साथी के साथ यात्रा का मतलब ज्यादातर लोग हनीमून ही समझते हैं. पार्टनर के साथ सफर करने का अपना अलग ही मजा होता है. आज के भाग-दौड़ भरी जिंदगी में पति-पत्नि दोनों ही कामकाजी होते हैं. ऐसे में अक्सर लोग अपना मूड फ्रेश करने शहर से दूर छोटे-छोटे टूर पर निकल जाते हैं लेकिन ज्यादातर टाईम ऐसा होता है कि बाहर जाकर भी पार्टनर एक-दूसरे से झगड़ा कर लेते हैं.

तो आइए आज हम आपको ऐसे ही कुछ टिप्स बताने जा रहे हैं जिसे अपनाकर आप अपने साथी के साथ खास समय खास समय बिता सकती हैं.

अपने बैगिंग स्पेस को आपस में बांटें

बैग पैक करना किसी भी टूर का सबसे जरूरी पार्ट होता है. साथी के साथ किसी भी जगह घूमने का प्लान कर रही हैं तो बैग पैक करते समय ध्यान दें कि अपने बैग में अपने पार्टनर के कपड़ों को जरूर जगह दें. छोटे दिन का प्लान बना रहे हों तो कोशिश करें कि आप दोनों के पास एक ही बैग हो जिसमें आप दोनों का ही पूरा सामान आ जाए. इससे ना सिर्फ आप दोनों के बीच नजदिकीयां बढ़ेगी बल्कि सफर करने में भी आसानी होगी.

पार्टनर की पसंद से बनाएं प्लान

हमेशा याद रखें की कहीं घूमने का प्लान बना रहे हों तो अपने पार्टनर की पसंद और नापसंद का ध्यान जरूर रखें. ऐसा ना हो कि आप सिर्फ अपनी पंसद से ही डेस्टिनेशन तय कर लें और आपके पार्टनर का उस जगह जानें का बिल्कुल भी मन ना हो. ऐसे में आपके बीच लड़ाई होना स्वाभाविक है तो ध्यान दें की जब भी कहीं टूर पर जानें का प्लान करें तो अपने पार्टनर के साथ मिलकर प्लानिंग करें.

सिर्फ मेल पार्टनर क्यों उठाए पूरा लगेज

किसी भी टूर या सफर में जाने पर ये जरूरी नहीं कि मेल पार्टनर ही पूरा लगेज उठाए. अगर आप खुद को इंडिपेंडेट कहती हैं तो हर मामले में इंडिपेंडेंट होना जरूरी है इसलिए कोशिश करें कि अपना सामान खुद ही उठाएं. इससे आप दोनों का ही मूड भी रिफ्रेश रहेगा और किसी एक आदमी पर पूरी तरह से बोझ नहीं पड़ेगा.

किसी भी बात पर ना करें बहस

सबसे जरूरी बात ध्यान में रखने वाला ये है कि आप दोनों अपना मूड फ्रेश करने शहर के शोर से दूर गए हैं तो कोशिश करें कि एक दूसरे की बात को पेशेन्स के साथ सुनें और किसी भी बात पर एक-दूसरे से झगड़ा ना करें. अगर कोई सिचुएशन ऐसी बनती भी है तो ऐसे में आपको अपने पार्टनर के साथ एकान्त में बैठकर बात करने की जरूरत होती है.

Tags:
COMMENT