सर्दी के मौसम की शुरुआत होते ही त्वचा रूखी व बेजान नजर आने लगती है. इस मौसम में त्वचा को विशेष देखभाल की जरूरत पड़ती है. कुछ खास बातों का ध्यान रख कर सर्दियों में गौर्जियस स्किन पाई जा सकती है.

मौइश्चराइजिंग

डेली स्किन केयर में दिन में और रात को सोने से पहले मौइश्चराइजर लगाना न भूलें. मौइश्चराइजर का चुनाव करते समय यह जरूर देखें कि उस में औयल और तेल का सही बैलेंस है या नहीं. यदि रात को सोने से पहले औयल से स्किन को मौइश्चराइज करती हैं, तो बादाम, औलिव, कोकोनट या ऐवोकैडो औयल का ही इस्तेमाल करें.

सनस्क्रीन की जरूरत

यह मिथ है कि सर्दियों में सनस्क्रीन की जरूरत नहीं पड़ती. सच तो यह है कि सर्दियों में हमारी त्वचा धूप के संपर्क में ज्यादा रहती है, इसलिए घर से बाहर निकलने से आधा घंटा पहले सनस्क्रीन जरूर लगाएं और धूप में ज्यादा देर रहने पर हर 2-3 घंटे के बाद इसे रिपीट करें.

स्किन ऐक्सफोलिएशन

यह मिथ है कि सर्दियों में स्किन को ऐक्सफोलिएट करने यानी त्वचा पर से डैड सैल्स को रिमूव करने के लिए स्क्रबिंग की जरूरत नहीं होती. सच तो यह है कि त्वचा की कोमलता व ताजगी को बनाए रखने के लिए स्किन ऐक्सफोलिएशन की जरूरत पड़ती है, जो डैड सैल्स को रिमूव कर के ब्लड सर्कुलेशन को भी इंपू्रव करने में मदद करता है. ऐक्सफोलिएशन के लिए माइल्ड व सी मिनरलयुक्त स्क्रब का ही इस्तेमाल बेहतर रहता है.

बौडी रैप

सर्दियों में बौडी स्पा में बौडी रैप ट्रीटमैंट लेने से शरीर में ताजगी, स्फूर्ति आती है. इस ट्रीटमैंट में शरीर पर तरहतरह के लेप लगाए जाते हैं जो न सिर्फ त्वचा की मृत कोशिकाओं को हटाते हैं, बल्कि स्किन टैक्सचर को भी बेहतर बनाते हैं. इन रैप्स में मड, सीमड इत्यादि प्रमुख हैं.

रिफ्रैशिंग फेशियल वाइप्स

फेस को बारबार क्लीन करने के लिए फेसवाश का इस्तेमाल करने के बजाय फेशियल वाइप्स का इस्तेमाल करें, क्योंकि फेशियल वाइप्स से आप अपनी स्किन को फ्रैश, क्लीन व ग्लोइंग लुक दे सकती हैं, वह भी त्वचा को ड्राई किए बिना.

ग्लोइंग मेकअप

सर्दियों में सर्द हवाएं त्वचा का निखार छीन लेती हैं, जिस के कारण मेकअप करने के बाद चेहरे पर ग्लो नहीं आता. इसलिए नैचुरल ग्लोइंग स्किन लुक के लिए पहले चेहरे को मौइश्चराइज करें, फिर अपनी स्किनटोन से एक शेड डीपर मैट पाउडर का इस्तेमाल फोरहैड, नोज और चीक्स पर करें. स्किन की डलनैस को दूर करने के लिए फाइन हाईलाइटर का इस्तेमाल करें. फिर ग्लैमर ग्लो से फाइनल टच दें. ग्लैमर ग्लो पाउडर आप की स्किन को ताजगी व सौम्य लुक देगा.

आंखों की देखभाल

सीनियर कंसल्टैंट, आई सर्जन, डा. विनोद गुप्ता के अनुसार गरमी हो या सर्दी, हम शरीर की त्वचा के बचाव के लिए तो कई उपाय करते हैं, लेकिन आंखों की सुरक्षा में चूक कर जाते हैं, जबकि मौसम के बदलाव का असर हमारी आंखों पर भी पड़ता है.

डा. विनोद गुप्ता के अनुसार हर मौसम में अपनी आंखों का विशेष ध्यान रखें. इस के लिए आप चश्मे का इस्तेमाल, तनावपूर्ण व थकी आंखों के लिए नैचुरल रिलैक्सर गुलाबजल का इस्तेमाल करें. लेकिन ज्यादा परेशानी होने पर डाक्टर से सलाह लें.

अल्कोहल फ्री प्रौडक्ट्स

हार्श पीलिंग स्क्रब, मास्क और ऐल्कोहल बेस्ड टोनर, प्रोडक्ट का इस्तेमाल करने से त्वचा में रूखापन आने के साथसाथ यह डैमेज भी होती है. इसलिए सर्दियों में गरमियों के स्किन प्रोडक्ट का इस्तेमाल न कर के सर्दियों के मौसम के अनुरूप ही माइल्ड क्लींजर, स्क्रबर का इस्तेमाल करें. नौन अल्कोहल बेस्ड टोनर व डीप ऐसेंशियल सब्सटैंसेज युक्त नरिशिंग मास्क से आप अपनी स्किन को नैचुरली यंग लुकिंग स्किन बना सकती हैं.

मैजिकल रूटीन केयर

हमेशा त्वचा को जवां, खूबसूरत बनाए रखने के लिए स्किनकेयर मैजिकल ट्रिपल पावर को जानना जरूरी है. सब से पहले चेहरे को जैंटली नौन अल्कोहल बेस्ड क्लींजर से क्लीन करें. विंटर स्मूद स्किन के लिए फेस सिरम को डीप मौइश्चराइजर के साथ मिला कर पूरे चेहरे व गरदन पर लगाएं, जिस से यह आप की स्किन को रिहाइड्रेट करते हुए ऐंटीऐजिंग का काम करे.

खूबसूरत पांव

पैरों की खूबसूरती और बदसूरती से इनसान की आदतों व शख्सीयत का पता चलता है. वैसे तो पैरों की देखभाल हर मौसम व हर दिन की जानी चाहिए. लेकिन सर्दियों का मौसम पैरों की तकलीफों में इजाफा कर देता है. मसलन, फटी एडि़यां, कौर्न, फंगस, गांठ, टैनिंग आदि. फूट फौर्मल या प्रीमियम स्टोन की मदद से पैरों की डैड स्किन रिमूव करें.

फिर फीट मसाजर क्रीम या मौइश्चराइजर क्रीम में ऐसेंशियल औयल की कुछ बूंदें मिक्स कर के जैंटल मसाज करें. आप टीट्री औयल का इस्तेमाल भी कर सकती हैं. यह ऐंटीबैक्टीरियल व ऐंटीफंगल होता है. यह फंगल इन्फैक्शन में मददगार रहेगा. इस के अलावा रोजमैरी औयल ब्लड सर्कुलेशन को इंप्रूव करता है. आप इस का भी इस्तेमाल कर सकती हैं.

स्मूद स्किन वैक्सिंग

आम धारणा है कि सर्दियों में वैक्सिंग की जरूरत नहीं पड़ती, जबकि यह केवल मिथ है. रैग्युलर वैक्सिंग से आप की डैड स्किन भी रिमूव होती है, जिस से स्किन स्मूद फील होती है. मार्केट में कई तरह की वैक्सिंग उपलब्ध हैं. इन में से विंटर के लिए बैटर वैक्सिंग औप्शन हैं : बौडी बटर, रौयल वैक्स, लैमनग्रास, डर्ट रिमूवर, टैन रिमूविंग, चौकलेट, डीटैन, पैच वैक्सिंग व ऐलोवीरा वैक्स.

मिनरल औयल मेकअप रिमूवर

सर्दियों में हमारी त्वचा रूखी व बेजान हो जाती है. घर और बाहर के तापमान के फर्क व हौट ब्लोअर की वजह से भी हमारी त्वचा की नमी खोने लगती है, इसलिए मेकअप रिमूव करने के लिए भी नौर्मल क्लीजिंग मिल्क की जगह मिनरल औयल बेस्ड मेकअप रिमूवर का इस्तेमाल करें. यह स्किन की सौम्यता से सफाई कर के स्किन पर औयल की लेयर चढ़ा देता है, जिस से कोमल, नाजुक त्वचा का एहसास व देखभाल मिलती है.