए. अब शादी कर ली है तो लड़की को घर लाने की बात सोचो. मन को शांत रखो. उसे सम झाबु झा कर घर लाना होगा.’’

उन की बात सुन कर सब लोग चुप थे. मन में उथलपुथल मची हुई थी और हारे हुए से अपने समय को कोस रहे थे. 2 दिन हो गए, भाग्या की कोई खबर नहीं मिली. परिवार के सभी लोग इस बात से चिंतित थे कि कहीं लड़की के साथ कुछ गलत तो नहीं हुआ, कौन सी जाति का लड़का है? क्या करता है? आजकल समाज में जिस तरह की घटनाएं हो रही थीं, चिंता होना लाजमी थी. कहते हैं न इश्कमुश्क छिपाए नहीं छिपता है. इस बात को परिवार भरसक छिपाने का प्रयास कर रहा था, लेकिन जल्दी हवा में सुगबुगाहट शुरू हो गई थी. गांव में ऐसी बातें जल्दी फैलती हैं. इधरउधर से लड़के की जानकारी भी मिल रही थी कि इसे भाग्या के साथ देखा गया था. 2 दिन तक जब भाग्या की कोई खबर नहीं मिली तो सब ने पुलिस की मदद लेने का फैसला लिया. लेकिन तभी फोन की घंटी बजी. नया नंबर देख कर राज ने फोन उठाया. उधर से भाग्या की आवाज आई, ‘‘पुलिस में खबर करने की जरूरत नहीं है. मैं बहुत खुश हूं. हमें ढूंढ़ने की कोशिश मत करो. हम आप को नहीं मिलेंगे, न ही घर आएंगे.’’

राज ने मन शांत रख कर कहा, ‘‘ठीक है, तुम ने शादी कर ली है. अब तो घर आ जाओ. बैठ कर बात करेंगे. हम उसी लड़के से तुम्हारी शादी समाज के सामने करवा देंगे. ऐसे हम समाज में क्या मुंह दिखाएंगे. हमें भी तो लड़के से मिलने दो. नहीं आई तो मजबूरन हमें पुलिस की मदद लेनी पड़ेगी.’’

‘‘मैं ने कहा न कि मैं बहुत खुश हूं. हमें ढूंढ़ने की कोशिश मत करना. हम ने शहर छोड़ दिया है. मैं अब बालिग हूं, अपना भलाबुरा सोच सकती हूं,’’ इस के बाद फोन बंद हो गया. आजकल सोशल मीडिया ने सब की जिंदगी में अपने पांव पसार रखे हैं. दुनिया में यह जीवन की खुली किताब का सब से आसान जरिया भी बन गया है. देररात भाग्या ने अपने सोशल अकाउंट पर शादी की तसवीरें पोस्ट कर के अपनी शादी को सार्वजनिक कर दिया. उस के बाद उस ने अपना फोन भी बंद कर दिया. परिवार जिस इज्जत की दुहाई दे रहा था, उसे उस ने पलभर में चकनाचूर कर दिया था. समाज रिश्तेदारों में यह बात आग की तरह फैल गई थी. जितने मुंह उतनी बातें. लड़के की तसवीर देख कर भाग्या के घरवालों ने लड़के के घर का पता ढूंढ़ना शुरू किया. गांव के कुछ शुभचिंतकों ने लड़केवालों का पता भी दे दिया था. ऐसे समय में शुभचिंतक भी बहुत पैदा हो जाते हैं. सब भागेभागे लड़के के घर गए व उस के मातापिता से कहा, ‘‘हमें हमारी लड़की से मिलने दो.’’ लेकिन, उन्होंने भी साफ कह दिया कि उन का लड़का भी घर से गायब है व उस का फोन भी बंद आ रहा है. वे भी बहुत परेशान हैं. उस से संपर्क करने की कोशिश कर रहे हैं. राज को गुस्सा आ गया, वे बोले,’’ आप को जैसे ही पता चले हमें भी अवगत कराएं. आप के लड़के ने हमारी लड़की को भगाया है. हम उसे नहीं छोड़ेंगे.’’ लड़के वाले भी घबरा गए. वे बोले, ‘‘देखिए, हम भी उतने ही परेशान हैं जितने आप. हमारा लड़का भी घर से भाग गया है. हम क्या कहें.’’

ये भी पढ़ें- दूध के दांत: भाग-3

वे मायूस हो कर घर लौट गए. घर से बाहर निकलना मुश्किल हो रहा था. उधर लड़के वालों का भी संदेश आ गया, अच्छा हुआ लड़की शादी से पहले भाग गई. वरना हमारे बच्चे की जिंदगी खराब हो जाती.’

राज ने घर में सब से कह दिया, ‘‘इस लड़की ने हमारी नाक कटा कर रख दी है. अब हमें उस से कोई नाता नहीं रखना है.’’ इधर भाग्या के जीवन में बसंत ने खुशियों की दस्तक दी थी. पलाश के प्यार ने उस के जीवन को महका दिया था. आज वह दुनिया से चीखचीख कर कहना चाहती थी कि मैं आजाद हूं. जैसे कोई पंछी पिंजरे से बाहर निकल कर खुले आसमान में मदमस्त हो कर विचरण करता है, वैसे ही भाग्या का मन उड़ान भर रहा था. उमंगें जहां हृदय में हिलोरें मार रही थीं वहीं भय भी ग्रहण बन कर बैठा था. कब क्या होगा, कोई नहीं जानता था. उसे पता था कि उस का परिवार इतनी आसानी से उन्हें जीने नहीं देगा.

आगे पढ़ें-. हर 2 दिन में वे शहर बदलते रहे कि कहीं उन का नंबर ट्रेस कर…

Tags:
COMMENT