गृहशोभा विशेष

रजनीकांत के स्टारडम से तो सभी वाकिफ हैं. आज उनका रुतबा ऐसा कि सिर्फ नाम से ही उनकी फिल्में चल जाती हैं. उनके रुत्बा का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि उनके फिल्म के रिलीज के मौके पर कई दफ्तरों में छुट्टी भी कर दी जाती है. हाल ही में कबाली के रिलीज से पहले यह घटना देखने को मिली. यह कहना गलत नहीं होगा कि दक्षिण भारत में रजनीकांत भगवान की तरह पूजे जाते हैं.

लेकिन क्या आप जानते हैं कि रजनीकांत से भी बड़ा एक सुपरस्टार रहा जिसे साउथ की पूरी फिल्म इंडस्ट्री सलाम करती थी और रजनीकांत भी उन्हें अपना लकी चार्म मानते थे? नहीं. तो हम आपको बताते हैं.

ये एक्टर और कोई नहीं बल्कि रघुवरन थे. रघुवरन आज इस दुनिया में नहीं हैं लेकिन उनका ओहदा रजनीकांत के लिए सभी से ऊपर था. रजनीकांत ने रघुवरन के साथ कई फिल्मों में साथ काम किया. कहा जाता है कि रजनीकांत की जिस भी फिल्म में रघुवरन का रोल होता था वो फिल्म सुपरहिट हो जाती थी.

रजनीकांत और रघुवरन ने जितनी भी फिल्मों में साथ काम किया वो सभी हिट रहीं. इन्हीं हिट फिल्मों की वजह से रजनीकांत रघुवरन को अपना लकी चार्म मानने लगे थें. रजनीकांत ने एक इंटरव्यू में खुद इस बात को कबूल किया था.

‘बाबा’ से लेकर ‘बाशा’ तक रजनीकांत की कई फिल्में रघुवरन की बदौलत हिट रहीं. रघुवरन के इसी गोल्डन टच को महसूस कर रजनीकांत ने निर्देशक शंकर से रघुवरन को फिल्म ‘शिवाजी’ में लेने की गुजारिश की और कहा कि रघुवरन को भी इस फिल्म में कोई रोल दिया जाना चाहिए. रजनीकांत के कहने पर रघुवरन को फिल्म में ले लिया गया और ये फिल्म जबरदस्त हिट रही.

शुरूआत में रघुवरन को साउथ फिल्म इंडस्ट्री ने गंभीरता से नहीं लिया और ना ही उनके लिए बढ़िया किरदार लिखे. इसकी वजह से रघुवरन कैरेक्टर रोल में ही सीमित रह गए.

लेकिन धीरे-धीरे रघुवरन ने अपने लिए ऐसा प्लेटफॉर्म तैयार किया कि साउथ का हर सुपरस्टार उनके साथ काम करने के सपने देखने लगा. रघुवरन ने अपने दौर के हर लीडिंग स्टार के साथ काम किया. अपने डायलॉग डिलिवरी के नायाब अंदाज और स्टाइल से रघुवरन जल्द ही लोगों के चहेते स्टार बन गए. उन्होंने कई हिंदी फिल्मों में भी काम किया और अपना परचम लहराया.

आप इस लेख को सोशल मीडिया पर भी शेयर कर सकते हैं