गृहशोभा विशेष

श्रीदेवी की 300 वीं फिल्म ‘‘मौम’’ के निर्देशक रवि उद्यावर इन दिनों काफी चर्चा बटोर रहे हैं. जे जे स्कूल ऑफ आर्ट्स से फाइन आर्ट्स में गोल्ड मेडलिस्ट रवि उद्यावर ने 19 वर्ष की उम्र में एक अंग्रेजी अखबार में इलस्ट्रेशन बनाना शुरू किया था. पर जब वह फिल्म माध्यम से जुड़े तो संगीतकार ए आर रहमान का उन्हें साथ मिला.

जी हां, रवि उद्यावर ने अपने करियर की पहली कमर्शियल यानी कि एड फिल्म के रूप में ‘‘एयरटेल’’ की कमर्शियल निर्देशित की थी. इसे संगीत से संवारा था ए आर रहमान ने. इस एड को पूरे विश्व में कई पुरस्कार मिल गए. काफी चर्चा हुई और इस एड की वजह से ‘एयरटेल’ व्यवसाय में अग्रणी हो गया.

अब पूरे बीस वर्ष बाद रवि उद्यावर ने अपने करियर की पहली फीचर फिल्म निर्देशित की है, जो कि सात जुलाई को प्रदर्शित हो रही फिल्म ‘‘मौम’’ है. मजेदार बात यह है कि इस फिल्म के संगीतकार ए आर रहमान ही हैं. तो क्या रवि उद्यावर ने स्वयं अपनी इस फिल्म के साथ ए आर रहमान को संगीतकार के रूप में यह सोचकर जोड़ा कि ए आर रहमान उनके लिए लक्की साबित होंगे?

इस पर रवि कहते हैं, ‘‘मैं तो इसे समय का खेल मानता हूं. हकीकत में फिल्म ‘मौम’ के साथ संगीतकार के रूप में ए आर रहमान को जोड़ने का फैसला फिल्म के निर्माता बोनी कपूर का है. पर मुझे भी उनकी संगीत की धुनें काफी पसंद आयी.’’

आप इस लेख को सोशल मीडिया पर भी शेयर कर सकते हैं