गृहशोभा विशेष

सड़कों पर आजकल अकसर लिखा दिखता है, ‘संभल के, घर पर कोई इंतजार कर रहा है.’ मगर घर में जो इंतजार कर रहे होते हैं उन में सब से ज्यादा दुखदर्द भारत में ही झेला जाता है. भारत में हर साल साढ़े 11 लाख लंबी सड़कों पर कोई डेढ़ लाख लोग मारे जाते हैं, गोलियों से नहीं, ट्रकों, गाडि़यों से. भारत का नाम दुनिया में सड़कों पर मारे जाने वालों में से सब से ऊपर है.

ठीक है, देश बड़ा है. यहां 47 लाख मील लंबी सड़कें हैं और 12 करोड़ वाहन हैं. पर अमेरिका में, जो हम से ढाई गुना बड़ा है, 65 लाख मील लंबी सड़कों और 25 करोड़ वाहनों से 33 हजार लोग मरते हैं. और चीन की 41 लाख मील लंबी सड़कों पर 20 करोड़ वाहनों से 70 हजार. 2 गुने परिवारों को रोताबिलखता छोड़ने और लगभग 1 लाख औरतों को बिना वजह विधवा बनाने के लिए दोषी देश की सरकार और समाज दोनों हैं.

सड़कों पर दुर्घटनाओं का अकसर कारण खराब सड़कें, खराब वाहन तो होते ही हैं, खराब तरीके से चलाना और खासतौर पर शराब पी कर चलाना होता है. यह वह मौत है, जो शरीर की गलतियों से नहीं केवल और केवल आदमी की गलती से हुई होती है. यह वह मौत होती है, जो टाली जा सकती है पर किसी की लापरवाही के कारण होती है और उस का जिम्मेदार हर वह जना होता है जो स्टेयरिंग या हैंडल थामे होता है.

इस मौत का दर्द सब से ज्यादा होता है, क्योंकि यह अचानक होती है और महीनों यह दुख रहता है कि अगर यह न होता, वह न होता तो मौत न होती. इस मौत को, अफसोस कि देश की सरकार व शासन दोनों बड़े निश्चिंत भाव से लेते हैं. मानो यह तो लिखा हुआ ही है कि मौत कब आने वाली है, तो हम क्यों भगवान और भाग्य में अपना दखल दें?

इन मौतों में बड़ी जिम्मेदारी लोगों की अपनी लापरवाही है. सड़कों पर कब्जा करना तो यहां जन्मसिद्ध अधिकार बन गया है. सड़कें बनने से पहले ही सड़कों के किनारे दुकानें लगनी शुरू हो जाती हैं और जो सड़क वाहनों के लिए बनी है उस के दोनों तरफ बस्तियां उग जाती हैं और लोग सड़कें बिना इधरउधर देखे पार करना अपना हक समझते हैं. सड़कों को छोटी करना, उन पर मंदिर बनाना, दुकान बनाना, पार्किंग बनाना लोग इस तरह करते हैं जैसे सड़क के किनारे पेशाब करना.

शराब के ठेके अपना काम मुस्तैदी से करते हैं. हर सड़क पर बड़ेबड़े बोर्ड दिखेंगे: यहां शराब है. यानी पिओ और मरो. शराब पी कर गाड़ी चलाने में कुछ और ही मजा आता है. लगता है, हाथ में ट्रक, कार नहीं टैंक है, जो धाएंधाएं करता मारता चला जाएगा.

देश की सरकार को इस की चिंता नहीं है. इसलिए सर्वोच्च न्यायालय ने एक समिति बनाई है जो इस बारे में सलाह देगी. पर क्या सरकार इस तरह की सलाह को मानती है? यहां सरकार में लोग शासन करने आते हैं, सेवा करने नहीं. प्रबंध होता है तो इसलिए कि इस बहाने पैसा बनता है. यहां किसी को किसी की जान की कोई परवाह है ही नहीं.

आप इस लेख को सोशल मीडिया पर भी शेयर कर सकते हैं