गृहशोभा विशेष

मुंबई में नशा है, यहां के समुद्र में और यहां रातदिन काम करने वाले प्रोफैशनल्स के मिजाज में, जो अपने टारगेट को पूरा करने के बाद पार्टी करते हैं, सैलीब्रेशन होता है. हर कोई पंछी की तरह जोड़े में रहता है. हर कपल रोमांटिक होता है. पूर्णतया पाश्चात्य रंग में रंगी होती है मुंबई. देर रात पार्टियों की वजह से ही यहां का माहौल और रंगीन हो जाता है. अपने काम से काम और दूसरों की जिंदगी में हस्तक्षेप न करने की जीवनशैली इसे बेबाक बनाती है.

स्टाइल में रहने वालों का फैशनेबल शहर है मुंबई. यहां की लड़कियों की तरह यहां की इमारतें, कोठी, बंगले भी बेहद आकर्षक होते हैं. जितने बुटीक यहां फिल्मी हस्तियों की बीवियों ने खोले हैं, उतने ही सैलीब्रिटीज द्वारा इंटीरियर डिजाइनिंग भी खोले गए हैं. यहां के पानी में रोमांस घुला है. वे हर तरह का रोमांस करते हैं. समुद्रतट से असीम विस्तार के नीले पानी से, सुबह की सैर से, ताजा होटल के पास गेटवे औफ इंडिया के कबूतरों से, चर्चगेट व दादर के फुटपाथ पर दौड़तीभागती भीड़ से और यहां अपने काम के सिलसिले में आई भीड़ से. मुंबई रोमांस करती है खूबसूरती और स्मार्टनैस से, दिलफेंक नौजवानों से और ऐसे अमीरों से जो यारों पर पैसा दिल खोल कर लुटाते हैं.

यहां के लोगों को कारों का इतना शौक है कि नई से नई लक्जरी कारें वे लेते हैं तथा हर एक के पास 3-4 मौडल्स होते हैं. कारों के लेटैस्ट मौडल का चस्का मुंबइवासियों को हद से ज्यादा है. फ्लैट अपना हो या न हो पर कार तो अपनी होनी चाहिए. अपनी गाड़ी में गर्लफ्रैंड को घुमाने के शौकीनों का यह शहर अलग ही रोमानी अंदाज में जीता है. रोमांस के मामले में बेतक्कलुफ है यह शहर. यहां आने वाले संघर्षशील युवकयुवती प्राय: कपल के रूप में रहते हैं और अपना मुकाम हासिल होने पर वे पार्टनर भी बदल लेते हैं.

देर रात चलने वाली पार्टियों में लड़कियों का होश में न होना, उन का झूमते हुए अपने साथी की बाहों में लड़खड़ाना यहां तक कि पार्टी से अलग होने पर अपने साथी से संबंध बनाए जाने की घटना तकरीबन हर पार्टी में होती है, क्योंकि यहां लड़कियां खुल कर तबीयत से पीती हैं. सैक्स को ले कर यहां देश के अन्य क्षेत्रों सरीखी पाबंदियों नहीं हैं. उन्मुक्त जीवनशैली यहां की पहचान है. निजता का सम्मान भी यहां काफी होता है. इस लिहाज में मुंबई थोड़ा वैस्टर्न स्टेटस जैसा है भारत के लिए.

कुछ पी कर हंगामा भी करती हैं. एक नेपाली अभिनेत्री, जो हिंदी फिल्मों में बड़ी पारी खेल चुकी है, नशा कर के इतना हंगामा करती रही है कि उस की सोसायटी का वाचमैन उसे डंडे से मार कर उस के फ्लैट तक पहुंचाता था. रोमांस उन का चलता है, सड़कों, पार्कों, बीच व लोकल टे्रन में, सभी जगह वे एकदूसरे से सटे चोंच लड़ाते व रोमांस करते नजर आते हैं. इस शहर का जितना रोमांटिक मिजाज है उतना ही दोस्ताना भी. दोस्तों पर जीजान लुटाने वालों का शहर है यह. यहां कंजूसी या खूसट लोगों के लिए कोई जगह नहीं है. फिल्मी हस्तियां मेहरबान हो कर कार तक तोहफे में दे देते हैं.

वाकई बड़ा दिलचस्प शहर है यह. जो कहते या सोचते हैं कि मुंबई से फिल्म इंडस्ट्री को कहीं और शिफ्ट किया जाए, वे हवाईकिले बनाते हैं. न तो कहीं मुंबई जैसे बड़े होटल्स हैं, न यहां का मस्तीभरा बेफिक्र अंदाज. न यहां की तरह सुरक्षित लाइफ स्टाइल है, न कहीं इस तरह निजता की इज्जत करने का जज्बा. सभी दूसरों की आजादी का खयाल करते हैं, मिल कर रहते हैं, मुसकराते हैं और गाते हैं. यहां गालीगलौज, दंगाफसाद जैसी घृणित बातों को पसंद नहीं किया जाता. सभी कम्युनिटी के लोग मिल कर रहते हैं इसलिए तो इसे ‘मुंबई मेरी जान’ और ‘आमची मुंबई’ जैसे उपनामों से बुलाते हैं.

आप इस लेख को सोशल मीडिया पर भी शेयर कर सकते हैं