गृहशोभा विशेष

गरमी के मौसम में जरा सी भी लापरवाही त्वचा से संबंधित गंभीर बीमारियों का कारण बन सकती है. डीहाइड्रेशन, तैलीय त्वचा पर मुंहासे, पसीना व गंदगी के कारण फंगल इन्फैक्शन और खुजली जैसी समस्याएं होना इस मौसम में आम बात है. रहीसही कमी को प्रदूषित वातावरण पूरी कर देता है. गरमी के मौसम का आप की त्वचा पर बुरा असर न पड़े, इस के लिए कुछ बातों को अवश्य ध्यान में रखें:

हाइपरहाइड्रोसिस यानी शरीर के कुछ अंगों जैसे हथेलियों, तलवों में ज्यादा मात्रा में पसीना आना आप को असहज महसूस करा सकता है. इस स्थिति में आप डर्मेटोलौजिस्ट की सलाह से ऐंटीपर्सपाइरैंट क्रीम का इस्तेमाल कर सकती हैं. इस के अलावा हाथों व पैरों को ज्यादा से ज्यादा धोने की कोशिश करें. हाइजीन को ध्यान में रखते हुए हैंड सैनिटाइजर का इस्तेमाल भी कर सकती हैं.

गरमी में अंडरआर्म्स को साफसुथरा रखने के लिए मुलतानी मिट्टी के लेप का प्रयोग कर सकती हैं. विटामिन ई युक्त या नारियल तेल से मसाज करने से अंडरआर्म्स की पसीने की बदबू को भी कम किया जा सकता है.

तपिश भरे मौसम में वेट वाइप्स या कौटन का रूमाल अपने साथ अवश्य रखें ताकि पसीना साफ करते समय त्वचा पर रैशेज न आएं. खुजली की वजह से भी त्वचा पर रैशेज बनते हैं और फिर फंगस भी हो सकता है. रैशेज या लाल धब्बे हो जाने पर गुलाबजल से साफ करें और उस हिस्से पर नारियल का तेल लगाएं.

कई लोग पूरे साल गरम पानी से नहाते हैं. ऐसा नहीं करें. यदि फिर भी आदत से मजबूर हैं तो ज्यादा देर तक नहीं नहाएं, क्योंकि गरम पानी के इस्तेमाल से आप की त्वचा की नमी को बनाए रखने वाले औयल में कमी हो जाती है. नतीजा, त्वचा रूखी हो जाती है.

अधिक समय तक एअरकंडीशनर में रहने से भी आप की त्वचा पर विपरीत असर होगा और त्वचा रूखी हो जाएगी. इसलिए इस पर भी ध्यान दें.

चेहरे की चमक बरकरार रखने के लिए दिन में कम से कम 3-4 बार ठंडे पानी या माइल्ड क्लींजर से चेहरा साफ करें.

शोध के बाद यह निष्कर्ष निकला है कि तकरीबन 90% प्रीमैच्योर ऐजिंग के केस धूप में अधिक रहने के कारण पाए जाते हैं. उस से बचने के लिए जब भी आप घर से बाहर निकलें, चेहरे पर सनस्क्रीन लगाना न भूलें. और चेहरे के डैड सैल्स हटाने के लिए नियमित रूप से स्क्रब जरूर करें.

गरमियों में शरीर की ऊर्जा अधिक खर्च होती है. ऊर्जा पुन: प्राप्त करने के लिए ताजे व रसीले फलों का सेवन करें.

सप्ताह में 2 बार 2 चम्मच शुद्ध शहद, 20 बूंदें नीबू का रस, आधा चम्मच मलाई या देशी घी (गाय का) व 1 चम्मच जौ का आटा मिला कर पेस्ट बना लें और उसे चेहरे व गरदन पर लगाएं. आधे घंटे बाद कुनकुने पानी से चेहरा व गरदन साफ कर विटामिन क्रीम लगाएं. यदि स्किन औयली है तो मलाई का उपयोग न करें तथा बाद में क्रीम के बजाय मौइश्चराइजर लगाएं.

आप इस लेख को सोशल मीडिया पर भी शेयर कर सकते हैं