भाग्या ने बहुत सोचसमझ कर एक ऐसा कदम उठाया जो समाज और उस के मातापिता की नजर में अस्वीकार्य और अमान्य था. लेकिन समाज की मान्यताएं किसी की खुशी से बढ़ कर तो नहीं हो सकतीं.
'गृहशोभा' पर आप पढ़ सकते हैं 10 आर्टिकल बिलकुल फ्री , अनलिमिटेड पढ़ने के लिए Subscribe Now