महिलाएं किचन में कैबिनेट और काउंटर टौप के चुनाव पर तो खास ध्यान देती हैं पर किचन सिंक पर उतना नहीं जबकि यह भी किचन का एक अहम हिस्सा है. अत: सिंक लगाते समय इन बातों का ध्यान रखा जाए तो यह सुविधाजनक होने के साथसाथ अच्छा लुक भी देगा:

किस चीज का हो किचन सिंक: किचन में सब से ज्यादा स्टेनलैस स्टील के सिंक का प्रयोग होता है. सौंदर्य और सफाई के नजरिए से यह उत्तम है. कम गेज की चादर का भारी व मजबूत होता है तो ज्यादा गेज का हलका व कमजोर. अपनी जरूरत के अनुसार उचित गेज का स्टील का सिंक लगवाएं.

पहले सिंक ढलवा लोहे के होते थे, पर उन की साफसफाई कठिन होती थी. इस के लिए उन के ऊपर चीनीमिट्टी का कवर देते थे. आजकल ग्रेनाइट या क्वार्ज के सिंक भी मिलते हैं. सुंदरता के लिहाज से ये काफी अच्छे होते हैं. सिरैमिक के सिंक भी आते हैं, पर इन के टूटने का खतरा रहता है.

सिंक का डिजाइन: सिंक की धातु के चुनाव के बाद सिंक का डिजाइन कैसा हो, यह आप की जरूरत और किचन के साइज पर भी निर्भर करता है. आप किचन में सिंगल बेसिन सिंक या डबल बेसिन सिंक अपनी सुविधा से लगवा सकती हैं.

सिंगल बेसिन सिंक: इस में सिर्फ एक सिंक होता है, पर इस में बड़े बरतन रखने के लिए पर्याप्त जगह होगी. यह ड्रेन बोर्ड के साथ भी मिल सकता है

डबल बेसिन सिंक: इस में 2 बेसिन होंगे. इसे लगाने के लिए ज्यादा जगह चाहिए और खर्च भी थोड़ा ज्यादा होगा. दोनों बेसिन सिंगल की तुलना में कुछ छोटे होंगे. पर इस के फायदे भी हैं. एक सिंक में आप के गंदे बरतन हो सकते हैं, तो दूसरे सिंक में आप दूसरा काम कर सकती हैं. जैसे सब्जी, चावल, दाल आदि की धुलाई.

ट्रिपल बेसिन सिंक: 3 बेसिन वाले सिंक भी मिलते हैं. पर आमतौर पर ये घर में व्यवहार में नहीं आते हैं.

फार्महाउस या ऐप्रन फं्रट सिंक: इस में सिंक का सामने का भाग ऐक्सपोज्ड होता है. आप को ज्यादा गहराई या धुलाई के लिए कुछ अधिक जगह मिल सकती है.

टौप माउंट सिंक: यह आप के काउंटर के ऊपर ही होता है और इसे लगाना भी आसान होता है, पर सुंदरता के लिहाज से देखने में उतना अच्छा नहीं लगता है.

अंडर माउंट सिंक: यह आप के काउंटर के लैवल से नीचे होगा, पर देखने में काफी अच्छा लगता है. ज्यादातर फ्लैट्स या अपार्टमैंट्स में आजकल यही देखने को मिलते हैं.