Weight Loss Tips : बिना एक्सरसाइज और डाइटिंग के आसानी से कम करें वजन

वजन कम करने के लिए लोग क्या क्या नहीं करते. एक्सर्साइज और डाइटिंग के लिए नए नए पैंतरों को आजमाते हैं. पर बहुत कम लोग ही होते हैं कि उन्हें इस परेशानी से निजात मिलती है. इस खबर में हम आपको बताएंगे कि अपनी जीवनशैली में कुछ बदलाव कर आप कैसे अपना वजन कम कर सकती हैं. तो आइए जानें उन टिप्स के बारे में.

1. खूब करें फलों और सब्जियों का सेवन

सेहतमंद रहने के लिए जरूरी है कि आप ताजे और हरे साग, सब्जियों और फलों का सेवन करें. फ्रूट चाट के मुकाबले ताजे फलों का सेवन अधिक फायदेमंद होता है. इससे शरीर को भरपूर मात्रा में फाइबर मिलता है, जिससे डाइजेशन बेहतर बनता है.

2. समय पर सोएं

ज्यादातर कामकाजी लोग अपने नींद को लेकर गंभीर नहीं होते. पर पूरी नींद ना लेने से आपकी सेहत बुरी तरह से प्रभावित होती है. अगर आप स्वस्थ रहना चाहती हैं तो जरूरी है कि आप पूरी नींद लें.

Diet fitness exercise sport sexy body happy smiling asian woman with measuring tape

3. चिप्स या तले हुए खाद्य पदार्थों से रहें दूर

जिस तरह की हमारी जीवनशैली हो गई है हम तले हुए चीजों की ओर तेजी से बढ़ने लगे हैं. अपने काम के बीच हम चिप्स जैसी चीजों को खाते रहते हैं जो हमारी सेहत के लिए काफी हानिकारक होता है. आपको बता दें कि सभी पैकेट वाली चीजों में प्रिजर्वेटिव पाए जाते हैं, जो सेहत को नुकसान पहुंचाने के साथ-साथ वजन भी बढ़ाते हैं.

4. नाश्ता कभी ना करें स्किप

नाश्ता दिनभर का सबसे जरूरी आहार है. अगर आप वजन कम करना चाहती हैं तो जरूरी है कि आप नाश्ता कभी ना छोड़ें. जो लोग नाश्ता नहीं करते, दूसरे वक्त में अधिक खाना खाते हैं. इस चक्कर में आपका वजन बढ़ जाता है.

5. खूब पीएं पानी

वजन कम करने के लिए जरूरी है कि आप अधिक पानी का सेवन करें. अगर आप सौफ्ट ड्रिंक की शौकीन हैं तो ये आपके लिए परेशानी की बात हो सकती है. कोल्ड ड्रिंक्स में कैलोरीज की मात्रा बहुत अधिक होती है, जो तेजी से वजन बढ़ाती हैं. वजन कम करने के लिए सॉफ्ट ड्रिंक्स की जगह ज्यादा से ज्यादा पानी का सेवन करें.

जायका मटन करी का

संडे के दिन ब्रेकफास्ट के बाद ज्यादातर घरों में एक ही मील बनता है जो सभी घरवालों का फेवरिट होता है. नॉनवेज पसंद करने वाले लोग इस दिन घर पर बनी मटन करी शौक से खाते हैं. लेकिन जैसे ही बात मटन डिश बनाने की आती है तो महिलाएं अलग-अलग मसालों को सही मात्रा में मिक्स करने और ज्यादा समय लगने की बात सोच कर टेंशन में आ जाती हैं.लेकिन अब ऐसा नहीं है क्योंकि महिलाओं की मटन मसाला तैयार करने की समस्या को हल करने के लिए पेश है सनराइज़ मीट मसाला. यह मटन करी में ऐसा स्वाद जगाता है कि खाने वाले बनाने वाले की तारीफ करने से खुद को रोक नहीं पाते. आइए, बनाते हैं मटन करी.

मटन करी

सामग्री

1 किलोग्राम मटन, 1 कप फेंटा हुआ दही, 1/2 छोट चम्मच हल्दी, 4?प्याज कटे,?

थोड़ा अदरक-लहसुन का पेस्ट, 4-5 हरीमिर्चें स्लिटेड, 1 चम्मच सनराइज़ मीट मसाला, जरूरतानुसार सरसों का तेल,

थोड़ा सा देशी घी, थोड़ी धनियापत्ती,

नमक स्वादानुसार.

विधि

मटन को धो कर उसका सारा पानी

निकाल दें. मटन को दही, हल्दी और

नमक मिला कर अच्छी तरह मिक्स करें

और 3?घंटों तक मैरीनेट होने के लिए रखें. अब बड़े बर्तन में तेल गरम कर प्याज, हरीमिर्चें और अदरक-लहसुन का पेस्ट अच्छी तरह भूनें. मैरीनेट किया मटन, सनराइज़ मीट मसाला और नमक मिक्स कर अच्छी तरह मिलाएं और धीमी आंच पर पानी छोड़ने तक भूनें. अब देशी घी मिलाएं और जरूरतानुसार पानी मिला कर मटन पका लें. धनियापत्ती से गार्निश कर राइस या रोटी के परोसें.

Holi 2024: होली पर मीठे में बनाएं स्टफ्ड ब्रेड फिंगर्स

होली का त्यौहार बस आ ही गया है और त्यौहार का मतलब है मिठाइयां. चूंकि इस समय मिठाइयों की खपत बहुत अधिक बढ़ जाती है इसलिए इन दिनों बाजार में बहुत मिलावटी मिठाइयां मिलतीं हैं जिनमे स्वाद बढ़ाने के लिए अनेकों केमिकल्स, टेस्ट इन्हेन्सर और रंगों का उपयोग किया जाता है. घर पर बनी मिठाइयां शुद्ध तो होतीं ही हैं साथ ही ये काफी सस्ती भी पड़तीं हैं. इन दिनों बाजार में मावा भी शुद्ध नहीं मिलता इसलिए बेहतर है कि बिना मावा की मिठाइयों का प्रयोग किया जाए. आज हम आपको ऐसी ही एक मिठाई बनाना बता रहे है जिसे आप बिना मावा के केवल ब्रेड से ही बड़ी आसानी से घर पर बना सकतीं हैं. तो आइए देखते है कि इसे कैस

  • कितने लोगों के लिए 6
  • बनने में लगने वाला समय 20 मिनट
  • मील टाइप वेज
  • सामग्री (कवर के लिए)
  • ब्रेड स्लाइस 6
  • कन्डेन्स्ड मिल्क आधा टिन
  • घी या तेल तलने के लिए
  • सामग्री (स्टफिंग के लिए)
  • नारियल बुरादा 2 कप
  • बारीक कटे मेवा 1/4 कप
  • मिल्क पाउडर 1/2 कप
  • इलायची पाउडर 1/4 टीस्पून

    विधि

    नारियल बुरादा को कड़ाही में बिना घी तेल के 5 मिनट तक भूनकर एक बाउल में निकाल लें. अब इसी कड़ाही में मेवा को भी भून लें. मिल्क पाउडर ,कन्डेन्स्ड मिल्क, इलायची पाउडर और मेवा को इसमें अच्छी तरह मिक्स करें. हथेली पर हल्का सा घी लगाकर तैयार मिश्रण को 6 भागों में डिवाइड करके लंबे लंबे रोल बना लें. अब ब्रेड स्लाइस के किनारे काट लें. यदि ब्रेड जरा भी सख्त है तो एक स्टीमर में पानी भरकर छलनी रखें और उस पर ब्रेड स्लाइस को 2-3 मिनट रखकर उठा लें इससे कितनी हार्ड ब्रेड स्लाइस एकदम ताजी जैसी हो जाएगी. अब इस ब्रेड स्लाइस को बेलन से एकदम पतला बेल लें. तैयार रोल को इनके अंदर रखकर रोल कर दें इसी प्रकार सारे फिंगर्स तैयार कर लें. दोनों तरफ के किनारों को भी हल्का सा दबा दें ताकि फिलिंग बाहर न निकले. अब इन फिंगर्स को गर्म घी में सुनहरा होने तक तलकर बटर पेपर पर निकाल लें. सर्विंग प्लेट में डालकर ऊपर से थोड़ा सा कन्डेन्स्ड मिल्क और कटे पिस्ता से सजाकर सर्व करें.

Holi 2023- यूं बनाएं मक्का पापड़ी चाट और साबूदाना फ्रूट बाउल

होली  के मौके को अगर आप भी खास बनाना चाहती हैं तो बनाए ये खास डिश मक्का पापड़ी चाट और खास बात यह होगी कि इस रेसिपी में आपका प्यार मिला होगा जो निश्चित तौर पर आपके त्योहार को और भी खास बना देगा.

स्टार्टर रैसिपीज- यूं बनाएं मक्का पापड़ी चाट और साबूदाना फ्रूट बाउल

सामग्री

–  1 कप मक्के का आटा

–  1/4 कप मैदा

–  1 बड़ा चम्मच तेल

–  1/2 कप दही

–  1 बड़ा चम्मच हरी चटनी

–  1 बड़ा चम्मच सोंठ

–  1 उबला आलू

1 प्याज बारीक कटा

–  1 टमाटर बारीक कटा

–  1 हरीमिर्च बारीक कटी

–  1 छोटा चम्मच धनियापत्ती कटी

–   लालमिर्च पाउडर

–  तलने के लिए तेल

– नमक स्वादानुसार.

विधि

मक्के के आटे और मैदे को छान कर नमक और तेल डाल कर गूंध लें. इसे पतला बेल कर तिकोने आकार में काट लें. गरम तेल में सुनहरा होने तक तलें. प्लेट में निकाल कर इस के ऊपर प्याजटमाटर व आलू काट कर डालें. ऊपर से दहीचटनीसोंठ और धनियापत्तीहरीमिर्च और नमक डाल कर सर्व करें.

साबूदाना फ्रूट बाउल

सामग्री

–  1/2 कप साबूदाना

–  1/2 कप नारियल का दूध

–  3 बड़े चम्मच कंडैंस्ड मिल्क

–  थोड़े काजूबादाम के टुकड़े

–  थोड़े से कटे फल सेबअनारसंतरापाइनऐप्पल.

विधि

साबूदाने को पानी में भिगो कर उबाल लें. छलनी में डाल कर ठंडे पानी से धो लें. एक कड़ाही में कंडैंस्ड मिल्क और नारियल का दूध डाल कर गरम करें. फिर साबूदाना डाल कर 1-2 मिनट तक चला लें. फिर कटे फल और काजूबादाम डाल कर परोसें.

वैज पोहा बौल्स

सामग्री

–  1 कप पोहा

–  1 बड़ा चम्मच लालपीली व हरीमिर्च बारीक कटी

1 छोटा प्याज बारीक कटा

2 छोटी गाजर कसी

–  2 बड़े चम्मच कच्चा नारियल कसा

–  हरीमिर्च बारीक कटी

–  1 बड़ा चम्मच तेल

–  1 बड़ा चम्मच गाढ़ा दही

–  1/2 चम्मच सरसों

–  करीपत्ता

–  हरीमिर्च कटी

–  नमक स्वादानुसार.

विधि

पोहे को पानी से धो कर छलनी में पानी निकालने के लिए रखें. फिर इस में सभी शिमलामिर्चप्याजहरीमिर्चकच्चा नारियलगाजरदही व नमक मिलाएं. अच्छी तरह मिला कर इस की छोटीछोटी बौल्स बनाएं. फिर स्टीमर में 10-12 मिनट स्टीम करें. कड़ाही में तेल गरम कर सरसों डालें. भुनने पर करीपत्ता और हरीमिर्च डाल कर पोहे की बौल्स डाल अच्छी तरह मिलाएं और फिर एक प्लेट में सजा कर चटनी के साथ परोसें.

सर्दियों के दिनों में बनाएं ये 3 मजेदार डिश

सर्दियों के दिनों में हमारी पाचन क्षमता अच्छी हो जाती है इसीलिए इस मौसम को सेहत बनाने वाला मौसम कहा जाता है. मौसम कोई सा भी हो सुबह शाम का नाश्ता हमेशा गृहिणी के लिये बहुत बड़ी समस्या ही रहता है कि ऐसा क्या बनाया जाए जो हैल्दी भी हो और टेस्टी भी साथ ही जिसे घर के सभी सदस्य स्वाद लेकर खाएं भी. आज आपकी इसी समस्या को हल करने की कोशिश कर रहे हैं. आज हम आपको 3 बहुत ही टेस्टी और हैल्दी ब्रेकफास्ट बनाना बता रहे हैं इन्हें आप सुबह या शाम के नाश्ते में घर में उपलब्ध सामग्री से ही बड़ी आसानी से बना सकतीं हैं. तो आइए देखते हैं कि इन्हें कैसे बनाया जाता है-

-स्प्राउट सैंडविच
कितने लोगों के लिए 4
बनने में लगने वाला समय 30 मिनट
मील टाइप वेज
सामग्री(कवर के लिए)
अंकुरित मूंग 1 कप
पालक प्यूरी 1 टीस्पून
ब्रेड क्रम्ब्स 1/4 कप
अदरक हरी मिर्च पेस्ट 1/4 टीस्पून
नमक 1/4 टीस्पून
हींग 1 चुटकी
बटर 1 टीस्पून
सामग्री(फिलिंग के लिए)
उबला आलू 1
शिमला मिर्च 1
टमाटर 1
मेयोनीज 1 टीस्पून
शेजवान सॉस 1 टीस्पून
टोमेटो सॉस 1/2 टीस्पून
चिली फ्लैक्स 1/4 टीस्पून
चाट मसाला 1/2 टीस्पून

विधि
बटर को छोड़कर अंकुरित मूंग को सैंडविच की सभी सामग्री और 1कप पानी के साथ एक साथ पेस्ट फॉर्म में पीस लें. फिलिंग की सब्जियों को एक बाउल में डालकर मेयोनीज, टोमेटो सॉस, शेजवान सॉस और टोमेटो सॉस अच्छी तरह मिलाएं. सैंडविच मेकर में बटर लगाकर 1 बड़ा चम्मच पतला पतला चीले जैसा मूंग का बेटर फैलाएं और बंद करके लाइट ब्राउन होने तक सेक लें इसी प्रकार दूसरी शीट तैयार कर लें. अब एक शीट को टोस्टर में रखकर फिलिग रखकर ऊपर से चिली फ्लैक्स और चाट मसाला अच्छी तरह बुरकें. दूसरी शीट से कवर करके बटर लगाएं और गोल्डन ब्राउन होने तक सेककर सर्व करें.

-फ्रायड मटर क्यूब्स
कितने लोंगों के लिए 6
बनने में लगने वाला समय 30 मिनट
मील टाइप वेज

सामग्री
मटर के दाने 2 कप
बेसन 1/2 कप
खट्टा दही 1 कप
अदरक, हरी मिर्च पेस्ट 1 टीस्पून
हींग 1 चुटकी
नमक स्वादानुसार
सामग्री(बघार के लिए)
तेल 1 बड़ा चम्मच
साबुत लाल मिर्च 4
लम्बाई में कटी हरी मिर्च 2
राई के दाने 1/4 टीस्पून
कश्मीरी लाल मिर्च 1/2 टीस्पून
बारीक कटी हरी धनिया 1 टीस्पून

विधि
मटर के दानों को बेसन, दही, अदरक, हरी मिर्च पेस्ट, हींग और नमक के साथ अच्छी तरह पीस लें. अब इसमें 2 कप पानी मिला लें. तैयार मिश्रण को एक पैन में डालकर गैस पर लगातार चलाते हुए गाढ़ा होने तक पकाएं. जब मिश्रण गाढ़ा होकर पैन में चिपकना छोड़ दे तो एक चिकनाई लगी ट्रे में 1/2 इंच की मोटाई में फैलाएं. ठंडा होने पर चौकोर क्यूब्स में काटें. बघार की समस्त सामग्री को तेल में डालें और क्यूब्स के ऊपर अच्छी तरह फैलाएं. टेस्टी मटर के क्यूब्स को चाय कॉफी के साथ सर्व करें.

-बाजरा चीजी बॉल्स
कितने लोगों के लिए 6
बनने में लगने वाला समय 30 मिनट
मील टाइप वेज

सामग्री
बाजरा आटा 1 कप
उबले आलू 2
उबली मटर 1/2 कप
उबली गाजर 1/2 कप
बारीक कटा प्याज 1
बारीक कटी हरी मिर्च 4
जीरा 1 टीस्पून
नमक 1 टीस्पून
बारीक कटा हरा धनिया 1 टीस्पून
चीज क्यूब्स 2
तलने के लिए तेल पर्याप्त मात्रा में

विधि
बाजरे के आटे में चीज क्यूब्स और तेल को छोड़कर सभी सामग्री को अच्छी तरह मिला लें. चीज क्यूब्स को किसकर 6 बॉल्स तैयार कर लें. अब तैयार मिश्रण में से 1 टेबलस्पून मिश्रण लेकर हथेली पर फैलाएं और चीज बॉल को रखकर अच्छी तरह बंद कर दें. इसी प्रकार सारे बॉल्स तैयार कर लें. अब इन्हें मध्यम आंच पर सुनहरा होने तक तलकर बटर पेपर पर निकाल लें.टोमेटो सॉस या हरी चटनी के साथ सर्व करें.

आप भी तो नहीं करते ये ब्रेकफास्ट मिस्टेक्स

‘ब्रे  कफास्ट लाइक द किंग,’ ‘लंच लाइक द प्रिंस’ और ‘डिनर लाइक द पौपर’ यह कहावत तो आप ने सुनी ही होगी. इस कहावत को पढ़ कर आप समझ ही गई होंगी कि ब्रेकफास्ट हमारे मील का कितना अहम पार्ट होता है, तभी तो न्यूट्रिशनिस्ट ‘ब्रेकफास्ट लाइक द किंग’ की सलाह देते हैं क्योंकि रात के लंबे ब्रेक के बाद सुबह ब्रेकफास्ट हमारे शरीर को ग्लूकोस प्रदान करने का काम करता है, जिस से हमारे शरीर में ऐनर्जी बूस्ट होती है.

मगर इतना सब जानने के बाद भी कई बार हम अपने खराब लाइफस्टाइल की वजह से ब्रेकफास्ट को ही स्किप कर देते हैं और सीधा लंच करने के औप्शन को ही चूज करते हैं, तो कई बार जानकारी के अभाव में हम खुद को ज्यादा पतला करने के चक्कर में ब्रेकफास्ट को ही स्किप कर देते हैं, जो हमारे मैटाबोलिज्म को और स्लो बना कर हमारे शरीर को फुलाने का काम करता है, तो कई बार हम रोजाना ब्रेकफास्ट तो करते हैं, लेकिन हैल्दी नहीं, जिस से न तो हमारे शरीर को प्रौपर न्यूट्रिशंस मिल पाते हैं और खुद को पूरा दिन थकाथका महसूस करते हैं, जो हमारी ओवरऔल प्रोडक्टिविटी को कम करने का काम करता है.

ऐसे में हमारे लिए यह जानना बहुत जरूरी है कि हम अकसर ब्रेकफास्ट के साथ ऐसी कौन सी गलतियां करते हैं, जो हम पर भारी पड़ सकती हैं:

स्किप द ब्रेकफास्ट

लेट नाइट डिनर करने की हैबिट और वह भी हाई कैलोरीज डिनर, जिस कारण से अकसर ब्रेकफास्ट यह सोच कर स्किप कर देना कि इस से हम अपनी रात को ली कैलोरीज को कंट्रोल कर पाएंगे, जबकि ऐसी सोच बिलकुल गलत है क्योंकि रात की लंबी फास्टिंग के बाद सुबह का ब्रेकफास्ट हमारे मैटाबोलिज्म को बूस्ट कर के हमारे वजन को कंट्रोल तो रखता ही है, साथ ही हमारे ग्लूकोस लैवल को कंट्रोल रख कर हमें पूरा दिन स्ट्रैस से भी दूर रखने में मदद करता है. लेकिन यह गलती न सिर्फ हमारे मैटाबोलिज्म पर भारी पड़ती है, साथ ही इस के कारण ब्लड कोलैस्ट्रौल, दिल की बीमारी व टाइप 2 डायबिटीज का खतरा भी काफी ज्यादा बढ़ जाता है. इसलिए ब्रेकफास्ट को स्किप करने की भूल बिलकुल न करें और जो भी ब्रेकफास्ट करें वह हाई प्रोटीन, फाइबर से भरपूर हो.

फैक्ट: जो लोग ब्रेकफास्ट स्किप करते हैं, देखने में आया है कि वे लंच हैवी लेने के साथ ज्यादा कैलोरीज ले लेते हैं, जो सेहत के लिए तो ठीक है ही नहीं, साथ ही ऐसे लोगों में पूरा दिन आलस देखने को मिलता है यानी वे ज्यादा स्फूर्ति से काम करने में समर्थ नहीं हो पाते हैं.

टिप: ब्रेकफास्ट में आप को प्रोटीन का वन ऐक्सचेंज जरूर लेना चाहिए यानी अप्प्रोक्स 7-8 ग्राम प्रोटीन. इस के लिए आप ब्रेकफास्ट में 1 बाउल स्प्राउट्स, 40 ग्राम पनीर, 40 ग्राम टोफू, 1 अंडा आदि में से किसी को चूज कर सकते हैं. साथ ही एक ऐक्सचेंज कैल्सियम भी लें. इस के लिए ब्रेकफास्ट में मिल्क, कर्ड, लस्सी में से किसी एक को शामिल करें.

मिस द प्रोटीन रिच ब्रेकफास्ट

हम में से अधिकांश लोग ब्रेकफास्ट में वह खाना पसंद करते हैं, जो हमें अच्छा लगता है यानी हम ब्रेकफास्ट में सिर्फ अपनी जीभ के स्वाद का ध्यान रखते हैं, जिस के लिए अकसर हम ब्रेकफास्ट में हाई कार्ब्स ले लेते हैं, जो हमारे ब्लड शुगर लैवल को बढ़ा कर उसे फैट्स में बदलने का काम करता है. यह डायबिटीज के साथसाथ अन्य बीमारियों का भी बड़ा कारण है, जबकि प्रोटीन रिच ब्रेकफास्ट लेने से हमारी मसल्स की हैल्थ तो ठीक रहती ही है, साथ ही इस से हमें लंबे समय तक भूख भी नहीं लगती है, जो हमें पूरा दिन ऐक्स्ट्रा कैलोरीज लेने से रोकने का काम करता है.

यही नहीं बल्कि प्रोटीन रिच ब्रेकफास्ट टीरोसिने नामक ऐमिनो ऐसिड के लैवल को बढ़ाता है, जो डोपामाइन को उत्पन्न कर के हमारी ऐनर्जी और हमारे मूड को बूस्ट करने का काम करता है. लेकिन ब्रेकफास्ट में प्रोटीन न लेने की मिस्टेक यानी ज्यादा कार्ब्स वाला ब्रेकफास्ट लेने से आप के शरीर में ग्लूकोस लैवल तो बढ़ाता ही है, साथ ही आप को जल्दीजल्दी भूख भी लगती है, जो  तेजी से वजन बढ़ाने के लिए जिम्मेदार है.

फैक्ट: जो लोग प्रोटीन के साथसाथ बैलेंस्ड वे में ब्रेकफास्ट करते हैं , उन्हें जल्दीजल्दी भूख नहीं लगती है. साथ ही उन्हें अपने वेट को मैनेज करने में भी आसानी होती है.

टिप: रोज बदलबदल कर ब्रेकफास्ट करें. प्रोटीन के लिए आप अंडा, चीला, केला, दाल का चीला, पालक रैप, दाल की रोटी, ओटमील जैसे औप्शन को अपनी पसंद के हिसाब से चूज कर सकते हैं.

फास्ट ईटिंग

सिट ऐंड ईट, यह तो हम सब बचपन से सुनते आ रहे हैं. लेकिन आज हमारा लाइफस्टाइल ऐसा हो गया है कि हमारे पास खुद के लिए व ब्रेकफास्ट करने के लिए भी कुछ पल फुरसत के नहीं होते, जिस कारण कई बार हम खड़ेखड़े ही ब्रेकफास्ट करने लगते हैं या फिर औफिस, स्कूल या कालेज के लिए लेट होने पर चलतेचलते ही ब्रेकफास्ट करना उचित समझ लेते हैं, जिस के कारण न तो हम ब्रेकफास्ट को ऐंजौय कर पाते हैं और न ही खाने को अच्छे से चबाते हैं, जिस से पाचनतंत्र पर असर पड़ने के साथसाथ शरीर में न्यूट्रिएंट्स का अवशोषण भी ठीक से नहीं हो पाता है और साथ ही जल्दीजल्दी में कई बार ज्यादा खाने की आदत भी आप को मोटापे का शिकार बना सकती है.

इसलिए सिट ऐंड ईट प्रौपरली वाले सिद्धांत को अपना कर ब्रेकफास्ट करने की आदत डालें. इस से आप अच्छे से खाने को चबाचबा कर खाएंगे भी और खाते वक्त क्वांटिटी का भी ध्यान रख पाएंगे.

फैक्ट: रिसर्च में यह साबित हुआ है कि जब लोग नौर्मल स्पीड से ब्रेकफास्ट करते हैं तो खाने को ज्यादा ऐंजौय करने के साथसाथ उन का पाचनतंत्र भी दूसरों के मुकाबले ज्यादा बेहतर होता है.

टिप: हमेशा उठने के 2-3 घंटे के भीतर आप को ब्रेकफास्ट कर लेना चाहिए ताकि अलर्टनैस बढ़ने के साथसाथ आप का ऐनर्जी लैवल बूस्ट हो सके. मतलब ब्रेकफास्ट करने का आइडियल टाइम 8:30 से 10:00 बजे के बीच होना चाहिए.

टोटली आउट कार्ब्स

हम जब भी खुद के वेट को कंट्रोल करने की बात करते हैं, तो सब से पहले अपने खाने खासकर के अपने ब्रेकफास्ट से पूरी तरह से कार्ब्स को आउट कर देते हैं, जबकि ये हमारी बौडी व ब्रेन को लंबे समय तक फ्यूल प्रदान करने का काम करते हैं. लेकिन अब आप कौंप्लैक्स कार्ब्स, जिन में विटामिंस, मिनरल्स व फाइबर होता हैं वाले ब्रेकफास्ट को बिलकुल अपनी

डाइट से आउट कर देते हैं, तो इस के कारण आप को थकान, चक्कर आना जैसी शिकायत होने लगती है, साथ ही आप ज्यादा शारीरिक कार्य करने में समर्थ नहीं हो पाते हैं. इसलिए ब्रेकफास्ट प्रोटीन रिच लेने के साथसाथ उस में बैलेंस्ड मात्रा में कौंप्लैक्स कार्ब्स भी होने चाहिए ताकि आप खुद को हमेशा ऐनर्जेटिक भी फील कर सकें.

फैक्ट: ओटमील कौंप्लैक्स कार्ब्स का बहुत अच्छा स्रोत है, जो आप के शरीर को ऊर्जा देने के साथसाथ उस में मौजूद फाइबर दिल की बीमारी से भी दूर रखने का काम करता है.

टिप: आप को रोजाना अपने ब्रेकफास्ट में कौंप्लेक्स कार्ब्स के रूप में 2 ऐक्सचेंज जरूर शामिल करने चाहिए. इस के लिए आप वैजिटेबल पोहा, वैजिटेबल उपमा, वैजिटेबल दलिया, ओट्स आदि में से किसी भी एक को ले सकते हैं.

फ्रूट्स की जगह जूस लेने की गलती

अकसर आज हमारे मौडर्न लाइफस्टाइल में मौर्निंग ब्रेकफास्ट में जूस शामिल हो गया है, जबकि जूस कैलोरीज में हाई होने के साथ उस में फाइबर कम हो जाता है, जो भले ही आप के टेस्ट को बढ़ाने का काम करता है, लेकिन इसे लंबी फास्टिंग के बाद सुबह लेने से पाचनतंत्र डिस्टर्ब होने के साथसाथ आप को कब्ज की भी शिकायत हो सकती है. ऐसे में आप ब्रेकफास्ट में जूस की जगह फ्रूट्स शामिल करें क्योंकि ये फाइबर व न्यूट्रिएंट्स से भरपूर होने के कारण आप को पूरा दिन काफी ऐनर्जेटिक रखने का काम करते हैं. साथ ही ये आप की बौडी को भी डिटौक्स करने में मददगार होते हैं.

फैक्ट: 1 गिलास जूस से आप को जीरो फाइबर मिलता है, जबकि 1 रौ एप्पल से आप को 4 ग्राम फाइबर मिलता है.

टिप: आप को रोजाना 150 ग्राम तक फ्रूट लेना चाहिए.

टी, कौफी साथ लेने की आदत

अकसर हम सभी के दिन की शुरुआत चायकौफी से ही होती है. उस के बावजूद हम हमेशा ब्रेकफास्ट के साथ टी, कौफी लेना जरूरी समझते हैं ताकि खुद को फ्रैश फील कर सकें. मगर आप ब्रेकफास्ट के साथ टी, कौफी लेते हैं तो इस से ब्रेकफास्ट के जरीए जो न्यूट्रिशन आप ले रहे होते हैं, वे शरीर में आसानी से अवशोषित नहीं हो पाते हैं. ऐसे में जरूरी है कि आप ब्रेकफास्ट से 1 घंटा पहले व 1 घंटे बाद चाय या कौफी का सेवन करें.

Breakfast में क्या खाएं क्या नहीं

अकसर यह कहा जाता है कि सुबह का नाश्ता दिन का सब से महत्त्वपूर्ण भोजन है. ऐसा इसलिए क्योंकि पूरी रात नींद लेने और 12 घंटे या इस से अधिक समय तक बिना भोजन के रहने के बाद जब आप का शरीर पोषण के लिए तरस रहा होता है, तो उस की आपूर्ति सुबह का नाश्ता ही करता है. इस के अलावा जागने पर आप के मस्तिष्क में, जो काम करने के लिए ग्लूकोज इस्तेमाल करता है, ऊर्जा की कमी होती है. सुबह का नाश्ता ग्लूकोज की मात्रा को बैलेंस करता है और आप के चयापचय (रस प्रक्रिया) को दोबारा क्रियाशील बनाता है.

इन के अलावा, सुबह नाश्ता करने के अन्य लाभ भी हैं. यह आप की स्मरणशक्ति को बेहतर बनाता है और आप के वजन को काबू में रखने में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाता है. सुबह के नाश्ते को नियमित रूप से छोड़ने वालों को दिन में जब भूख लगती है तो वे ज्यादा खाते हैं, जिस से उन का वजन बढ़ता ही है. सुबह नाश्ता करने की अच्छी आदत उच्च रक्तचाप, हृदय रोग और मधुमेह से पीडि़त लोगों के लिए भी मददगार होती है.

हो पोषक तत्त्वों से भरपूर

न्यूट्रिशनिस्ट कहते हैं कि सुबह का नाश्ता आप को जागने के बाद 2 घंटे के अंदर कर लेना चाहिए. लेकिन इस में यह भी अहम होता है कि आप क्या खाते हैं. दिन का यह पहला भोजन कैल्सियम, आयरन, प्रोटीन, फाइबर और विटामिन बी जैसे जरूरी पोषक तत्त्वों से भरपूर होना चाहिए. लेकिन आमतौर पर अपने देश में सुबह के नाश्ते में खाई जाने वाली चीजें अच्छे स्वास्थ्य के लिए नहीं बनी होतीं. उन में खूब इस्तेमाल की गई चीनी, मक्खन, घी और तेल वगैरह कभीकभी एक बड़ी समस्या का कारण बनते हैं. चिकनाई व तेलयुक्त भोजन में खराब वसा की उच्च मात्रा होती है, जो स्वास्थ्य के लिए नुकसानदायक है. इस में अत्यधिक कैलोरी और वसा भी खूब होती है, जिस के परिणामस्वरूप मोटापा बढ़ता है और खराब कोलैस्ट्रौल की मात्रा बढ़ती है. धमनियों की भित्तियों पर वसा और प्लाक का धीरेधीरे लेकिन लगातार जमा होना रक्तप्रवाह को बाधित करता है और अंतत: हृदयाघात या स्ट्रोक को जन्म देता है. उच्च कोलैस्ट्रौल पित्त का असंतुलन भी पैदा कर सकता है.

ये भी पढ़ें- जेनेटिक टेस्टिंग है मददगार 

फोर्टिस अस्पताल, नई दिल्ली की कंसल्टैंट डा. सिमरन सैनी का कहना है कि नाश्ते में घी और मक्खन का अधिक होना स्वास्थ्य के लिए अच्छा नहीं होता. पूड़ी, मक्खन के परांठे, सफेद डबलरोटी और ब्रैड रोल जैसे गहरे तले हुए व्यंजनों का नियमित सेवन शरीर में खराब वसा को खतरनाक मात्रा में एकत्रित कर सकता है. चिकनाई व वसायुक्त और मीठे भोजन का इम्यून सिस्टम यानी प्रतिरक्षा तंत्र पर भी नकारात्मक प्रभाव पड़ता है, जो जुकाम से ले कर कैंसर तक की संभावना को बढ़ाता है. अपने आहार में घी, मक्खन और चीनी के नियमित सेवन के स्थान पर स्वास्थ्यवर्धक विकल्पों को अपनाना बीमारी मुक्त जीवन की कुंजी है.

मीठा करें कम

स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए आप को सुबह के नाश्ते में अतिरिक्त मीठे को कम करने और चीनीयुक्त चीजों को उच्च फाइबर वाले और कम मीठे पदार्थों से बदलने की आवश्यकता होती है. मीठे के शौकीन एक सुरक्षित विकल्प के रूप में चीनी के विकल्प इस्तेमाल कर सकते हैं, जो मधुमेह, मोटापे और अन्य स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं से पीडि़त लोगों के लिए भी आदर्श हैं. स्टेविया, एस्पारटेम और सूक्रैलोस चीनी के ऐसे विकल्प हैं, जो पूरी दुनिया में लोकप्रिय हैं और अपने देश में भी उपलब्ध हैं. परंतु इन का प्रयोग डाक्टर की सलाह से ही करें. तो सुबह के नाश्ते में क्या खाना है और किस से बचना है? इस सवाल का जवाब यह है कि ऐसी चीजें चुनिए जो फाइबर, प्रोटीन और कार्बोहाइड्रेट से भरपूर हों और अतिरिक्त मीठे की मात्रा कम रखती हों. अपने आहार को बदलते रहना भी जरूरी है. एक ही चीज को हर रोज मत खाइए. एक ही दिन में भी नाश्ते की भरपूर विविधता रखिए और थोड़ीथोड़ी मात्रा में हर चीज खाइए.

सुबह के स्वास्थ्यवर्धक नाश्ते के कुछ विकल्पों में दलिया, जई, फलों का सलाद, गेहूं की डबलरोटी, मल्टीग्रेन डोसा, पोहा, उपमा, सांबर, दाल, सोया, अंकुरित दालें, सब्जियों के सैंडविच, मक्का, कम वसा या शून्य वसा का दूध एवं दही, लस्सी, कौटेज चीज, ताजे फलों का रस, भूरा चावल, संपूर्ण दानेदार अन्न और केला, तरबूज एवं सेब जैसे फल शामिल हैं. चीनी की अधिक मात्रा रखने वाली चीजों से बचें जैसेकि पेस्ट्री और डब्बाबंद फल. खूब सारे घी या तेल में बने हुए परांठे और आमलेट भी न खाएं. इन के अलावा बहुत ज्यादा मक्खन या घी, सफेद डबलरोटी, सफेद चावल, फ्रैंच टोस्ट, वसायुक्त मीट, संपूर्ण दूध से बना दही और अन्य उत्पाद भी न खाएं. मक्खन और चीनी के स्वास्थ्यवर्धक विकल्पों को चुनें. सुबह एक अच्छा नाश्ता बच्चों और किशोरकिशोरियों के लिए और भी ज्यादा जरूरी है. जो सुबह स्वास्थ्यवर्धक नाश्ता करते हैं, उन्हें अधिक ऊर्जा मिलती है और उन के द्वारा शारीरिक क्रियाकलापों में भाग लिए जाने की संभावना अधिक होती है, जिस से मोटापे और जीवनशैली से जुड़ी बीमारियों की रोकथाम में मदद मिलती है.

ऐसे बच्चे स्कूल में बेहतर प्रदर्शन करते हैं. विशेषज्ञों का कहना है कि वे चिड़चिड़े, बेचैन, थके हुए या तुनकमिजाज भी अपेक्षाकृत कम होते हैं. इसलिए हर किसी को सुबह के नाश्ते को गंभीरता से लेना चाहिए, भले ही वह बालिग हो या बच्चा.

-डा. सिमरन सैनी, फोर्टिस हौस्पिटल

ये भी पढ़ें- जब खतरा हो डायबिटीज का

Breakfast की ये 4 गलतियां पड़ सकती हैं आप पर भारी

एक कहावक तो आपने सुना ही होगा दिन का नाश्ता किसी राजा की तरह करना चाहिए और रात का खाना भिखारी की तरह. दरअसल, इस कहावत में अच्छी सेहत का बेहतरीन मंत्र छिपा हुआ है. सुबह का नाश्ता दिन का सबसे महत्वपूर्ण भोजन है. नाश्ता ही हमारे मेटाबौलिज्म को किकस्टार्ट करता है. ऐसे में इसमें खाए जाने वाली चीजों का चुनाव करते वक्त खास सावधानी बरतने की जरूरत होती है. अपना नाश्ता चुनने में हममें से बहुत से लोग गलती कर जाते हैं. जिसका खामियाजा हमारी सेहत को भुगतना पड़ता है. नाश्ते में या तो हम बहुत ज्यादा मात्रा में शुगर प्रोडक्ट्स लेने लगते हैं या फैट की असंतुलित मात्रा लेना शुरू कर देते हैं. ऐसे में हमारी सेहत को काफी नुकसान उठाना पड़ सकता है. आज हम आपको 5 ऐसी गलतियों के बारे में बताने वाले हैं जो नाश्ते को लेकर हम करते हैं और जिससे सेहत संबंधी गंभीर समस्याओं की संभावना बढ़ती है.

1. नाश्ता स्किप कर देना

सुबह का नाश्ता न करना सेहत के साथ खिलवाड़ है. इससे मेटाबौलिज्म बुरी तरह से प्रभावित होता है. सुबह का नाश्ता दिन भर में आपकी पाचन शक्ति की बेहतरी के लिए जिम्मेदार होता है. यह लो ब्लड शुगर लेवल को रोकने में मददगार होता है. नाश्ता करने से आप दिन भर एनर्जेटिक होकर काम कर सकते हैं. इससे थकान नहीं होती है.

ये भी पढ़ें- Health और Beauty के लिए फायदेमंद है एलोवेरा जूस

2. उपयुक्त मात्रा में नाश्ता न करना

नाश्ते में कितनी मात्रा में फूड्स खा सकते हैं इस बारे में भी जानना बहुत जरूरी है. बहुत ज्यादा खा लेना भी सही नहीं है. विशेषज्ञों के मुताबिक एक औसत नाश्ते में एक कटोरी या 5-8 चम्मच अनाज, 10-15 ग्राम लीन प्रोटीन शामिल होना चाहिए.

3. देर से नाश्ता करना

नाश्ते का फायदा तभी है जब जागने के 1 घंटे के भीतर कर लिया जाए. नाश्ते में आप जो कुछ भी खाते हैं उससे आपके पूरे दिन का भोजन प्रभावित होता है. अगर आप रात में भारी भोजन करते हैं तो आप नाश्ता भी देर से करेंगे. साथ ही अगर आप देर से नाश्ता करते हैं तो आप दिन भर ज्यादा खाते हैं.

4. कार्ब्स और प्रोटीन का न होना

संतुलित नाश्ते के लिए ये दोनों पोषक तत्व अपनी डाइट में जरूर शामिल करें. लोग नाश्ते में या तो कार्ब्स का सेवन करते हैं या प्रोटीन का. लेकिन एक आदर्श नाश्ता वह है जिसमें कौम्प्लेक्स कार्बोहाइड्रेट भी हो और साथ ही उच्च जैविक मूल्यों वाला प्रोटीन भी शामिल हो. कौम्पेक्स कार्ब्स शरीर में बिना फैट बढ़ाए एनर्जी की स्थिरता को मेंटेन रखने तथा ब्लड शुगर को स्थिर रखने में मददगार होते हैं.

ये भी पढ़ें- Fitness Tips: प्रौफेशनल से जानें कैसे रखें फिटनेस का ख्याल

Monsoon Special: नाश्ते में बनाएं पैनकेक चीज सैंडविच

बारिश में अक्सर कुछ चटपटा खाने का मन करता है. नाश्ता हर गृहिणी के लिए अक्सर बहुत बड़ी समस्या होती है क्योंकि इसे हर सुबह या शाम को बनाना होता है इसलिए इसका पौष्टिक होना भी अत्यंत आवश्यक है. हमारे घरों में सैंडविच बनाने के लिए आमतौर पर ब्रेड का प्रयोग किया जाता है परन्तु एक तो मैदा से बनाई जाने के कारण दूसरे प्रिजर्वेटिव इत्यादि डाले जाने से इसका कम से कम प्रयोग किया जाना चाहिए. यूं भी पौष्टिकता के लिहाज ताजे खाद्य पदार्थ ही खाना चाहिए. इसी तारतम्य में आज हम आपको बेसन से सैंडविच बनाना बता रहे हैं. बेसन को मूलतः चने की दाल को पीसकर बनाया जाता है इससे अनेकों मिठाईयां, नाश्ते और सेव आदि नमकीन बनाये जाते हैं. तो आइए देखते हैं कि इसे कैसे बनाया जाता है-

कितने लोंगों के लिए         4

बनने में लगने वाला समय    30 मिनट

मील टाइप                        वेज

सामग्री

बेसन                                1 कप

सूजी                                 1/4 कप

नमक                                स्वादानुसार

खाने वाला पीला रंग            1 चुटकी

मीठा सोडा                        1/4 टीस्पून

तेल                                    2 टेबलस्पून

ये भी पढ़ें- Monsoon Special: बारिश में बनाएं भुट्टा कटलेट

सामग्री (फिलिंग के लिए)

बारीक कटी शिमला मिर्च         1

बारीक कटी गाजर                   1

कटी हरी मिर्च                          4

कटा हरा धनिया                   1 टेबलस्पून

उबला मैश किया आलू           1

किसा चीज                           2 टेबलस्पून

नमक                                  1/4 टीस्पून

लाल मिर्च                             1/2 टीस्पून

चाट मसाला                         1/4 टीस्पून

विधि

बेसन और सूजी को एक कप पानी में घोलकर 15 मिनट के लिए रख दें ताकि सूजी फूल जाए. भरावन की समस्त सामग्री को एक साथ मिला लें. अब बेसन के घोल में आधा कप पानी, सोडा, नमक और पीला रंग डालकर अच्छी तरह चलाएं.  एक नॉनस्टिक पैन में तेल लगाकर तैयार बेसन के मिश्रण से मंदी आंच पर दोनों तरफ हल्का सा  सेंककर पैनकेक बनाएं. इसी तरह सारे पैनकेक तैयार करें. 1 टेबलस्पून भरावन के मिश्रण को एक पैनकेक पर फैलाएं, ऊपर से दूसरे पैनकेक से कवर कर दें. एक नॉनस्टिक पैन में 1 चम्मच मक्खन लगाकर तैयार सैंडविच को रखकर ढक दें ताकि चीज मेल्ट हो जाये. पलटकर दूसरी तरफ से भी सेकें. बीच से काटकर टोमेटो सॉस के साथ सर्व करें.

Monsoon Special: स्नैक्स में खिलाएं पनीर हौट डौग

Monsoon Special: ईवनिंग स्नैक्स में बनाएं पौष्टिकता से भरपूर हांडवो

ईवनिंग और मॉर्निंग दोनों ही समय में कुछ न कुछ नाश्ते की आवश्यकता होती ही है. आजकल अधिकांश घरेलू कामों के लिए मेड होती है जिससे महिलाओं को काम से तो आराम मिला है पर वहीं शारीरिक परिश्रम कम हो जाने से बी पी और शुगर जैसी बीमारियां भी जन्म लेने लगीं हैं इसीलिये आज अधिकांश लोग हैल्दी नाश्ता चाहते हैं जिससे उन्हें पोषण तो भरपूर मिले परन्तु कैलोरी न बढ़े. खमीर उठाकर बनाये  जाने वाले खाद्य पदार्थों को सेहत के लिए बहुत अच्छा माना जाता है क्योंकि खाद्य पदार्थों में खमीर उठाने वाला बैक्टीरिया बहुत सेहतमन्द होता है. खमीरी खाद्य पदार्थों में एमिनो एसिड, प्रोटीन, और विटामिन्स पाए जाते हैं जो मसल्स को रिपेयर करने के साथ साथ शरीर को मजबूती प्रदान करते हैं. इसी तारतम्य में हम आपको एक ऐसे नाश्ते को बनाना बता रहे हैं जिसे हमने दाल चावल में खमीर उठाकर बनाया है जिसे बनाना काफी आसान है और ये नाश्ता पौष्टिकता से भरपूर भी है तो आइए देखते हैं कि इसे कैसे बनाते हैं-

कितने लोंगों के लिए           8

बनने में लगने वाला समय     30 मिनट

मील टाइप                          वेज

सामग्री

मिक्स दाल                 1 कप

चावल                         1/2 कप

किसी लौकी                 1 कप

किसी गाजर                  1 कप

बारीक कटा प्याज          1

अदरक हरी मिर्च पेस्ट      1 टीस्पून

ये भी पढ़ें- Monsoon Special: आलू की हैं शौकीन तो आज बनाएं तवा आलू मसाला

कटी हरी धनिया              1 टीस्पून

नमक                             1/2 टीस्पून

तेल                                 1 टीस्पून

चाट मसाला                      1/2 टीस्पून

सामग्री (बघार के लिए)

मीठा नीम                          8 पत्ती

राई                                    1/4 टीस्पून

लाल मिर्च पाउडर             1/4 टीस्पून

तेल                                 1/2 टीस्पून

विधि

दाल और चावल को 5-6 घण्टे भिगोकर पानी निकाल दें. इसे आधे कप पानी के साथ मिक्सी में पीस लें. अब इसे रात भर अथवा 8 घण्टों के लिए ढककर रख दें ताकि इसमें खमीर उठ जाए. अब इसमें सभी सब्जियां, हरी धनिया, नमक, अदरक, हरी मिर्च का पेस्ट और 1/2 कप पानी डालकर भली भांति चलाएं. एक चम्मच तेल में बघार की सामग्री डालकर तैयार घोल में डालकर चलाएं. एक कढ़ाई या भगोने में 1 लीटर पानी उबलने रखें. अब एक किनारे वाली प्लेट या थाली में चिकनाई लगाकर तैयार मिश्रण को डालकर भगौने के ऊपर रखकर ढक दें. भाप में 25 मिनट तक पकाएं. ठंडा होने पर चौकोर टुकड़ों में काट लें. अब एक नॉनस्टिक पैन में 1/4 टीस्पून तेल डालकर कटे टुकड़ों को मद्धिम आंच पर दोनों तरफ से सुनहरा होने तक सेंकें. ऊपर से चाट मसाला बुरककर चटनी या सॉस के साथ सर्व करें.

ये भी पढ़ें- Monsoon Special: नाश्ते में बनाएं इंस्टेंट जाली डोसा

अनलिमिटेड कहानियां-आर्टिकल पढ़ने के लिएसब्सक्राइब करें