भारत में हर धर्म की ऐतिहासिक इमारतों का खजाना भरा हुआ है और इसी कड़ी में पेश है यहां की मशहूर मस्जिदें. अपनी खूबसूरत शिल्‍पकला, वास्‍तुकला और कलाकारी के लिए इनको जाना जाता है और यहां सालभर पर्यटकों का आना जाना लगा रहता है.

1. जामा मस्जिद, पुरानी दिल्‍ली

दिल्ली की जामा मस्जिद भारत की सबसे बड़ी और सबसे पुरानी मस्जिदों में से एक है. इस आलीशान मस्जिद को शाहजहां ने बनवाया था. इस विशाल मस्जिद का निर्माण 1650 से 1656 तक हुआ.यह मस्जिद मुगलकाल की बेहद खूबसूरत कलात्मक शैली में बनी हुई है.

2. मक्का मस्जिद, हैदराबाद

मक्का मस्जिद हैदराबाद की सबसे पुरानी मस्जिदों में से एक है और इसे देश की सबसे बड़ी मस्जिदों में गिना जाता है. मुहम्मद कुली कुतुबशाह ने 16 वीं सदी में इस मस्जिद का निर्माण करवाया था.

3. ताज-उल-मसाजिद, भोपाल

भोपाल की ताज-उल-मसाजिद भारत की सबसे पुरानी मस्जिदों में से एक है. इसे देश की सबसे बड़ी मस्जिद होने का भी गौरव प्राप्त है. इस आलीशान मस्जिद की संरचना बेहद आकर्षक और भव्य है.

4. बड़ा इमामबाड़ा, लखनऊ

लखनऊ स्थित बड़ा इमामबाड़ा को आसिफ इमामबाड़ा के नाम से भी जाना जाता है क्‍योंकि इसे 1783 में लखनऊ के नबाव आसफ-उद-दौला ने बनवाया गया था. बड़ा इमामबाड़ा भारत की सबसे उत्‍कृष्‍ट इमारतों में से एक है.

5. जामा मस्जिद, आगरा

1648 में मुगल बादशाह शाहजहां ने अपनी सबसे प्यारी बेटी जहांआरा बेगम की याद में इस मस्जिद को बनवाया था. यह मस्जिद आगरा के मुख्य आकर्षणों में से एक है.

6. जमाली और कमाली मस्जिद, दिल्ली

यह मस्जिद दिल्ली के महरौली में स्थित है. यहां सोलवहीं शताब्दी के सूफी संत जमाली और कमाली की कब्र मौजूद है. सूफी संत जमाली लोधी हुकूमत के राज कवि थे. इसके बाद बाबर और उनके बेटे हुमायूं के राज तक जमाली को काफी तवज्जो दी गई. माना जाता है कि जमाली के मकबरे का निर्माण हुमायूं के राज के दौरान पूरा किया गया. जमाली कमाली मस्जिद का निर्माण 1528-29 में किया गया था.

7. कुव्वत-उल-इस्लाम-मस्जिद, दिल्ली

कुव्वत-उल-इस्लाम-मस्जिद का निर्माण कुतुबुद्दीन ऐबक ने करवाया था और यह दिल्ली में कुतुबमीनार के नजदीक स्थित है. यह भारत में निर्मित पहली तुर्क मस्जिद है. इस मस्जिद की सर्वोत्कृष्ट विशेषता उसका ‘मकसूरा’ एवं इसके साथ जुड़ा ‘किबला लिवान’ है. स्थापत्य कला की दृष्टि से यह पहला ऐसा उदाहरण है, जिसमें स्पष्ट हिन्दू प्रभाव परिलक्षित होता है.

8. अढ़ाई दिन का झोपड़ा, अजमेर

अढ़ाई दिन का झोपड़ा एक मस्जिद है जिसके पीछे एक रोचक कथा है. ऐसा माना जाता है कि यह संरचना अढ़ाई दिन में बनाई गई थी. यह भवन मूल रूप से एक संस्कृत विद्यालय था जिसे मोहम्मद गोरी ने 1198 ई. में मस्जिद में बदल दिया था. यह मस्जिद एक दीवार से घिरी हुई है जिसमें 7 मेहराबें हैं, जिन पर कुरान की आयतें लिखी गई हैं.

9. जामा मस्जिद, अजमेर

सफेद संगमरमर से बनी इस मस्जिद का निर्माण शाहजहां ने करवाया था. यह मस्जिद तीन भागों में बंटी हुई है.

10. नगीना मस्जिद, आगरा

आगरे के किले में ही मौजूद है नगीना मस्जिद जिसे दरबार की महिलाओं के लिए बनवाया गया था और इसके अंदर जनाना मीना बाजार था जिसमें केवल महिलाएं ही सामान बेचा करती थी.

11. हजरतबल मस्जिद, जम्‍मू और कश्‍मीर

हजरतबल मस्जिद, डल झील के पश्चिमी ओर स्थित है और यह मुसलमानों का एक महत्‍वपूर्ण धर्मिक स्‍थल है. इस मस्जिद को कई नामों से जाना जाता है जैसे- मदिनात-अस-सनी, असर-ए- शरीफ और दरगाह शरीफ. मस्जिद सफेद संगमरमर से बनी हुई है और देखने में हु- ब-हू हिमालय पर्वत की श्रृंखला की पृष्‍ठभूमि के समान लगती है.

12. जामिया मस्जिद, श्रीनगर

श्रीनगर की सबसे पुरानी और सबसे बड़ी मस्जिदों में से एक है जामिया मस्जिद. ब्रिटिश वास्तुकला में बनी इस मस्जिद की खूबसूरती देखने लायक है. 370 खम्बों पर खड़ी यह मस्जिद इतनी बड़ी है कि इसके अंदर तकरीबन 30,000 लोग एक साथ नमाज अदा कर सकते हैं.